ग्रीन टी के नियमित सेवन के चमत्कारी फायदे

3596
green tea benefits
image credit: medicalnewstoday.com

आजकल ग्रीन टी का इस्तेमाल बढ़ रहा है। (Green tea benefits hindi) स्वास्थ्य के प्रति जागरूक लोग काली चाय या कॉफी के बदले ग्रीन टी का सेवन करने लगे हैं। हजारों वर्षों से इसका इस्तेमाल दवा के रूप में किया जा रहा है। इसकी उत्पत्ति चीन में मानी जाती है।आजकल ग्रीन टी का प्रयोग ब्लड प्रेशर कम करने से लेकर कैंसर की रोकथाम जैसे विभिन्न उद्देश्यों से किया जा रहा है। काली चाय की तुलना में ग्रीन टी में अधिक खूबियां होने का राज इसके प्रसंस्करण के तरीके में छिपा है। काली चाय के प्रसंस्करण में एक चरण खमीरीकरण का होता है जबकि ग्रीन टी के प्रसंस्करण में खमीरीकरण प्रक्रिया नहीं होती है। इससे ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट्स और पॉलीफिनॉल जैसे तत्व अधिकतम मात्रा में संरक्षित रहते हैं।

इसके कुछ आश्चर्यजनक फायदोंकी सूची नीचे दी गई है। इनमें से कुछ फायदों पर अभी सर्वसम्मति नहीं बनी है इसलिए चिकित्सा के उद्देश्य से ग्रीन टी का इस्तेमाल करने से पहले आप स्वयं जांच-पड़ताल कर लें।

1. वजन कम करना (weight loss tips) – ग्रीन टी मेटाबोलिज्म बढ़ाता है। ग्रीन टी में पाया जाने वाला पॉलीफिनॉल फैट के ऑक्सीडेशन के स्तर तथा शरीर द्वारा भोजन को कैलोरी में बदलने की दर को तेज कर देता है।

2. डायबिटीज (diabtets treatment tips) ग्रीन टी भोजन के बाद ब्लड सुगर (रक्त शर्करा) की वृद्धि को कम कर के ग्लूकोज स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह उच्च इंसुलिन स्पाइक्स और उससे होने वाले फैट के जमाव को रोक सकता है।

3. हृदय रोग (heart problems) वैज्ञानिकों का मानना है कि ग्रीन टी रक्त नलिकाओं की सतह पर काम कर उन्हें नरम बनाए रखता है और ब्लड प्रेशर में बदलाव को झेलने में अधिक सक्षम बनाता है। यह रक्त के थक्कों, जो हृदय आघात के मुख्य कारण होते हैं, को भी बनने से रोकता है।

4. भोजन नली का कैंसर- यह भोजन नली के कैंसर को खतरे को कम कर सकता है साथ ही अधिकांश लोगों का मानना है कि यह सभी प्रकार के कैंसर कोशिकाओं को, बिना उनके आसपास की स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाए, खत्म कर सकता है।

5. कोलेस्ट्रॉल- ग्रीन टी रक्त में पाए जाने वाले बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और उनकी तुलना में गुड कोलेस्ट्रॉल के अनुपात को बढ़ाता है।

6. अल्झाइमर तथा पार्किंसंस रोग- माना जाता है कि ग्रीन टी अल्झाइमर तथा पार्किंसंस रोगों के कारण होने वाले ह्रास को विलंबित करता है। चूहों पर किए गए अध्ययन दर्शाते हैं कि ग्रीन टी मस्तिष्क की कोशिकाओं को खत्म होने से बचाता है और क्षतिग्रस्त मस्तिष्क कोशिकाओं की मरम्मत करता है।

7. दांतों की सड़न- अध्ययनों से पता चला है कि ग्रीन टी में पाया जाने वाला कैमिकल एंटीऑक्सीडेंट ‘कैटेशिन’ बैक्टीरिया और वायरस को खत्म करता है जो गले का संक्रमण, दांतों के क्षय तथा दांतों की अन्य समस्याओं को जन्म देते हैं।

8. ब्लड प्रेशर- माना जाता है कि ग्रीन टी का नियमित उपयोग हाई ब्लड प्रेशर के खतरे को कम करता है।

9. डिप्रेशन (अवसाद)- थियानिन चाय की पत्तियों में प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला एमिनों एसिड है। माना जाता है कि इस तत्व का आरामदायक और शमनकारी प्रभाव होता है तथा चाय पीने वालों को मिलने वाला यह सबसे बड़ा फायदा है।

10. एंटी-वायरल तथा एंटी- बैक्टीरियल:चाय में पाए जाने वाले कैटेशिन प्रबल एंटी-वायरल तथा एंटी-बैक्टीरियल तत्व होते हैं जिससे यह इंफ्लूएंजा से लेकर कैंसर तक सभी रोगों के इलाज में प्रभावकारी होते हैं। कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि ग्रीन टी कई रोगों को फैलने से रोकता है।

11. त्वचा की देखभाल ग्रीन टी प्रत्यक्ष रूप से झुर्रियों और उम्र बढ़ने की निशानियों में मददगार हो सकता है। ऐसा इसके एंटीऑक्सीडेंट्स तथा प्रदाहरोधी(एंटीइंफ्लामेट्री) विशेषताओं के कारण होता है। पशुओं और मानवों पर किए गए अध्ययनों में पाया गया है कि ग्रीन टी से सूर्य की विकिरणों से होने वाली हानि को कम किया जा सकता है।