लेंगे कोको को 1 महीने तक लगातार तो होंगे यह अदभुत फायदे

243
Hot_chocolate
image credits: upload.wikimedia.org

चॉकलेट माया सभ्यता की दुनिया को एक और दिलचस्प देन है जिसे एक मसालेदार काढ़े की तरह उपयोग किया जाता था। स्पेन के खोजियों के ज़रिये यह पहले यूरोप पहुंची और अब पूरी दुनिया में छा चुकी है। इस स्वादिष्ट मसाले को अब मिठाई और पेयों में उपयोग किया जाता है तथा बिगड़े मूड को ठीक करने का अचूक नुस्खा माना जाता है।

 

कोको को यूँही सुपर फ़ूड नहीं माना जाता। आइये जानते हैं कोको का सेवन करने से आप कौन-कौनसे लाभ पाते हैं-

 

एंटीऑक्सीडेंट 

कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में हुए एक शोध के अनुसार हॉट कोको में रेड वाइन के मुकाबले दुगनी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। इतना ही नहीं, यह मात्रा ग्रीन टी से तीन गुना और ब्लैक टी से चार गुना होती है। यह महत्वपूर्ण इसलिए है क्यूंकि इन तत्वों की मदद से शरीर की कोशिकाओं की क्षतिपूर्ति होती है, जीवन लम्बा होता है तथा गंभीर बीमारियों से बचाव होता है। कोको के ज्यादातर एंटीऑक्सीडेंट इसके गर्म होने पर ही निकलते हैं इसलिए इसे अपनी कॉफ़ी में मिलाना बिल्कुल न भूलें।

 

गेलिक अम्ल 

कोको के एक कप में आप 611 मिलीग्राम गेलिक अम्ल व् 564 मिलीग्राम फ्लावोनोइड पाते हैं। ये दोनों ही घटक शरीर के लिए बेहद ज़रूरी है तथा विभिन्न लाभ देते हैं। इस तरह एक कप कोको अंदरूनी हेमरेज, किडनी के रोग और मधुमेह से बचा सकती है।

5 सुपरफ़ूड जो आपके दिमाग को बनाएँगे तेज़

कम वसा 

बाज़ार में मिलने वाली एक सामान्य चॉकलेट बार में आपको कोको जितना एंटीऑक्सीडेंट शायद मिल सकता है, पर इनमें मौजूद वसा के ऊँचें स्तर इसके फायदों को खत्म कर देते हैं। वहीं कोको का उपयोग करने से आप चोकलेट का लाभ और एंटीऑक्सीडेंट कम वसा लिए कर सकते हैं। इस तरह यह आपकी डाइटिंग में सहयोग करती है।

 

फ्लावोनोइड 

फ्लावोनोइड आपके शरीर को नाइट्रिक ऑक्साइड संसाधित करने में मदद करता है। इस तरह यह आपके शरीर में रक्त प्रवाह तेज़ करता है, रक्तचाप नियंत्रित रखता है तथा दिल को सेहतमंद रखने में योगदान देता है। साथ ही इन तत्वों की मदद से रक्त में मौजूद प्लेटलेट आपस में जुडकर खून का थक्का जमने से रुकता है। कोको फ्लावोनोइड से भरपूर होता है और आपको ये विभिन्न महत्वपूर्ण लाभ दे सकता है।

ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए खाएँ ये सुपरफूड

मस्तिष्क को लाभ 

विभिन्न संस्थानों के द्वारा किए गये शोध यह दिखाते हैं की कोको का सेवन करने से आपका मस्तिष्क बेहतर तरीके से काम कर पाता है। यह आपका तनाव घटाता है और मूड सुधारकर विचारों को कम करता है। फ्लावोनोइड व् एंटीऑक्सीडेंट की वजह से कोको आपके दिमाग की ओर रक्तप्रवाह तेज़ करता है और ऑक्सीजन की मात्रा भी बढ़ाता है। शोधकर्ता मानते हैं की इन लाभों की वजह से डेमेंटिया अर्थात पागलपन की आशंका भी कम होती है।

इन लाभों को जानकर आप भी कोको का सेवन शुरू करना चाहेंगे पर यह इतना आसान नहीं। बाज़ार में मिलने वाले उत्पादों में कृत्रिम सामग्री कोको की अच्छाई खत्म कर देती है। कोको ड्रिंक्स की सामग्री की सूचि भी देखेंगे तो आप पाएँगे की मात्रा के अनुसार कोको तीसरे या चौथे नम्बर पर आती है; शक्कर, तेल और सिरप के भी नीचे! ज़रूरी है की आप कोशिश करें और सिर्फ उन्हीं ब्रांड का उपयोग करें जो आपको आर्गेनिक कोको उपलब्ध करवाए।

जिम जाते हैं या करते हैं कसरत तो करने से पहले 3-4 टुकड़े इसके जरूर खाएं