क्या विटामिन डी सम्पूर्ण सेहत का राज़ है?

143
Image Credits: Better Health

कैसा हो अगर एक ही विटामिन आपको मजबूत हड्डियाँ दे सके, मधुमेह, कैंसर, ह्रदय रोग व् अवसाद जैसी गम्भीर समस्याओं से बचा सके, वजन कम करने में मदद करे तथा एक लम्बा जीवन दे सके? हालाँकि कोई भी शोध किसी “जादुई दवा” की पुष्टि नहीं करता लेकिन शोधकर्ता अब भी विटामिन डी को सेहत के लिए एक महत्वपूर्ण और सम्पूर्ण विटामिन मानते हैं।

आइये जानते हैं विटामिन डी की ज़रूरी मात्रा लेने से आप किन लाभों को पा सकते हैं-

विटामिन डी से हड्डियाँ सेहतमंद रहती हैं

यह विटामिन मजबूत हड्डियों के लिए बेहद ही ज़रूरी है, भले ही आप बच्चे हो या बूढ़े। इसी की मदद से आपका शरीर कैल्शियम को अवशोषित कर पाता है। जिन लोगों को ऑस्टियोपोरोसिस होता है, उन्हें रोजाना विटामिन डी और कैल्शियम की खुराक देने से हड्डियाँ टूटने की सम्भावना कम हो जाती है। बच्चों में भी पैर और हाथों को सही विकास के लिए विटामिन डी की ज़रूरत होती है। 1930 में बच्चों में आधे-टेढ़े पेरों की समस्या को दूर करने के लिए बड़े स्तर पर दूध में इस विटामिन को मिलाया गया जिसके नतीजे सकरात्मक रहे।

विटामिन डी और मल्टीप्ल स्क्लेरोसिस

MS सूर्य की किरणों से वंचित क्षेत्रों में ज्यादा देखा जाता है। सालों से शोधकर्ताओं ने इस रोग और धुप की कमी के बीच सम्बन्ध ढूँढने की कोशिश की जिसके बाद हाल के एक शोध में पाया गया है की शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर आपके जीन में क्षति हो जाती है जो आगे जाकर इस रोग का कारण बनती है। अनुवांशिक होने की वजह से विटामिन डी का उपयोग कर इसे ठीक नहीं किया जा सकता लेकिन आप इसकी सम्भावना कम ज़रूर कर सकते हैं।

विटामिन डी और मधुमेह

कुछ शोध दर्शाते हैं की टाइप 1 और 2 डायबिटीज और शरीर में विटामिन डी के निम्न स्तर होने के बीच गहरा सम्बन्ध है। विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा रोजाना लेने से आप मोटापे से बच सकते हैं। इस तरह टाइप 2 मधुमेह से बचाव आसान हो जाता है।

विटामिन डी और वेट लोस

कई शोध दर्शाते हैं की मोटापे से संघर्ष कर रहे लोगों में विटामिन डी के स्तर बहुत कम होते हैं। शरीर में मौजूद चर्बी उपलब्ध विटामिन डी को भी पकड़ लेती है जिससे शरीर इसे उपयोग नहीं कर पाता। ऐसे में डाइटिंशियन आहार में कम कैलोरी और ज्यादा विटामिन डी शामिल करने की सलाह देते हैं जिससे वजन कम करना आसान हो जाए।

विटामिन डी और अवसाद

विटामिन डी आपके मस्तिष्क के निर्माण और संचालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अक्सर अवसाद से ग्रसित लोगों में विटामिन डी के निचले स्तर देखे जाते हैं। अगर आप भी अवसाद, तनाव और उदासी से गुजर रहे हैं तो अपने चिकित्सक से विटामिन डी के उपयोग के बारे में जानें।

अपना दिन विटामिन डी से शुरू करें-

अपना नाश्ता समझदारी से चुनें ताकि इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन डी उपलब्ध हो। बाज़ार में भी आपको कई तरह के दूध मिल जाएंगे जिन्हें विटामिन डी से फोर्टीफाई किया गया हो। ऐसे दूध का सेवन करने से आपके शरीर को कैल्शियम अवशोषित करने में मदद मिलेगी। साथ ही संतरे का रस, मोटा अनाज. ब्रेड व् दही में भी कई ब्रांड विटामिन डी को मिलाते हैं। बाज़ार से सामान खरीदते हुए इन बातों का ध्यान रखें और नाश्ते में भरपूर विटामिन डी लें।

क्या आप पर्याप्त विटामिन बी12 लेते हैं?

विटामिन सी से भरपूर लीची के सेवन से रहता है दिल सेहतमंद