पहचानें किडनी रोग के लक्षणों को

397
kidney-fail-symptoms
image credits: www.farxiga-hcp.com

पर्यावरण में बढ़ते प्रदुषण, बिगड़ती सेहत और नशीले पदार्थों की आदत आपकी किडनी को कई रोग दे सकते हैं। ज्यादातर मामलों में किडनी के रोग के लक्षण किसी और रोग के समझ लिए जाते हैं जिससे समस्या बढ़ सकती है। बेहतर है की हम किडनी रोग के लक्षण को पहचानें और क्रोनिक किडनी डिजीज (CKD – chronic kidney disease) का समय रहते उपचार करें।

 

आइये जानते हैं CKD के वो मुख्य लक्षण क्या हैं जिनके नजर आते ही आपको चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिए-

 

हर वक्त आलस रहना 

स्वस्थ किडनी एरीथ्रोपोइएटिन नामक हॉर्मोन का स्त्राव करती है जिससे आपका शरीर लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण कर पाता है। इस हॉर्मोन की कमी से शरीर में कोशिशकाओं तक पहुँचने वाली ऑक्सीजन में कमी आ जाती है जिससे आपकी मांसपेशियां और दिमाग जल्द थकान महसूस करने लगता है। यह एनीमिया होता है तथा आपको जल्द इसका उपचार शुरू करना चाहिए।

 

जब दूसरों को गर्म लगे लेकिन आपको ठंड लग रही हो 

एनीमिया ही इस लक्षण का कारण भी है। ऐसे में आपको सामान्य तापमान में ठंड लग सकती है।

जानें एनीमिया के लक्षणों को – जानिए अनीमिया के कारणों को और करिए सही उपचार

थोड़े से काम के बाद सांस उथली होना 

साँसों का उठला होना किडनी से दो तरह से सम्बन्ध रख सकता है। पहला, फेफड़ों में अत्यधिक द्रव्य का जमा होना शुरू हो जाता है। दूसरा, एनीमिया आपके शरीर में ऑक्सीजन की कमी बनाने लगता है। ये दोनों ही कारण आपके शरीर को पूरी क्षमता से काम नहीं करने देते और आप हांफने लगते हैं।

 

स्पष्टता से सोच पाने में मुश्किल 

एनीमिया से ही दिमाग में रक्त के साथ ऑक्सीजन पहुंचना कम हो जाता है जिससे आपकी याददाश्त कमजोर हो सकती है तथा ध्यान केन्द्रित करना मुश्किल हो सकता है।

 

शरीर में खुजली होना 

किडनी रक्त से गंदगी निकलने का काम करती है। जब ये कमजोर हो जाती हैं या काम नहीं कर पाती तो रक्त में गंदगी जमा हो सकती है। इसकी पुष्टि ब्लड टेस्ट के विभिन्न मापों के द्वारा की जा सकती है। यही आपके शरीर में जगह जगह खुजली होने का कारण बनती है। इस खुजली को आप त्वचा पर होने वाली सामान्य खुजली से अलग महसूस करेंगे।

 

हाथ और पैरों में सूजन 

किडनी अक्षम होने लगे तो रक्त से खराब तरल पूरी मात्रा में नहीं निकल पाता। जब यह आपके जोड़ों में, पैरों में व् हाथों में पहुँचता है तो वहां जमा होने लगता है जिससे हाथ-पैर फुले नजर आते हैं तथा हल्का दर्द महसूस होता है।

 

चेहरे पर सूजन 

पैरों की तरह ही रक्त में मौजूद बेकार तरल आपके चेहरे पर जमा होने लगता है जिससे आप अक्सर चेहरे पर सूजन महसूस कर सकते हैं।

 

खाने का स्वाद लोहे जैसा लगना 

किडनी द्वारा शरीर में सफाई न होने पर यूरीमिया नामक गंदी रक्त में जमा होने लगती है। इसकी वजह से आपके आहार के स्वाद में फर्क महसूस होने लगता है तथा साँसों में बदबू रहने लगती है। आप महसूस करेंगे की ऐसे समय में आपका पसंदीदा भोजन भी आपको पसंद नहीं आता तथा आपका वजन घटने लगता है।

 

उलटी, दस्त और जी मिचलाना 

शरीर में गंदगी बढ़ जाने से उलटी और दस्त की शिकायत हो सकती है। इससे भूख में भी कमी आती है और आपका वजन घटने लगता है।

 

देर रात उठकर पेशाब जाना तथा पेशाब में बदलाव आना 

किडनी के द्वारा ही पेशाब बनती है इसलिए जब ये अक्षम होने लगे तो पेशाब में भी बधाव आ सकता है-

आपको बार-बार पेशाब जाना पड़ सकता है तथा पेशाब की मात्रा बहुत ज्यादा हो सकती है और इसकी रंगत फीकी लग सकती है। आपको पेशाब करने में मुश्किल भी महसूस हो सकती है।

साथ ही आपकी पेशाब में झाग और मटमैलापन नजर आ सकता है। इसकी वजह पेशाब में प्रोटीन की बढ़ी हुई मात्रा होती है।

पढ़ें इसे भी – 

किडनी स्टोंस (पथरी) के आयुर्वेदिक उपचार

किडनी और लीवर को स्वस्थ रखें इन आयुर्वेदिक दवाओं से

किडनी या गॉल ब्लैडर की पथरी के ऑपरेशन के बाद अपनाएं यह डाइट प्लान