बारिश के मौसम की आम बीमारियों से बचने के लिए अपनाएं यह असरदार काढ़े

866
kaadha-rcipe-rainy-season
image credits: Flikr

भारत में रसोई विविध प्रकार के मसालों तथा जड़ी-बूटियों से हमेशा भरी होती है जिनका प्रयोग खाना बनाने में किया जाता है। इन मसालों का उपयोग कर हम कुछ विशेष प्रकार के काढ़े बना सकते हैं जो सेहत बेहतर ही नहीं करते बल्कि कई आम बीमारियों का इलाज भी करते हैं। ऐसे ही पांच आम परन्तु बेहद असरदार काढ़ों को आज़माएँ-

 

Baarish ke mausam ki bimariyon se bachne ke upay – Kadha recipe

सर्दीखाँसी के लिए काढ़ा:

सौंठ, काली मिर्च तथा शहद से बना यह काढ़ा वात तथा पित्त दोष को संतुलित करता है। यह श्वसन तंत्र को सेहतमंद बनाता है, पाचन दुरुस्त करता है और रक्तप्रवाह बढ़ाता है। यह सामग्री शरीर में गर्मी भी पैदा करता है। इस काढ़े की विधि इस प्रकार है-

 

  • पानी में सौंठ तथा काली मिर्च डालकर तब तक उबालें जब तक पानी आधा न रह जाए।
  • इसमें शहद मिलाएं।
  • सर्दी-खांसी होने पर इस काढ़े को दिन में 2-3 बार पियें।

रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए काढ़ा

अगर आप अक्सर बीमार पड़ते हैं तो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है। इसे बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी से बना यह काढ़ा आज़माएँ। यह वात तथा कफ को संतुलित करता है, पाचन दुरुस्त करता है, रोग प्रतिरोधक बढ़ाता है और शरीर की सफाई करता है। विधि इस प्रकार है-

  • पानी उबालें। इसमें इलायची, दालचीनी, सौंठ तथा सफ़ेद मिर्च डालें।
  • एक बार और उबालें तथा गैस बंद कर दें।
  • स्वाद सही न लगे तो शहद मिलाएँ।
  • इसे रोज़ सुबह पियें।

मधुमेह के लिए काढ़ा

अगर आप मधुमेह से ग्रसित हैं या बॉर्डर-लाइन डायबिटीज के मरीज़ हैं तो यह काढ़ा आपके लिए है। इसमें मौजूद मेथी तथा हल्दी रक्त में शक़्कर की मात्रा को कम रखता है। इसे सुबह खाली पेट लेने से फायदे जल्द मिलते हैं। विधि इस प्रकार है-

  • मेथी तथा हल्दी को पीस कर बराबर मात्रा में लें।
  • इसमें दूध मिलाकर उबालें।
  • एक गिलास काढ़ा रोज़ सुबह पियें।

बेहतर पाचन के लिए काढ़ा

अगर आप अक्सर गैस, अपच, पेट फूलना जैसी बिमारियों से परेशान रहते हैं तो इसका मतलब आपका पाचन तंत्र सही तरह से काम नहीं कर रहा। इसे ठीक करने के लिए सौंफ तथा अजवाइन का यह असरदार काढ़ा पियें।

  • पानी उबालें तथा इसमें एक चम्मच अजवाइन तथा सौंफ डालें।
  • इस काढ़े को कई मिनटों तक उबलने दें।
  • चाहें तो स्वाद के लिए इसमें शहद डालें।
  • खाने के बाद इस काढ़े को पियें।

बुखार के लिए काढ़ा

ठंड तथा बारिश में बुखार आना आम हो जाता है। इस काढ़े को पीने से शरीर में पसीना आता है जिससे शरीर का तापमान कम हो जाता है। इस काढ़े को इस प्रकार तैयार करें-

  • तुलसी के 7 पत्ते तथा लौंग की 5 कलियाँ लें। इन्हे कूट लें।
  • इसमें एक गिलास पानी डालें।
  • इस मिश्रण को तब तक उबालें जब तक यह आधा न रह जाए।
  • अंत में इसमें एक चुटकी काला नमक डालकर रखें।
  • 2-3 दिन इस काढ़े को सुबह-शाम पियें।

एक बार उबालने के बाद तैयार काढ़े को दिन में कई बार पिया का सकता है। इसे आप रख भी सकते हैं, बीएस पीने के पहले काढ़े को उबाल लें।