डरावनी फिल्म देखना बना सकता है आपको सेहतमंद इन 8 तरह से

282
image credits: Business insider

क्या आपको हॉरर फ़िल्में देखना पसंद है? आपकी यह पसंद दरअसल आपकी सेहत के लिए भी बहुत अच्छी है। डरावने दृश्य देखने से आपका मस्तिष्क तेज़ी से सक्रीय हो जाता है तथा आपको कई लाभ देता है। पर ये लाभ तभी हैं जब आप फिल्म देखकर सच में डर अनुभव कर रहे हैं।

आइये जानते हैं डरावनी फ़िल्में आपको कैसे अच्छा स्वास्थ्य दे सकती हैं-

 

  1. कैलोरीज जलाए 

UK में हुए एक शोध में 10 लोगों को हॉरर फिल्म देखने को कहा गया तथा उसकी धडकन, शरीर से निकलने वाले कार्बनडाइऑक्साइड की मात्रा तथा ऑक्सीजन की खपत की मात्रा को नापा गया। देका गया की जो लोग फिल्म देखते हुए सबसे ज्यादा डरे, उनके शरीर ने सबसे ज्यादा कैलोरीज का उपयोग किया। इसका मतलब एक हॉरर फिल्म देखने से आप उतनी ही कैलोरीज जला देते हैं जो इतनी देर टहलने से जलाते।

 

2. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाए 

डरावनी फिल्म देखने से शरीर में कुछ देर के लिए रक्त प्रवाह तेज़ हो जाता है तथा सफ़ेद रक्त कोशिकाओं का निर्माण तेज़ हो जाता है। इन दोनों ही वजहों से आपका शरीर बेहतर तरीके से संक्रमणों से लड़ पाता है तथा आपको किसी भी खतरे से लड़ने के लिए तैयार करता है।

 

3. मूड सुधारे 

फिल्म देखते हुए कुछ देर का डर और तनाव आपको अगले कई घंटों के लिए बेहतर मूड दे सकता है। फिल्म खत्म होने के बाद लोग सामान्य से कम घबराहट, झुंझलाहट और चिंता महसूस करते हैं तथा खुश होते हैं।

 

4. आपके मस्तिष्क को सेहतमंद बनाए 

शरीर में भावनाओं का उतार चढ़ाव आपके दिमाग में ख़ुशी से जुड़े कई हॉर्मोन का स्त्राव शुरू करता है। इससे सिर्फ आपके दिमाग को हल्का महसूस नहीं होता बल्कि शरीर में भी भरपूर एड्रेनालाईन दौड़ने लगता है।

 

5. तनाव घटाए 

कई लोग हॉरर फिल्म के दौरान तनाव को बढ़ा हुआ महसूस करते हैं। अगर आप इनमें से हैं तो आप शायद इस लाभ को मानने से मना कर दें। पर इससे पहले अपने शरीर की ओर ध्यान ज़रूर दें। फिल्म देखने से आपके शरीर में एड्रेनालाईन तेज़ी से दौड़ रहा होता है जिससे न सिर्फ फिल्म से आया तनाव, बल्कि आपके जीवन में मौजूद तनाव भी कम होता है और आप डिप्रेशन से निकल पाते हैं।

 

6. अपने डर से सामना करना सिखाए

हॉरर फिल्मों की कहानी ज्यादातर उन्हीं विचारों और अनुभवों पर आधारित होती है जो हमें वास्तविकता में डराते हैं। हमारे अंदर बसे डर से इन कहानियों और दृश्यों की करीबी की मदद से ही हम अपने डरों को समझ पाते हैं तथा जीवन में इनसे लड़ने का हौसला पाते हैं।

 

7. प्रियजनों के करीब लाए 

अगर आप सच में हॉरर फिल्म देखते हुए डरते हैं तो फिल्म के दौरान या रात को सोते हुए किसी प्रियजन का साथ भी ज़रूर ह=खोजते होंगे। इस तरह एक साधारण फिल्म आपको आपके परिवार के लोगों और दोस्तों के करीब ला देती है तथा एक दुसरे के डर की समझ भी देती है।

 

8. फोबिया से उबरने में मदद करे 

आपको किस चीज़ से डर लगता है? मकड़ी, छिपकली, अँधेरी सीढियां, ऊंचाई या स्टेज पर खड़े होने से? हॉरर फिल्मों में जब आप किसी व्यक्ति को डर की वस्तुओं से लड़ते हुए देखते हैं तो आपका दिमाग यह विश्वास कर पाता है की वह भी इस डर से उबर सकता है। इस तरह आप अपने फ़ोबिया से उबरने की ओर पहला कदम बढाते हैं।

 

ये सभी लाभ तभी हैं जब आप फिल्म देखते हुए सच में डर अनुभव कर रहे हों। इसलिए आज ही कुछ डरावनी फिल्मों को ढूंढें और मनोरंजन के साथ अच्छा स्वास्थ्य पाने के लिए तैयार हो जाएं।