खुश रहने की 7 सामग्रियों

69
Image Credits: Fortune

हम सभी एक आदर्श जीवन का सपना लिए काम करते हैं और एक बेहतर और खुशनुमा ज़िन्दगी की चाहत रखते हैं। यह जीवन दरअसल सात ऐसी सामग्रियों का मिश्रण है जिनकी मदद से दुनिया भर में कई लोगों ने सफलता पाई है। ख़ुशी, कामयाबी और खुद को बेहतर बनाने के हर तरीके का यही सात सामग्रियां सार है।

आइये जानें इन्हीं सात सामग्रियों को, जो आपको सम्पूर्ण ख़ुशी दे सकती हैं-

मन की शांति

एक खुशनुमा जीवन की सबसे पहली सामग्री मन की शान्ति ही है। अगर यह आपके जीवन में नहीं है तो अन्य किसी भी और चीज़ से आप ख़ुशी नहीं पा सकते। यही वजह है की सबसे पहले आपको शान्ति को अपना लक्ष्य बनाना चाहिए।

साथ ही शान्ति और सकरात्मक विचार आपको बेहतर प्रदर्शन में मदद करता है; चाहे आप व्यापार की बात करें, नौकरी की या सामाजिक सम्बन्धों की।

स्वास्थ्य और उर्जा

खुशनुमा जीवन की दूसरी सामग्री है स्वास्थ्य और उर्जा। मन की शान्ति की तरह ही स्वास्थ्य और उर्जा आपको पूरी तरह प्रदर्शन करने में मदद करती है।

सुखद रिश्ते 

तीसरी सामग्री है रिश्तों में सुख। यह रिश्ते वो हैं जिन्हें आप सबसे ज्यादा प्यार और इज्जत देते हैं तथा वे लोग जो आपसे सबसे ज्यादा प्यार करते हैं। सच कहा जाए तो आपके रिश्ते ही इस बात का माप है की आप इंसान के तौर पर कितने सफल हैं। रिश्तों से ही आपके जीवन में ख़ुशी और दुःख आते हैं, इस बात को ध्यान में ज़रूर रखें।

वित्तीय स्वतंत्रता 

वित्तीय रूप से मुक्त होने का मतलब है की आपके पास इतना पैसा है की आपको लगातार पैसों की चिंता करने की ज़रूरत नहीं। इस दुनिया में ज्यादातर मुश्किलें पैसों की कमी से ही उपजती हैं। इसलिए अपनी वित्तीय स्वतंत्रता पाना जीवन का अहम लक्ष्य बनाएं तथा भाग्य पर कुछ न छोड़ें।

साथ ही अपने आप को बेहतर बनाने की कोशिश में वित्तीय स्वतंत्रता आपके लिए अहम हो सकती है। पैसों की चिंता से मुक्त हो जाने पर आप जीवन में अन्य महत्वपूर्ण कार्यों पर ध्यान दे सकते हैं।

अहम लक्ष्य एवं विचार 

खुश रहने के लिए आपको अपने जीवन की दिशा का स्पष्ट ज्ञान होना ज़रूरी है। जीवन में उन लक्ष्यों को चुनें जो आपको ज़रूरी और खुद की सृष्टि से बड़े लगते हों। इस लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्ध हो जाएं और दुनिया में बहुमूल्य योगदान देने की अपनी अंदरूनी ज़रूरत को पूरा करें।

अन्य सफल लोगों की तरह ही आप भी जीवन में ख़ुशी उस लक्ष्य की ओर धीरे धीरे बढकर पा सकते हैं जो आपके लिए महत्वपूर्ण है।

आत्म-ज्ञान 

अंदरूनी ख़ुशी, सकरात्मक सोच और बाहरी सफलता को अगर इतिहास के चश्मे से देखें, तो आत्म ज्ञान की भूमिका बहुत ही बड़ी रही है। अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए ज़रूरी है की आप अपने आप को जानें; आप कौन हैं, क्या सोचते हैं तथा भावनाओं को कैसे महसूस करते हैं या ज्ञान आपको सफलता का रास्ता दिखा सकता है।

आत्म-संतुष्टि 

जैसे जैसे आप जीवन में आगे बढ़ते जाते हैं, जीवन की गतिविधियों के साथ एकाकार होते जाते हैं; यही परम संतुष्टि है। इंसान के रूप में अपनी पूरी काबिलियत पहचान लेना और इसके अनुसार कार्य करना इंसान की सम्पूर्ण ख़ुशी की बड़ी वजह होता है। यही वजह है की अपने कर्मों के फल की चिंता करने की जगह कर्मों पर पूरी तरह ध्यान देना तथा इसके द्वारा बेहतर होते जाना ही सुखद जीवन की कुंजी माना जाता है।