सुबह के नियम जो आपके दिमाग को दिन भर के काम के लिए करेंगे तैयार

1233
morning-walk
image credits: indiatimes.com

अगर आप जीवन में सबसे आगे रहना चाहते हैं या अपने ही पैमानों पर सफल होना चाहते हैं तो इस राह में आपका दिमाग ही आपका सच्चा साथी है। (good morning habits for health) जिस तरह एथलिट रोज़ अपने शरीर को स्ट्रेच करते हैं और गायक रोज़ रियाज़ करते हैं, उसी तरह हमें अपने कार्यों में सफल होने के लिए दिमाग का सही रख-रखाव करने की ज़रूरत है। इसके लिए ज़रूरी है सुबह जागने के बाद के एक घंटे को सही से उपयोग करना।

 

जानें क्या है इस दुनिया के सबसे सफल व्यक्तियों का मॉर्निंग रूटीन-

 

नियम का महत्व-

जिस कर्म को हम रोज़ करते हैं वो हमारी आदत बन जाता है और इसे हम कम उर्जा या ध्यान के भी कर सकते हैं। ऐसे कर्म को भुला पाना या बदलना भी आसान नहीं होता है। इसलिए कहा जाता है की हमेशा अच्छी आदतें अपनानी चाहिए क्यूंकि सफलता का राज़ इन्हीं आदतों में है। तो जिस कर्म को आप अपनी आदत बना रहे हैं उसे रोज़ तय समय पर सम्पन्न करें। ऐसा करने पर अगर आप कभी भूल भी गये तो आपका अचेतन मन आपको इस कर्म का ध्यान ज़रूर करवाएगा।

 

तय समय पर उठें-

कई लोग सुबह उठने का समय तय नहीं करते। रात को काम कर लेने या पार्टी में जाने या छुट्टी होने पर वे देर तक सोते हैं तो कभी बहुत काम होने पर सुबह बहुत ही जल्दी उठ जाते हैं। ये आदत दीर्घकाल में आपके शरीर पर कई विपरीत प्रभाव डाल सकते हैं। इसलिए रोज़ सोने व् उठने का समय तय करें और सुबह अलार्म बजते ही तुरंत बिस्तर छोड़ दें।

 

पानी पियें-

आपके दिमाग का बहुत बड़ा हिस्सा पानी से बना है। तो शरीर में पानी की थोड़ी भी कमी होने पर आपका दिमाग धीमा होने लगता है और आप सही से कार्य नहीं कर पाते। कोशिश करें की सुबह उठते ही 1-3 गिलास पानी पियें।

 

उलटे हाथ का प्रयोग करें-

इसके बाद ब्रश करने, बिस्तर जमाने या नास्ता बनाने जैसे आसान कामों में अपने उस हाथ का प्रयोग करने की कोशिश करें जिसका प्रयोग आप अक्सर नहीं करते। इस तरह आपके दिमाग का वो हिस्सा भी सक्रीय होगा जिसका अक्सर प्रयोग नहीं होता तथा दिमाग के दोनों हिस्सों में संतुलन भी बनने लगेगा।

 

प्राणायाम करें-

दिमाग को पानी के अलावा ऑक्सीजन की ज़रूरत भी भरपूर मात्रा में होती है। इसे ऑक्सीजन पहुंचाने का सबसे अच्छा तरीका है प्राणायाम। सुबह उठकर 10-25 मिनट प्राणायाम की क्रिया को सही से करने में लगाएं और आप जल्द ही फर्क महसूस करने लगेंगे।

 

वर्कआउट करें-

एक स्वस्थ दिमाग एक स्वस्थ शरीर में ही रह सकता है। रोज़ सुबह 15 मिनट का समय योग, कार्डियो या दौड़ में लगाएं और दिमाग के साथ-साथ शरीर को भी स्वस्थ बनाएं। अगर आप किसी रोग से ग्रसित हैं तो इस नियम से आपके रोग का असर भी कम होगा और आपके कार्य सुचारू होने लगेंगे।

 

सेहतमंद नाश्ता बनाएं-

आपका दिमाग भले ही आपके शरीर की तुलना में कम वज़नी हो पर इसे कुल पोषण के 20 प्रतिशत तक ही ज़रूरत होती है। इसलिए सुबह के इस घंटे में पोषक नाश्ता करें। कई रंगों के फल, सब्जी और अनाज से बना नाश्ता आपके दिमाग को सभी ज़रूरी पोषण देगा।

 

कुछ पढ़ें या दिमाग की कसरत करें-

आम इंसान जहाँ साल में 2-5 किताबें पढ़ता है वहीं सफल व्यक्ति महीने में 4 किताबें पढ़ लेते हैं। सुबह उठकर अपनी रूचि के अनुसार ही किताबें या लेख पढ़ें और अपने ज्ञान का दायरा बढाएं। इसके अलावा सुडोकु, नंबर ग्रिड, पहेली या अन्य ब्रेन गेम्स खेलकर आप अपने दिमाग की स्ट्रेचिंग भी कर सकते हैं।

 

इस रूटीन के बाद आप अपनी दिनचर्या या अन्य काम के लिए तैयार हो सकते हैं। इन नियमों को आज से ही अपनाएं और जीवन में सकरात्मक बदलाव महसूस करें।