क्या-क्या दिक्कतें हो सकती हैं, शरीर के अलग-अलग भागों में फैट जमा होने से

18061
body-fat-side-effects-weight-loss
image credit: http://i.ebayimg.com/

एक कहावत तो आप सबने सुनी ही होगी – थुलथुला शरीर, बीमारियों का घर। जैसे-जैसे मोटापा बढ़ता जाता है, वैसे-वैसे कमर (रीढ़ की हड्डी- Back Bone) झुकती जाती है और शरीर बीमारियों का घर बनता जाता है। तो सबसे जरूरी है कि हम अपने शरीर में फैट को इकट्ठा न होने दें।

 

डायबिटीज़ रोग (diabetes treatment in hindi), दिल की बीमारियां व गुर्दे की बीमारी के अलावा कई अन्य खतरनाक बीमारियां मोटापे और शरीर में बढ़ती चर्बी की वजह से ही होती हैं। लेकिन वैज्ञानिकों के अनुसार अब एक स्कैन की मदद से शरीर के अहम अंदरुनी अंगों के आसपास जमा चर्बी अर्थात फैट का पता लगाया जा सकता है। यदि सही-सही यह पता लगा लिया जाए कि शरीर में कहां अधिक फैट जमा हो रहा है तो मोटापा घटाने में भी मदद मिलती है। और साथ ही अन्य बीमारियों से भी बचाव कर सकते हैं। ( चित्र देखें और जानें फैट की वजह से शरीर के विभिन्न अंगो में होने वाली दिक्कतों को)

 

obesity-in-different-parts-of-body
image credits:http://www.cdc.gov/

 

 

तकरीबन 40 प्रतिशत लोगों के हृदय या गुर्दे के आसपास नुक़सानदेह चर्बी जमा रहती है, हालांकि कमाल की बात तो यह है कि इनमें से अधिकतर लोग दिखने दुबले-पतले होते हैं। इसका सीधा सा मतलब है कि दुबले-पतले होने के बावजूद भी इस चर्बी के कारण से डायबिटीज जैसी बीमारी की संभावना रहती है।

 

मोटापे से अधिक इस बात का सेहत पर असर होता है कि चर्बी शरीर में किस जगह मौजूद है। उदाहरण के लिये हृदय रोग और टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम उन लोगों को अधिक होता है जिनके शरीर के मध्य भाग में अधिक वजन होता है। हालांकि डॉक्टर बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की मदद से इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि किसी व्यक्ति का मोटापा उसकी लंबाई के हिसाब से ठीक है या फिर नहीं।

 

विशेषज्ञों के अनुसार बीएमआई (Body Mass Index – BMI) तकनीक से इस बात का सही-सही अंदाजा नहीं लग पाता कि शरीर में कितनी चर्बी मौजूद है। लेकिन बेहद महत्वपूर्ण है कि यह पता लगाया जाए कि चर्बी शरीर के किस हिस्से में मौजूद है। आमतौर पर फैट अच्छा होता है लेकिन जब इसकी मात्रा अधिक हो या फिर ये शरीर में गलत हिस्से में मौजूद हो तो ये हानिकारक होता है।

मोटापा है कई शारीरिक परेशानियों की जड़, जानिए कैसे

 

एमआरआई स्कैन अंदरुनी चर्बी की मात्रा की जानकारीः एमआरआई या फैट स्कैन से पता लगाया जा सकता है कि शरीर के किन अंदरुनी अंगों के आस-पास हानिकारक फैट मौजूद है। जब डॉक्टरों को इस बात का पता चल जाता है कि इंसान के शरीर में छिपे फैट की मात्रा अधिक है तो वे एक्सरसाइज करवाकर और स्वास्थ्यवर्धक खान-पान सुझाकर से इसे हटाने की कोशिश कर सकते हैं।

 

इसके बाद ये पता लगाया जाता है कि इस चर्बी को हटाने के लिए लोगों को क्या करना चाहिए। कम खाना खाने से नुकसानदेह चर्बी से छुटकारा नहीं मिलता, इसकी बजाय नियमित एक्सरसाइज से ज्यादा लाभ मिलता है।

हॉर्मोन जो आपके मोटापे की वजह हो सकते हैं