काम और सेहत के बीच ऐसे बनाएं संतुलन

266
work-personal-life-balance
image credits: Stella Tesori

काम और सेहत के बीच संतुलन बनाना आज हमारे जीवन की एक बड़ी चुनौती बन चुका है। लगभग हर व्यक्ति यह मानता है की अगर उसके पास काम थोडा कम हो तो उनका तनाव कम हो सकता है और वह सेहत पर ज्यादा ध्यान दे सकता है। लेकिन ऐसे कम ही मौके होते हैं जब काम कम हो पाता है।

समझदारी इसी में हैं की काम कम होने का इंतज़ार करने की जगह आज से ही शरीर की सेहत बेहतर करने के लिए ज़रूरी कदम उठाए जाएं-

 

काम को ऑफिस में ही छोड़ कर आएं 

आज काम के प्रति कितना ही समर्पित क्यों न हों, हमेशा काम को ऑफिस में छोड़ कर आना ही सही होगा। काम से जुड़े ईमेल और कॉल को होल्ड पर रख दें तथा अपनी सेहत पर ध्यान देने के लिए कदम उठाएं। आपका काम कितना भी ज़रूरी क्यों न हो, उसे काम के लिए तय व्यक्त में ही करें तथा बाकी समय खुद को दें।

 

परिवार के साथ कोई प्लान बनाएं 

हफ्ते के अंत में या आने वाली छुट्टियों में परिवार के साथ किसी कार्यक्रम की योजना बनाएं। आने वाले समय में ऐसी गतिविधियों को देखकर आप सक्रात्मकता और चिंतारहित महसूस कर पाएं। हफ्ते के अंत में भी आप कार्य के दबाव से उबरने में भी इन कार्यक्रमों को मददगार पाएंगे।

 

व्यायाम करें 

सुबह घड़ी की ओर देखकर काम पर जाने की चिंता करने की जगह इस समय का उपयोग  हल्के-फुल्के व्यायाम करने में करें। किसी नई हॉबी या खेल को अपनाकर भी आप तनाव कम कर सकते हैं। योग की शाळा या जिम जाना शुरू कर भी ख़ुशी और सक्रात्मकता महसूस कर पाएंगे।

 

छुट्टी लें 

अपने साथी, दोस्त व् परिवार वालों के साथ वक्त बिताने से आप तनाव से जल्द उबर पाएंगे। इस समय में खेल व् अन्य सक्रीय गतिविधियों को सम्मिलित करने पर आप दोहरे लाभ ले पाएंगे।

 

कार्यभार प्रबंधित करें 

बहुत सारे काम एक साथ करने से आप जल्द ही उर्जा की कमी महसूस करने लगेंगे। अगर आपके पास बहुत ज्यादा काम रहता है तथा यह आपके निजी जीवन पर भी प्रभाव डालने लगा है तो ऑफिस में अपने मेनेजर या प्रभारी से बात करें। खुद ही सारे काम करने की जगह आस-पास के लोगों से भी काम करवाने की आदत डालें।

 

लम्बे समय के लिए काम न करें 

समझदारी से काम करें; लम्बे समय तक काम करने से बचें। अपने कार्य को अच्छे से करने के लिए आपको कई घंटे तक काम करने की ज़रूरत नहीं; ऐसा करने से आपको तनाव हो सकता है तथा कार्यक्षमता पर भी असर हो सकता है। इसकी जगह कम समय में ज्यादा काम करने के तरीके ढूंढें।

जीवन को जीना है तो अपनी फिलोसफी छोड़िए

जानिए डिप्रेशन का मूल कारण – सद्गुरु की जुबानी

काम और सेहत के बीच संतुलन बनाने का कोई एक अचूक रास्ता नहीं है। हर व्यक्ति का जीवन अलग होता है इसलिए ज़रूरी है की आप अपने लिए प्रभावी उपायों को जांचें और अपनाएं तथा सेहत को प्राथमिकता दें।