मधुमेह (Diabetes) के रोगियों के लिए डायट चार्ट

8438
vegetables-in-diabetes
image credits: FITNESS Duniya

पिछले 30 सालों में मधुमेह बुढ़ापे में होने वाली बीमारी से बढ़कर युवा तथा वयस्कों में एक जानलेवा समस्या का रूप ले चूका है। डाइट तथा जीवनशैली मधुमेह से बचाव तथा इसके उपचार के महत्वपूर्ण स्तंभ हैं। पर मधुमेह के रोगी के लिए आदर्श भोजन से जुडी कई मिथ्या हमारे मन में घर कर चुकी है।

 

दरअसल एक लो-कार्बोहायड्रेट, हाई-प्रोटीन आहार ही इन्सुलिन-रेजिस्टेंस को कम करता है। कम GI (ग्लिसेमिक इंडेक्स: रक्त में शर्करा बढ़ाने की भोजन की क्षमता से जुड़ा पैमाना ) वाले आहार भी रक्त में बढ़े इन्सुलिन स्तर को घटाता है। पर मुश्किल यह है की भारतीय भोजन में प्रोटीन तथा फाइबर की कमी है। इसी वजह से भारत में मधुमेह के रोगी तेज़ी से बढ़ रहे हैं।

 

अगर सही आहार योजना का पालन किया जाए तो मधुमेह प्रबंधन आसान हो जाता है। आइये, भारतीय मधुमेह आहार योजना को समझें-

 

सुबह:

1 कप पानी के साथ 10 ग्राम सौंफ

 

आधे घंटे बाद:

1 कप ग्रीन टी/चाय और कुछ बिस्किट

 

नाश्ता:

2 बाजरा इडली-एक कटोरा सांभर के साथ/2 क्विनोआ दाल डोसा सांभर के साथ/1 वेज पनीर सैंडविच तथा 1 व्होल ग्रेन टोस्ट/1 प्लेट पोहा एक कटोरी लो-फैट दही के साथ/2 अंडे की सफेदी से बना ऑमलेट-पालक तथा मशरुम के साथ

मधुमेह व वजन की समस्याओं से लड़ने के लिए करें ब्राउन राइस का सेवन

दोपहर का नाश्ता:

1 सेब/अनार/नाशपाती/संतरा/पपीता

 

दोपहर का भोजन:

मठ्ठा/सलाद

मधुमेह (Diabetes) के रोगियों के लिए लाभदायक है ईसबगोल की भूसी

आधे घंटे बाद:

1 कटोरी कम तेल में बनी सब्ज़ी+1 कटोरी दाल+2 रोटी(व्होल वीट आटे से बनी)/

1 कटोरी सब्ज़ी पुलाव (ब्राउन राइस से बना )+ 1 कटोरी दाल + 1 कटोरी रायता

 

शाम का नाश्ता:

लो-फैट दूध/ ओमेगा-3 लड्डू/ 1 मुट्ठी बादाम-अखरोट/1 खाकरा

मधुमेह रोगी करें इन सब्जियों व फलों का सेवन

रात का भोजन:

1 कटोरी सलाद/सूप(मोरिंगा/टमाटर-मूंग/करेला)

 

आधे घंटे बाद:

1 कटोरी दाल+1 कटोरी मिक्स वेज सब्ज़ी+ 2 रोटी

 

सोने से पहले:

1 गिलास लो-फैट इलायची दूध

मधुमेह कम करने, वजन घटाने व पाचन तंत्र मजबूत बनाने जैसे गुण हैं अमरूद की पत्तियों में

ध्यान दें की यह योजना 1200 कैलोरी की ज़रूरत को देख कर बनाई गयी है। इसे आप अपनी शारीरक ज़रूरत के साथ बढ़ा सकते हैं। पर मधुमेह से लड़ने का पहला कदम वज़न प्रबंधन है, इसलिए जररूत से ज़्यादा न खाएं, एक बार में बहुत सारा खाने के बजाय दिनभर में थोड़ा-थोड़ा खाएं तथा उपयुक्त व्यायाम भी करें। 

 

इस योजना के आधार पर अपना आहार चार्ट बनाएं और आज से ही इसका पालन शुरू कर सेहतमंद बनें।