आँखों के आस पास की त्वचा का रखें ख्याल 

139
Image credits: L'Oreal Paris

आपकी आँखों के आस पास की त्वचा ही आपके शरीर का वो हिस्सा है जहाँ उम्र ढलने के पहले लक्षण नजर आते हैं। क्या आप जानते हैं ऐसा क्यों है?

आँखों के आस पास की त्वचा बाकी शरीर के मुकाबले ज्यादा पतली और नाज़ुक होती है। साथ ही दिनभर में आपकी आँखें बहुत काम करती हैं जिससे थकान होना स्वाभाविक है। साथ ही कई अनुवांशिक कारण व् जीवनशैली के चुनाव इस त्वचा को प्रभावित करते हैं।

इस वजह से आप काले घेरे, बारीक झुर्रियां व् आँखों के नीचे सूजन से परेशां रह सकते हैं।

आप चाहें जिस भी उम्र के हों, अपने आँखों के आस-पास की त्वचा की देख रेख आप स्वस्थ आँखें और चेहरा पा सकते हैं। आइये जानते हैं कौनसे है वो तरीके जिनसे आखों के आस पास की त्वचा का ध्यान रखा जा सकता है-

मॉइस्चराइज

अपनी त्वचा को हमेशा भरपूर नमी देना ऐसा नियम है जो जितना महत्वपूर्ण है उतना ही नज़रंदाज़ भी किया जाता है। हमारे आँखों के आस पास की त्वचा के लिए यह और भी महत्वपूर्ण है क्यूंकि इस हिस्से में तेल का स्त्राव करने वाले रोम छिद्र नहीं होते जिस वजह से ये और भी रुखी हो सकती है।

पर इस त्वचा के लिए आपको मॉइस्चराइजर और भी सावधानी से चुनने की ज़रूरत है; ऐसे ब्रांड चुनें जो आपकी आँखों को नुक्सान न पहुंचाएं, न ही पानी आने या खुजली होने जैसी समस्याएँ खड़ी करें।

सामग्री पर ध्यान दें

अपनी आँखों के लिए क्रीम ढूंढते समय इसकी सामग्री पर विशेष ध्यान दें। आँखों की झुर्रियों के लिए रेटिनॉल, डार्क सर्किल के लिए विटामिन C तथा सूजन के लिए ग्रीन टी एक्सट्रेक्ट व् कॉफ़ी युक्त क्रीम चुनें। क्रीम के पैकेज पर दिए सम्भावित लाभों को भी ध्यानपूर्वक पढ़ें और समझें।

हमेशा सौम्यता बरतें 

अपनी आँखों का मेकअप हटाने से लेकर आँखों की देखभाल करने तक, हमेशा सौम्यता बरतें। आँखों के आस-पास की त्वचा इतनी नाज़ुक होती है की रोजाना की गतिविधियों के बाद अगर सही से इनकी देखभाल न की जाए तो इन्हें और भी नुकसान हो सकता है।

मेकअप हटाने के लिए हमेशा नर्म कॉटन चुनें तथा इसे हल्के-हल्के त्वचा पर रखकर दबाएँ। आँखों के नीचे अंदर से बाहर की ओर यह क्रिया दोहराएं।

प्रसाधनों का आँखों के आस-पास उपयोग करने के लिए पहले प्रसाधन को छोटी ऊँगली पर लगाएं तथा इसी ऊँगली की मदद से आँखों पर हल्के दबाव से फैलाएं।

सूर्य से सुरक्षा 

धुप के सम्पर्क में आने से भी आँखों की त्वचा काली और क्षतिग्रस्त हो सकती है। यही वजह है की बाहर हल्की धुप होने पर भी ब्रॉड स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन का उपयोग ज़रूर किया जाना चाहिए। सनस्क्रीन लगाते समय पलकों को कभी न भूलें; छोटी ऊँगली पर हल्का सनस्क्रीन लेकर दोनों पलकों पर लगाएं।

खुद को मालिश दें 

अगर आपकी आँखों के आस-पास सूजन अक्सर आती जाती रहती है, तथा थकान होने पर या नींद न आने पर आँखें सूज जाती हैं तो मालिश आपकी मदद कर सकती है। आँखों में रक्त प्रवाह बढाने के लिए आप तेल की मालिश से लेकर मस्साजर तक विभिन्न विकल्प आपके पास है। आपके बजट और समय के बीच संतुलन बनाकर सही विकल्प चुनने से आपकी आँखों के स्वास्थ्य में बड़ी बेहतरी देखी जा सकती है।

यह भी पढ़ें – शुष्क आँखों का उपचार

सोएं, सही खाएं तथा व्यायाम करें 

अपनी जीवनशैली में सकरात्मक बदलाव लाने के लिए बड़ी-बड़ी कोशिशों की ज़रूरत नहीं। नीचे दिए तीन सीधे सूत्र आपको अंदर और बाहर से स्वस्थ रखते हैं-

भरपूर नींद लें 

व्यायाम करें अच्छे आहार को अपनाने की कोशिश करें।

साथ ही अगर आप धुम्रपान करते हैं तो इस आदत को बदलने का स्वस्थ त्वचा से बेहतर कोई बहाना आपको नहीं मिलेगा।

यह भी पढ़ें – 

गर्मियों में आँखों की कुछ समस्याएं तथा उनसे बचने के कुछ उपाय

आंसुओं की कमी बनती है आंखों में दर्द, जलन व खुजली का कारण