एक से ज़्यादा भाषा सीखने के होते हैं कई लाभ 

121
Image Credits: ThemeXpert

आजकल दुनिया बहुत छोटी हो गयी है। इसका मतलब यह है की एक ही दिन में आप कई भाषाओँ के सम्पर्क में आते हैं। ऐसे में एक से ज्यादा भाषों को सीखना बहुत ही उपयोगी हो सकता है। पर नयी भाषा सीखने के लाभ यहीं खत्म नहीं होते; ऐसे करने से आपके मस्तिष्क पर भी कई सकरात्मक प्रभाव क्दते हैं।

आइये जानते हैं कैसे नयी भाषा आपके दिमाग को सेहतमंद बनाती है-

दिमाग की उर्जा बढती है 

नयी भाषा का मतलब है नए तरह के नियम और जटिलताएं। एक नयी भाषा को सीखने में आपके दिमाग को मेहनत लगेगी तथा अलग तरह से सोचने और कार्य करने की ज़रूरत होगी। जैसे जैसे दिमाग इस नयी भाषा को सीखता जाता है वैसे ही इसकी समझ और समस्या सुलझाने की काबिलियत भी बेहतर होती जाती है।

याददाश्त बेहतर करे 

याददाश्त का उपयोग न करने पर यह खोने लगती है। जितना ज्यादा आप दिमाग का उपयोग करेंगे उतना ही बेहतर रूप से यह काम करेगा। एक नयी भाषा का मतलब है की आप नए शब्द और नियम सीख रहे हैं तथा तेज़ी से इन्हें याद कर उपयोग करने की कोशिश कर रहे हैं। यही वजह है की एक से ज्यादा भाषा जानने वालों के दिमाग ज्यादा स्वस्थ होते हैं और रोजमर्रा में कई कार्य आसानी से कर पाते हैं।

एक बार में कई काम कर सके 

एक साथ कई काम करना तनाव का सबब बन सकता है, खासकर अगर आप इसे सही से न करे करे तो। कई शोधों में पाया गया है की जो दिमाग एक से ज्यादा भाषाएँ जानते हैं वे बहुत जटिल काम भी आसानी से कर पाते हैं तथा एक बार में बहुत से काम कर पाते हैं।

दिमाग तेज़ करे 

स्पेन में हुए एक शोध में पाया गया की एक से ज्यादा भाषा जानने वाले लोग अपने वातावरण को बारीकी से देखते हैं तथा बेहतर रूप से सीख पाते हैं। वे आसानी से अटपटी व् गलत चीज़ों को पहचान सकते हैं इसलिए इन्हें धोखा देना मुश्किल होता है। शायद यही वजह है की मशहूर जासूस किरदारों को कुशल भाषा विद्वान दिखाया जाता है।

दिमाग लम्बे समय तक स्वस्थ रहता है 

कई शोध दिखाते हैं की भाषा सीखने से आपका दिमाग स्वस्थ रहता है। देखा जाता है की एक भाषा बोलने वालों में डेमेंटिया 71 की उम्र में शुरू होता है वहीं एक से ज्यादा भाषा बोलने वालों के लिए यह संख्या 75 है। इस शोध में आमदनी, पढाई, लिंग आदि सभी कारकों को सम्मिलित किया गया लेकिन नतीजे एक से ज्यादा भाषा बोलने वालों के हित में ही आए।