अग्निस्तंभासन (Fire Log Pose Yoga) – पेट व ग्रोइन से जुड़ी समस्याओं से दिलाए छुटकारा

3332

अग्निस्तंभासना – यह एक संस्कृत शब्द है जो तीन शब्दों के मेल से बना है, अग्नि, स्तंभ और आसन। यह आसन अंग्रेजी में Fire or Burning Log Pose Yoga के नाम से भी जाना जाता है। यह एक मध्यवर्ती स्तर का योग है जिसमें कूल्हों/हिप्स की स्ट्रैचिंग होती है।

 

अग्निस्तंभासना योग करने की विधि – Steps to do Agnistambhasana / Fire or Burning Log Pose Yoga

विडियो देखें –

अग्निस्तंभासना से पहले करने वाले योग – बद्धा कोनासना

अग्निस्तंभासना से बाद करने वाले योग – भारद्वाजासना-1, पश्चिमोत्तानासन

नोट – घुटनो व एड़ियों की तकलीफ वाले व्यक्तियों को यह आसन करने से बचना चाहिए।

 

 

अग्निस्तंभासना योग के लाभ – Benefits of Agnistambhasana/ Fire or Burning Log Pose Yoga

  1. कूल्हों व जांघो की मांसपेशियों में स्ट्रैचिंग का एक उत्तम योग है।
  2. पेट की मांसपेशियों को मजबूत बना कर पेट में खिंचाव जैसी समस्या से मुक्ति मिलती है।
  3. मानसिक तनाव, चिंता इत्यादि से मुक्ति मिलती है।