घर बैठे जानें कहीं आपको Diabetes तो नहीं, करें तुरंत कंट्रोल

21017
blood-sugar-Diabetes
image credits: supermanherbs.com

मधुमेह (diabetes symptoms in men, women over 40) आज पूरे विश्व में तेजी से पैर पसार रही है। इसका मुख्य कारण है कि आजकल के मनुष्यों का मशीनों पर ज्यादा आधारित होना। रात को देर से भोजन करना, और फिर भोजन करते ही सो जाना भी इसका एक बड़ा कारण है। जो खाना हमारे पेट में बिना पचे ही पड़ा रहता है, वो बीमारियां पैदा करता है।

 

डॉयबिटीज से हाई बल्ड प्रैशर, कोलेस्ट्रॉल बढ़ना और कम उम्र में हार्ट अटैक का खतरा बनता है। तो आइये हम सब मिलकर डॉयबिटीज़ के बारे में जागरूकता फैलाते हैं ताकि हम इसको अपने आस-पास फटकने भी न दें।

 

सामान्यत: डायबिटीज़ टाइप का विभाजन बीमारियों और लक्षणों के आधार पर किया जाता है। इनमें टाइप 1 और टाइप 2 डॉयबिटीज प्रमुख हैं।

 

डायबिटीज़ – टाइप 1

टाइप 1 डायबिटीज़ प्रमुख रूप से बच्चों में होता है। जन्म के बाद पाचन तंत्र में समस्या पैदा होने से इंसुलिन का बनना बंद हो जाता है। ऐसी अवस्था में रोगी को इंसुलिन इंज़ेक्शन देने पड़ते है। इसे जुवेनाइल डायबिटीज़ (Juvenile Diabetes) भी कहते हैं।

 

डायबिटीज़ टाइप 2

टाइप 2 डायबिटीज़ प्रमुख रूप से 20 से 40 वर्ष की आयु के लोगों में देखा जाता है। इसे पूरी तरह ठीक करना नामुकिन है, परंतु नियमित दवा से कंट्रोल हो सकता है। इसके मरीज़ों की संख्या ज़्यादा होती है, क्योंकि जीबनशैली और भोजन से इसका सीधा संबंध है। इसे डायबिटीज़ मेलिटस (Diabetes Mellitus) के नाम से भी जाना जाता है। इसके रोगी को खानपान और जीवनशैली संतुलित रखनी चाहिए।

 

डायबिटीज़ के कुछ आम लक्षण- 

1. थकान और कमज़ोरी महसूस होना।

2. बार-बार पेशाब लगना।

3. पेशाब के रास्ते शुगर निकलना।

4. बार-बार प्यास लगना।

5. आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ना। धुंधला दिखाई देना।

6. वज़न एकदम से कम होना।

7. भूख बढ़ना।

8. घाव का जल्दी ठीक नहीं होना, शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता का कम होना।

9. स्किन में इंफ़ेक्शन से खुजली होना।

10. पैर सुन्न पड़ना।

11. बिना वजह चिंता बढ़ना।

12. एकाग्रता में कमी होना।

13. पुरुष का ठीक से सेक्स न कर पाना।

14. पीरियड में गड़बड़ या समय से पहले बंद होना।

 

कैसे बचाव करें डॉयबिटीज से-

1. चिंता व तनाव से दूर रहने की कोशिश करे।

2. हर तीन माह में ब्लड-शुगर की जांच कराएं।

3. भोजन में फायबर, सब्ज़ी और जौ, गेहूं, बाजरे की रोटी लें।

4. दही का अधिक सेवन करें।

5. सुबह हल्का व्यायाम या एक घंटे वॉक करें।

6. मीठे पदार्थों का सीमित सेवन करें।

7. मोटापा घटाएं और वज़न नियंत्रित रखने की कोशिश करें।

8. सेक्स लाइफ का आनंद उठाएं।

9. नंगे पांव ख़ासकर ओस पर चलें।

 

इन सुझावों से करें तुरंत कंट्रोल: करें मधुमेह को कंट्रोल- योग, आहार और आसान घरेलु नुस्खे