हेल्थी वेट लोस के पांच आयुर्वेदिक उपाय

333
Image Credits: Jiva

बढ़ते वजन की लुका छुपी और बनते बिगड़ते स्वास्थ्य से ज्यादा परेशान करने वाला इस दुनिया में कुछ भी नहीं। अगर आप भी पुरे दिल से वजन कम करने में लगे हैं लेकिन कोई लाभ नहीं दिख रहा है, तो आयुर्वेद की राह आजमाएं। कार्ब्स, डाइट और कैलोरीज की जटिल गणनाओं के बेच आयुर्वेद के ये साधारण और अचूक नुस्खें आपको ज़रूर लाभ देंगे-

शाम का खाना हल्का और सुपाच्य खाएं

आयुर्वेद के अनुसार शाम को पेट की अग्नि धीमी हो जाती है और सबकुछ नहीं पचा पाती। दिन के अंत में हमारी शारीरिक सक्रियता में भी कमी आने लगती हैं। ऐसे में रात में सरल और सुपाच्य भोजन करना आपको कई तरह से मदद करेगा; आपका वजन कम होगा, नींद गहरी होगी, शरीर से टोक्सिंस बाहर होंगे तथा आपका मेटाबोलिज्म बेहतर होगा। ये लाभ एक अच्छे व्यायाम के बराबर हैं।

दिन का भारी खाना दोपहर में खाएं

दोपहर को गर्म और अच्छे से पका हुआ भोजन करें। इस समय आप हल्का मसाला डला हुआ स्वादिष्ट भोजन भी कर सकते हैं। खाना हमेशा गर्म ही खाएं, इससे खाना पचाना आसान होता है और आपके शरीर को भरपूर पोषण मिलता है। दोपहर का यह भोजन दिनभर आपको कुछ न कुछ खाने के लालच से भी बचाएगा।

एक पोषक और संतुलित आहार से आप रात में ज्यादा भूखे नहीं रहेंगे तथा हल्का भोजन कर पाएंगे।

अदरक नींबू डला गुनगुना पानी पीते रहें

गुनगुना पानी आपके पाचन तन्त्र को साफ़ करता है तथा पुरे शरीर से गंदगी को बाहर कर देता है। देखा जाता है की सिर्फ इस आदत से ही लोग कई किलो वजन घटा लेते हैं। अगर आप बाहर काम से जाते हैं तो एक अच्छे थर्मस में गर्म पानी भरकर ले जा सकते हैं। इसके साथ ही अदरक नींबू का रस आपके पाचन में मदद करता है।

बासी खाना व् डिब्बाबंद आहार से बचें

आयुर्वेद के अनुसार खाने को लम्बे समय तक पका कर छोड़ देना या फ्रिज में ठंडा करना इसकी गुणवत्ता को कम कर देता है। इसके बाद अगर आप इसे गर्म भी करते हैं तो इसका पोषण कम हो जाता है तथा इसमें विभिन्न प्रकार के टोक्सिन पैदा हो जाते हैं। इसलिए हमेशा ताज़े खाने को प्राथमिकता दें तथा खाने को बहुत ज्यादा पकाने से बचें। साथ ही ताज़े फल और सब्जी को खाएं; इससे आपमें प्राणशक्ति बढ़ेगी।

डाइटिंग छोड़ें और सक्रीय बनें

आपकी हर बीमारी का उपचार व्यायाम से हो सकता है। इससे पाचन बेहतर होता है, मेटाबोलिज्म सही रहता है, शरीर से गंदगी बाहर होती है, रंग साफ़ होता है, शरीर सुगठित और सुंदर होता है तथा आप ताकतवर होते हैं। साथ भी आप सक्रात्मकता से भरा हुआ महसूस करते हैं। रोजाना आधे घंटे व्यायाम करें तथा बाकी का दिन शारीरिक रूप से सक्रीय रहने की कोशिश करें।