भविष्य में ऐसे होगा आपकी बीमारी का इलाज 

152
Image Credits: qs wownews

पिछली शताब्दी में तकनीक ने हमारे जीवन को पूरी तरह बदल कर रख दिया है। हम हमारे पूर्वजों से ज्यादा सुखी, सहज और सुरक्षित हैं और इसकी वजह तकनीक ही है। चिकित्सा जगत में भी आपने ये बदलाव देखें होंगे; आपके डॉक्टर के पास जहाँ बेहतर मशीने हैं वहीं आप fitbit जैसे उपकरणों की मदद से और भी स्वस्थ रह सकते हैं।

पर अब आगे क्या? आने वाले सालों में तकनीक चिकित्सा के और कौनसे नये द्वार खोलेगी? आइये जानें-

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस 

AI एक आधुनिक तकनीक है जिसके द्वारा एक कंप्यूटर मौजूद जानकारी के मुताबिक सटीक फैसले ले सकता है। यह तकनीक तेज़ी से चिकित्सा जगत का हिस्सा बन रही है और अस्पतालों के प्रबन्धन से लेकर रोगियों की देखभाल तक कई महत्वपूर्ण रूपों में मदद कर रही है।

आज के समय में हर रोगी डिजिटली सशक्त है तथा व्यक्तिगत देखभाल चाहता है। ऐसे में AI रोग की जानकारी, क्लिनिकल जांच, ट्रीटमेंट, रोगी की भूमिका, रोगी की निगरानी और सम्पूर्ण स्वास्थ्य पर नजर रखकर बहुमूल्य मदद कर सकती है।

ब्लाकचैन

यह तकनीक किसी भी लेन-देन को रिकॉर्ड करती है, एक नेटवर्क में जानकारी में आ रहे बदलाव को याद रखती है तथा सुचना को गुप्त रूप में जमा रखती है व् बाँटती है। इस तकनीक में किसी भी व्यवसाय को बदल देने की ताकत है लेकिन खास तौर पर चिकित्सा जगत में यह रोगी को प्रक्रिया के केंद्र में रख देती है जिससे इलाज और भी सरल हो जाता है। इसके ज़रिये स्वास्थ्य से जुडी जानकारी को सुरक्षित, निजी व् अंतर संचालित रखा जा सकता है।

डाटा साइंस 

स्वास्थ्य से जुडी जानकारियां बढ़ रही हैं और आगे इनके बढने की दर और भी तेज़ हो सकती है। ये सभी जानकारियां बेहद ज़रूरी है; एक व्यक्ति के चले जाने के बाद भी उसके स्वास्थ्य से जुडी जानकारियां उसके करीबियों के इलाज में काम आ सकती है। ऐसे में जानकारी का भंडारण व् इसकी उपलब्धता दोनों ही ज़रूरी है। डाटा साइंस की ज़रिये हॉस्पिटल के प्रबन्धन में इस तरह बदलाव लाया जाता है की जानकारियां और भी बेहतर तरह से रखी जा सकें।

मशीन लर्निंग 

जानकारी को देखकर, समझकर उससे सीखना मनुष्य को दी गयी एक अद्भुत काबिलियत है। मशीन को भी हमने इस काबिलियत का उपयोग करना सिखाया है जिसे मशीन लर्निंग कहा जाता है। इसकी मदद से हम रोगी के स्वास्थ्य से जुडी सबसे ताज़ा जानकारी पा सकते हैं, रोगों का पैटर्न समझ सकते हैं, सम्भव इलाज ढूंढ सकते हैं तथा क्लिनिकल ट्रायल के नतीजों को समझ सकते हैं।

Predictive Analytics

हमारे चिकित्सक नये शोधों से हमेशा अवगत रहना चाहते हैं ताकि रोगी की हर सम्भव मदद हो सके। पर हर एक जानकारी को याद रखना उनके बस में नहीं, खासकर जब उनके पास समय और स्टाफ की कमी हो। इसी वजह से कई चिकित्सक और इन्शुरन्स कंपनी Predictive Analytics अपना रही हैं।

विभिन्न तरह की जानकारियों की मदद से यह तकनीक यह बता पाती है की रोगी को किन समस्याओं के होने की सम्भावना है तथा इन नतीजों पर कितना भरोसा किया जा सकता है। यह जानकारी अन्य रोगियों व् वर्तमान रोगी की पुरानी जानकारी के अनुसार दी जाती है।