किडनी और लीवर को स्वस्थ रखें इन आयुर्वेदिक दवाओं से

1335
kidney-fail-symptoms
image credits: www.farxiga-hcp.com

किडनी और लीवर हमारे शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न करने के लिए बेहद ज़रूरी हैं। किडनी हमारे शरीर में पानी और इलेक्ट्रोलाइट का संतुलन बनाती है, अम्ल-क्षीर का संतुलन बनाती है तथा रक्त को साफ़ करता है। वहीं लीवर बाएल का स्त्राव करता है, मेटाबोलिज्म में मदद करता है तथा प्रोटीन के उत्पादन में मदद करता है। (ayurvedic medicine or dawa for kidney and liver, kidney and liver ka gharelu ilaaj)

 

इन दोनों अहम अंगों को स्वस्थ रखने के लिए आप इन आयुर्वेदिक दवाओं का सेवन कर सकते हैं-

 

पुनर्नवा 

यह दवा शरीर से सुजन घटाने में मदद करती है। किडनी के कमजोर होने पर या फेलियर होने पर पुनर्नवा का सेवन किडनी की सुजन घटा सकता है और लक्षणों में राहत दे सकता है। लीवर में आई सुजन को भी यह दवा कम कर सकती है। इसका नियमित सेवन शरीर में उर्जा का संचार करता है।

 

अदरक 

किडनी और लीवर की सफाई में अदरक बड़ी मदद कर सकता है। इसका सेवन करने से शरीर से विषाक्त तत्व बाहर निकलते हैं और पाचन क्रिया भी बेहतर हो जाती है। इसे आप ग्रीन टी या काढ़े में उबालकर पी सकते हैं और शरीर को साफ़ रख सकते हैं।

 

वरुण 

वरुण की छाल का सेवन करने पर किडनी फेलियर से जड़ से निजात पाई जा सकती है। यह मूत्राशय को सशक्त करता है, पथरी का प्रभावी इलाज है तथा गंभीर माइग्रेन से भी निजात दिला सकता है। इसे आप उबालकर काढ़े के रूप में पी सकते हैं या टेबलेट के रूप में ले सकते हैं।

 

हल्दी के गुण

हल्दी में शरीर को अंदर से साफ़ करने के गुण होते हैं। प्राचीनतम पद्धतियों से आधुनिक चिकित्सा विज्ञान तक हल्दी का उपयोग अनगिनत रोगों के उपचार में होता है। इसका सेवन करने से आप किडनी और लीवर को संक्रमण से बचा सकते हैं।

 

नारियल 

नारियल में बेहतरीन कीटाणु-विरोधी, सुजन-विरोधी एंटीऑक्सीडेंट-युक्त गुण होते हैं जो शरीर के लिए बेहद लाभदायक होते हैं। इसका नियमित सेवन करने से आपकी किडनी और लीवर से विषाक्त तत्व हटते हैं और ये स्वस्थ बनी रहती है।

 

ग्रीन टी

ग्रीन टी अपने एंटीऑक्सीडेंट और सुजन-विरोधी गुणों के लिए जानी जाती है। इसका सेवन करने से शरीर से विषाक्त तत्व बाहर होते हैं और किडनी तथा लीवर की सहज क्रिया में मदद होती है। ग्रीन टी कई बार पथरी का कारण भी बनती है इसलिए इसके साथ नींबू का रस ज़रूर लें।

 

भृंगराज 

भृंगराज शरीर में नई कोशिकाओं का निर्माण करता है। इसका सेवन करने से किडनी और लीवर की क्षतिपूर्ति होती है। यह लीवर और किडनी के रोगों में एक प्रभावी दवा है तथा शरीर को भी साफ़ करता है।