इन नेचुरल तरीकों से बनाएं दिमाग को उसैन बोल्ट से भी तेज

4762
improve-memory-techniques
image credits: oprah.com

हर किसी की इच्छा होती है दिमाग से तेज बनने की, लेकिन किसी किसी को यह शक्ति भगवान से उपहार स्वरूप मिली होती है तो किसी किसी को कठिन परिश्रम से। हम आपको यहां बताने जा रहें हैं कि किस तरह आप भी तेज दिमाग पा सकते हैं बस जरूरत है तो इन बातों को हमेशा ध्यान रखने की।

1. अपने हृदय को स्वस्थ बनाएं – हृदय को स्वस्थ बनाना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि हृदय ही ब्रेन तक के बल्ड सर्कुलेशन के लिए जिम्मेदार है। यदि ब्रेन में बल्ड सर्कुलेशन दुरुस्त होगा तो दिमाग तेज बनेगा।
हृदय को स्वस्थ बनाने के लिए एरोबिक एक्सरसाइज करें।

2. हेल्दी खाएं – शाकाहारी भोजन पर ज्यादा निर्भर रहें। जूसी फल व हरी सब्जियां खाएं, इनमें पाए जाने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट मेमोरी पावर को बढ़ाने का काम करती है।

3. याद रखने के लिए वस्तुओं में छोटे-छोटे प्वाइंट्स ध्यान रखें। जैसे कि अपना क्रैडिट कार्ड या आधार नं. ध्यान रखने के लिए उसे पहले 3 छोटे अंको में विभाजित करें और फिर ध्यान रखें।
या आप लिख-लिख कर याद रखने की उत्तम प्रैक्टिस भी अपना सकते हैं।

4. दिमाग पर फालतू का बोझ मत डालिए। मतलब जिन चीजों को याद रखने की जरूरत न हो जैसे मूवी की स्टोरी, फलाने शख्स की गाड़ी का नंबर या जिस चीज़ से आपका कोई लेना देना न हो, ऐसी फिजूल की चीजों को दिमाग मे जगह नहीं देनी चाहिए।

5. 7 से 8 घंटों की नींद पूरी करें। नींद पूरी करने से दिमाग की क्रिएटिविटी, प्राब्लम-सोल्विंग एबिलिटी और सोचने की क्षमता बढ़ती है। नींद पूरी करने से याददाश्त बढ़ाने में भी मदद मिलती है।

6. आपने यह तो जरूर सुना होगा कि हंसना हर मर्ज की दवा है। हंसना दिमाग के लिए भी कारगार सिद्ध होता है। खुल कर हंसने से दिमाग के टाक्सिन्स बाहर निकलते हैं, दिमाग के सभी भागों की एक्सरसाइज होती है और दिमाग फ्री व तंदरूस्त बनता है।
जोक्स और पंच लाइन्स इत्यादि हमारे दिमाग की सीखने और क्रिएटिव बनने की क्षमता को बढ़ाते हैं।

7. किताबें/नावेल पढ़े – किताबें या नावेल पढ़ने की आदत डालने से मेमोरी शार्प बनती है। पढ़ने से एकाग्रता में भी वृद्धि होती है। साथ ही सुडोकु जैसे मेमोरी गेम्स खेलिए।

8. ब्रेन को समय समय पर चैलेंज करें – ब्रेन के लिए नए नए टास्क सेट करें। जैसे नई जगहों पर जाएं, नए रास्तों पर निकलें, इससे दिमाग के सोचने की क्षमता बढ़ती है। किसी भी एक्टिविटी से जुड़े या फिर कोई नई चीज़ सीखना शुरू करें। यह सिद्ध हो चुका है कि जो व्यक्ति किसी न किसी लर्निंग एक्टिविटी से जुड़ा रहता है, उसकी दिमागी क्षमता भी बाकी लोगों के मुकाबले अधिक होती है। आप नई भाषा सीख सकते हैं, कोई नया खेल जैसे लॉन टैनिस, टेबल टेनिस, सिंगिंग, डांसिंग, कोई म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट प्ले करना इत्यादि से जुड़ सकते हैं।

9. सोशल बनिए – मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और यह सत्य है। हम यदि सोचें कि हम अकेले रह कर यह जिंदगी पार कर लेंगें तो हम अपने आप को धोखा दे रहें हैं और साथ ही अपना नुकसान भी कर रहे हैं। हम जितना सोशल बनेंगें, किसी काम को करने के उतने नए तरीके दिमाग में आएंगें। इसलिए हमें दूसरों से घुल-मिल कर रहना चाहिए।

10. स्ट्रैस दिमाग का सबसे बड़ा दुश्मन है। जब भी आप को लगे कि आप स्ट्रैस हो रहें हैं तो काम से एक छोटा सा ब्रेक लें और किसी नई और शांत जगह जाएं। आजकल की भाग दौड़ की जिंदगी में ऐसे छोटे-छोटे ब्रेक अत्यंत आवश्यक हो गए हैं।