क्या MSG आपके लिए वास्तव में बुरा है?

92
Image Credits: Healthline

पोषण से जुडी कई खबरें आजकल इतनी तेज़ी से फैलती हैं की इनसे जुडी सच्चाई और समझ को जगह नहीं मिल पाती। ऐसी ही एक खबर MSG से जुड़ी हुई है- मोनोसोडियम ग्लूटामेट नामक एक घटक अक्सर चाइनिस आहारों में पाया जाता है और इसे सिरदर्द का कारण माना जाता है। पर क्या यह सच है?

पूरी कहानी जानें-

ग्लूटामेट एक एमिनो अम्ल है जो प्राकृतिक रूप से टमाटर, सोया सॉस व् पुराने पनीर में पाया जाता है। इसी ग्लूटामेट और सोडियम के उपयोग से MSG बनाया जाता है जिसे किसी मसाले की तरह उपयोग किया जाता है।

ग्लूटामेट को एक जापानी प्रोफेसर ने खोजा था जब उन्होंने पाया की यह अम्ल उनके सीफ़ूड को एक अलग और दिलचस्प स्वाद दे रहा है। उन्होंने MSG को पेटेंट करवाया जिसके बाद इसे एक प्रचलित मसाले की तरह उपयोग किया जाने लगा।

पर 1968 में एक डॉक्टर ने प्रचलित अख़बारों को एक चिट्ठी भेजी जिसमें उन्हों कहा की उनके अनुभव के अनुसार चाइनिस रेस्टोरेंट से आने के बाद लोगों में धडकने तेज़ होने और घबराहट होने की शिकायत हो रही है। MSG को इसका कारण बताया गया जिसके बाद इस रोग का नाम चाइनिस रेस्टोरेंट सिंड्रोम पड़ गया। इसके बाद और भी कई रिपोर्ट जारी हुई जिसमें कहा गया की MSG की वजह से खाना खाने के बाद लोगों को छाती में भारीपन और उलटी की समस्या हो रही है।

1990 में FDA ने आख़िरकार एक स्वतंत्र वैज्ञानिक संस्था का गठन किया जो इस मामले की तह तक पहुंचे। इस संस्था ने पाया की MSG का सेवन पूरी तरह सुरक्षित है, हालाँकि अगर कोई इसे 3 ग्राम से ज्यादा लेता है तो उसे सिरदर्द या चक्कर हो सकते हैं। एक आम खुराक में आप सिर्फ आधा ग्राम MSG ही लेते हैं।

इस तरह FDA ने MSG को एक सुरक्षित मसाला घोषित किया तथा शक्कर और सोडा की तरह ही दर्जा दिया। अब सिरदर्द पैदा करने की प्रमुख चीज़ों की सूचि में से भी MSG को हटाया जा चूका है।

फिर आज भी MSG को लेकर संशय क्यों?

आप अक्सर आज भी विभिन्न खाद्य पदार्थों के पैकेट पर नो MSG का टैग देखते होंगे। ऐसे में आप क्या कर सकते हैं?

सबसे पहले MSG के लाभों को देखें- यह मसाला आपके आहार का स्वाद बढ़ाता है तथा नमक के मुकाबले 2 तिहाई सोडियम ही इसमें मौजूद होता है। इस तरह आप कम नमक में ज्यादा स्वाद पा सकते हैं।

तो आप भी इसे आजमाएं- इसे आप एक्सेंट या अजीनोमोटो जैसे नामों में बाज़ार में पाएंगे। अपने सूप या नाश्ते पर इसे हल्का सा छिडकें तथा इसके स्वाद का आनन्द लें। इसके बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचें।

जानें रेनबो आहार खाने के लाभ

इन आहारों से पाएं भरपूर एंटीऑक्सीडेंट