कैसे करें मॉनसून में बच्चों की देखभाल

3752
baby-care-monsoon
image credits: BabyCouture

बच्चों के साथ मॉनसून का मज़ा और परेशानियों दोनों दोगुने हो जाते हैं। इन्हें बारिश में खेलते देख आपको अपने बचपन के खुशनुमा पल भी याद आते हैं और संक्रमण की आशंका भी। पर मॉनसून के दौरान तथा इसके आने के पहले की गयी कुछ तैयारियां आपको इस चिंता से थोड़ी राहत दिला सकती है ताकि आप तथा आपके बच्चे इस खूबसूरत मौसम का लुत्फ़ उठा सकें।

 

तो आइये जानें, बच्चों को कैसे बनाएं ‘मॉनसून-रेडी’-

 

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं:

मॉनसून सर्दी, खांसी तथा हवा-पानी से होने वाले संक्रमणों का समय है। समझदारी इसी में है की इस मौसम के आने के पहले से ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जाए। इसके लिए विटामिन C युक्त खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करें। विटामिन युक्त सप्लीमेंट्स भी लिए जा सकते हैं हालाँकि इन्हे फलों तथा सब्ज़ियों के द्वारा लेना हमेशा बेहतर होता है।

 

कमरों का तापमान अनुकूल रखें:

मॉनसून में अक्सर मौसम ठंडा तथा हवादार हो जाता है। तापमान में अचानक आए बदलाव आपके बच्चे को बीमार कर सकते हैं। अपने घर को हमेशा सूखा रखने की कोशिश करें तथा बच्चों के कमरों का तापमान हमेशा सामान्य रखें। इसके लिए हीटर का उपयोग करें और खिड़की-दरवाज़ों को बंद रखें। इस मौसम में स्वेटर तथा कंबल की ज़रूरत भी पड़ सकती है।

 

बाहर का कुछ न खाने दें:

दस्त और फ़ूड पोइज़निंग मॉनसून में आम हैं। बाहर के पानी से भी कई घातक बीमारियां हो सकती है। बेहतर है की घर का ही साफ़-सफाई से बना खाना बच्चों को खिलाया जाए। बच्चे की रोज़ के आहार में गर्म सुप तथा गर्म दूध शामिल करें।

 

बच्चों को बारिश में न भीगने दें:

शिशु को बारिश से दूर रखना आसान है पर आपके बढ़ते हुए बच्चे को नहीं। मॉनसून की शुरुआती बारिश प्रदूषण तथा कई अम्ल लिए होती है। ऐसे पानी में बच्चे को न खेलने दें। उसके स्कूल बैग में एक रेनकोट और वाटरप्रूफ जूते ज़रूर रखें तथा इन्हे उपयोग करने की आदत डलवाएं। बारिश में बच्चे को जब भी बाहर लेकर जाएं, छाता या रेनकोट साथ में ज़रूर लें।

 

फर्स्ट ऐड किट तैयार करें:

सभी सावधानियां बरतने के बाद भी बीमारी की संभावना के लिए पूरी तैयारी कर लें। सर्दी-ज़ुकाम के लिए ज़रूरी दवाएं अपने फर्स्ट एड बॉक्स में रख दें। कफ सिरप, विटामिन C की गोलियां , बुखार तथा ठंड की दवा, बाम आदि चीज़ों को बॉक्स में जगह दें। बच्चा बार-बार बीमार पड़ता हो तो चिकित्सक से अतिरिक्त उपचार तथा दवाओं का पता करें। मॉनसून में फैल रही अन्य महामरियों की भी जानकारी लें।

 

अन्य ज़रूरी बातें-

  • अपना घर साफ़ रखें।
  • बच्चों के कपड़े साफ़ करने के लिए तथा घर साफ़ रखने के लिए डेटॉल जैसे एंटीसेप्टिक का उपयोग करें।
  • मॉनसून में घर को सभी कीटों खासकर मच्छर से मुक्त बनाएं।
  • मच्छरों को भगाने के लिए कोइल की जगह मछरदानी या लिक्विड का उपयोग करें।
  • बच्चे को सैनिटाइज़र का उपयोग सिखाएं।
  • बारिश में बच्चा भीग जाए तो उसे गर्म पानी से नहलाएं।
  • बच्चे के पैरों को हमेशा सूखा रखें। उसे सॉक्स तथा चप्पलों की आदत डलवाएं।