जानिए चिरौंजी के अनमोल गुण

6574
chironji-HEALTH-BENEFITS-IN-HINDI
image credits: shopclues.com

चिरौंजी को चारोली के नाम से भी जाना जाता है। यह प्रत्येक रसोई घर में एक सूखे मेवे की तरह इस्तेमाल में लाई जाती है। (chironji seeds uses, benefits for skin) चारोली का प्रयोग विभिन्न प्रकार के भारतीय पकवानो, मिठाईयों, खीर तथा सेवई इत्यादि बनाने के लिए किया जाता है। चिरौंजी के छोटे छोटे बीज पोषक तत्वों से भरे होते है। चिरौंजी के पेड की जडों, फल, पत्तियाँ तथा गोंद का भी उपयोग भारत में विभिन्न प्रकार की औषधीयों को बनाने के लिए किया जाता है। चिरौंजी में फाइबर की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा चिरौंजी में भिन्न प्रकार के विटामिन्स (विटामिन सी, बी1, बी 2) तथा महत्वपूर्ण खनिजपदार्थों का (कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा) भी उच्च मात्रा में समावेश होता है। चिरौंजी के तेल का प्रयोग विभिन्न प्रकार के सौंदर्य प्रसाधनों तथा औषधियों को बनाने में बडे पैमाने पर किया जाता है।

आइये अब हम देखें कि चिरौंजी को खाने से हमें किस प्रकार से लाभ पहुँच सकता है।

1) चिरौंजी में प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यदि हम नियमित रूप से चिरौंजी के कुछ दानों को दूध में मिलाकर पीयें तो हमारे शरीर में प्रोटीन की मात्रा में वृद्धि होने लगती है। चिरौंजी वाला दूध पीने से हमारे शरीर मे पाए जाने वाली शारीरिक कमजोरी को भी दूर होने में काफी सहायता प्राप्त होती है।

2) चिरौंजी के सेवन से खांसी में भी काफी राहत मिलने लगती है। यदि आपको खांसी की परेशानी है, तथा यदि आपने चिरौंजी का काढा दिन में दो बार नियमित रूप से पीया तो आपके खांसी की समस्या दूर होने लगती है।

3) चिरौंजी का औषधीय उपयोग सांस से संबंधित समस्याओं की चिकित्सा में भी किया जाता है। यह छाती तथा नाक में जमा हुए बलगम को पिघलाने में सहायक है, जिससे नाक और छाती में होने वाली जकडन में राहत मिलने लगती है।

4) चिरौंजी आपकी त्वचा को भी सुंदर बनाए रखती है। चिरौंजी के कुछ दानों को गुलाब जल में पीसकर यह लेप अपने चेहरे पर लगाएं तथा जब यह सूख जाए तब इसे धो लें। इससे आपके चेहरे की त्वचा चिकनी, सुंदर तथा चमकदार होने लगती है।

5) चारोली कि तासीर अत्याधिक ही ठंडी होती है। इसलिए गर्मियों के मौसम में चारोली का सेवन करना उपयुक्त माना गया है। चारोली को खाने से हमारे शरीर को शीतलता प्रदान होती है तथा शरीर में गर्मी को वजह से होने वाली जलन में भी राहत मिलती है।

6) चारोली का नियमित इस्तेमाल करने से शरीर में पाए जाने वाले भिन्न प्रकार के रक्त संक्रमण को दूर करने में मदद मिलती है तथा शारीरिक पाचनशक्ति का सही रूप से विकास होता है।

7) चारोली खाने से हमारी याददाश्त तेज होती है। तथा हमारे मस्तिष्क के कार्य करने की क्षमता में भी बढोतरी होती है तथा हमारा मस्तिष्क का अधिक सुचारू रूप से संचालन होता है।

8) चिरौंजी का तेल आपके बालों के स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए बहुत ही फायदेमंद है। यदि आप अपने बालों में नियमित रूप से चिरौंजी का तेल लगाते हैं, तो आपके बालों की प्राकृतिक रूप से काला रंग प्रदान होता है।