गर्मियों में अमृत समान – पलाश का शर्बत

2624
palaash-sharbat
image credits: blogger

आयुर्वेद में पलाश के पेड़ को ब्रह्मवृक्ष का नाम दिया गया है। यह गुणकारी वृक्ष इंसान को कई तरह की व्याधियों से बचाने में मदद करता है। इसका अर्क नेत्रज्योति बढ़ाता है तथा बुद्धिवर्धक भी है। इसके सेवन से पित्त दोष संतुलित रहता है तथा पित्तजन्य रोगों से मुक्ति मिलती है। पलाश का शर्बत गर्मियों में लाभ के साथ-साथ शीतलता भी देता है।

 

घर पर आसानी से पलाश का शर्बत कैसे बनाएं, आइये जानें-

 

सामग्री-

पलाश के फूल- 1 कटोरी

सौंफ- 2 चम्मच

शक़्कर या गुड़- स्वादानुसार

नींबू का रस-2 चम्मच

काला नमक-चुटकी भर

पुदीना-सजावट के लिए

बर्फ के टुकड़े

जानिए गर्मियों का स्वादिष्ट व हेल्दी पेय – आइस्ड टी – के फायदे तथा रेसिपी 

विधि-

एक कटोरे में 2 कप पानी लें। इसमें पलाश के फूल और सौंफ डालें। इस मिश्रण को रात भर ढक कर रख दें।

अगली सुबह एक छन्नी की मदद से पानी छान लें। पलाश के फूल को भी अच्छी तरह निचोड़ लें।

अब शर्बत में शक़्कर या गुड़ मिला दें। शक़्कर घुलने के बाद नींबू का रस और काला नमक मिलाएं।

शर्बत को अब ठंडा होने रख दें। परोसने के लिए शर्बत को एक गिलास में निकालें, बर्फ के टुकड़े डालें और पुदीने की पत्तियों से सजाएं।

आम पना – गर्मियों के मौसम का एक सर्वोत्तम पेय

पलाश का शर्बत मेहमानों को परोसने के लिए श्रेष्ठ है। पर अगर आप पलाश के लाभ लेना चाहते हैं हैं तो रोज़ 20-50 मिली तैयार शर्बत को एक गिलास ठंडे पानी में मिला कर दिन में दो बार ले सकते हैं। इसके लिए ऊपर दी गयी विधि से शर्बत तैयार करें। इस अर्क को आप एक बार बना कर 15 दिन तक उपयोग किया जा सकता है।