डायबिटीज का आयुर्वेदिक उपचार

1252
blood-sugar-Diabetes
image credits: supermanherbs.com

भारत को डायबिटीज के मामले में विश्व राजधानी कहा जाता है। डायबिटीज के 7 करोड़ मरीज़ वाले इस देश में गलत जीवनशैली और आहार अपनाना इस बीमारी की सबसे बड़ी वजह है। ज़ाहिर है, इससे निजात पाने के लिए आपको जीवनशैली और आहार में ज़रूरी बदलावों की ज़रूरत होगी। (ayurvedic dawa medicine for diabetes hindi, Diabetes ka Ayurvedic Ilaj)

 

आयुर्वेद का विज्ञान इन्ही बदलावों के साथ कुछ ऐसी दवाएं सुझाता हैं जो आपके रक्त में इन्सुलिन के स्तर को संतुलित रखने में मदद करती हैं। आइये, इन दवाओं को जानें-

 

करेले का रस 

रोज़ सुबह खाली पेट करेले का 30 मिली रस पीना आपके लिए हितकर हो सकता है। इसके साथ ही आप करेले से बने सादे व्यंजनों का लुत्फ़ भी ले सकते हैं। इसे मधुमेह के श्रेष्ठ दवा कहा जाता है।

 

तेजपत्ता और एलोवेरा

आधा चम्मच तेजपत्ते का चूर्ण, आधा चम्मच हल्दी और एक चम्मच एलोवेरो को लें और मिलाकर एक मिश्रण तैयार कर लें। इस मिश्रण को ताज़ा बनाकर दिन और रात के खाने के बाद लें। यह नुस्खा रक्त में शक्कर की मात्रा को संतुलित रखने में मदद करेगा।

 

मेथी के बीज 

मेथी व् अन्य जड़ी-बूटियों के साथ इसका मेल मधुमेह के प्रभावों को घटाने में बड़ी मदद कर सकता है। इसके सेवन के लिए-

  • 100 ग्राम मेथी और 25 ग्राम हल्दी को पीसकर साथ मिलाएं और एक गिलास दूध के साथ पियें।
  • रातभर मेथी के बीज को पानी में भिगोएँ तथा सुबह इन्हें पीसकर खाली पेट लें। इस नुस्खे को 3 महीनों के लिए अपनाएं।
  • खाने के लिए बनी रोटियों में भी मेथी का पाउडर मिलाया जा सकता है।

 

जामुन के बीज 

रोज़ दिन में दो बार जामुन के बीज गुनगुने पानी के साथ लेने से मधुमेह का उपचार किया जा सकता है। इसके अलावा जामुन के पत्ते चबाने तथा मौसम आने पर जामुन के फल का सेवन करने से शरीर में स्टार्च शक्कर में नहीं बदलता और रक्त में शक्कर की मात्रा नियंत्रित हो जाती है।

 

बरगद की छाल 

बरगद की छाल के काढ़े को रोज़ दिन में दो बार लिया जाए तो रक्त से विषाक्त तत्व और शक्कर को कम किया जा सकता है। इस काढ़े को बनाने के लिए आप 20 ग्राम छाल को 4 गिलास पानी में उबालें। आंच धीमी रखें तथा बर्तन ढककर तब तक पकाएं जब तक काढ़ा एक गिलास न रह जाए। इस मिश्रण को गुनगुने होने पर पियें।

इस काढ़े का सेवन सर्दी होने, किडनी फेलियर होने आदि में भी किया जा सकता है।