क्यों घी को इंडियन सुपरफूड कहा जाता है ?

98
Image Credits: Medical News Today

सालों से घी, तेल, बटर आदि को लेकर लोगों के मन में शंका बनी हुई थी। विज्ञान की दृष्टि से भी ये विभिन्न बिमारियों की जड़ माने जाते थे। वेट लोस् इंडस्ट्री ने तो घी को खाने से पूरी तरह दूर कर दिया था। पर अब यह नज़रिया बदला है। लगातार हो रहे शोध और प्राचीन ज्ञान हमें बताते हैं की घी न सिर्फ स्वाद के नज़र से बेहतरीन है बल्कि इसके लाभ डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीज़ों के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।

तो घी ज़रूर खाएं। बिना डर, ग्लानि व् शान्ति के। और पाएं ये बेहतरीन स्वास्थ्य लाभ-

  • अगर आप दोपहर के भोजन के बाद आलस महसूस करते हैं या काम करने में मुश्किल पाते हैं तो लंच में एक चम्मच घी जोड़ें। यह मीठा व् जंक फ़ूड खाने के लालच को भी दूर करेगा।
  • अगर आपको अपच रहती है या पाचन संबंधी कोई भी समस्या है तो रात के भोजन में एक चम्मच घी लें। इससे पाचन सुगम होगा तथा नींद भी बेहतर होगी।
  • अगर आपको कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर की समस्या है तो भी आप घी खा सकते हैं। यह शरीर में लिपिड बढ़ाकर तथा मेटाबोलिज्म बेहतर कर कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करेगा।
  • आप खाने में कितना घी डाल रहे हैं यह भी जानना ज़रूरी है। घी की मात्रा इतनी होनी चाहिए की खाने का स्वाद बढे लेकर मूल स्वाद खत्म न हो जाए। आप एक दिन में तीन से छह चम्मच घी ले सकते हैं।
  • घी खरीद रहे हैं तो देसी गाय का खरीदें। घर में बना घी और भी हितकारी होता है।
  • घी से बारिश और ठंड के मौसम में आपको गर्माहट मिलती है तथा आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
  • सर्दी होने पर घी आपके काम आ सकता हैं। आयुर्वेद के अनुसार शुद्ध घी की कुछ बूंदें रात में नाक में डालने से सुबह तक आपको राहत मिल जाएगी।
  • घी ऊर्जा का अच्छा स्रोत है। यह फैटी अम्ल की छोटी चैन से बनता है जिससे तुरंत ऊर्जा मिलती है और आप आलस महसूस नहीं करते।
  • अपनी रोटियों पर घी लगाएं। इससे इनका GI कम होगा, रक्त में शक़्कर की मात्रा नहीं बढ़ेगी, रोटियां नरम और पचाने में आसान रहेगी।