हिडन हंगर : कहीं आपकी भूख छुपी हुई तो नहीं है?

286
Image Credits: Borgen Project

आहार हमारे शरीर का इंधन है और इसकी हर एक क्रिया के सञ्चालन के लिए बेहद ज़रूरी है। दिन में दो या तीन बार भोजन करना हम सभी की दिनचर्या का हिस्सा होते हैं। इस भोजन में मौजूद कार्ब्स, वसा, शक्कर आदि हमें उर्जा देते हैं जिससे हम दिन भर के कार्य कर पाते हैं। साथ ही हमें कई अन्य पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है जिससे विभिन्न क्रियाओं को सम्पन्न किया जा सके।

22 साल की रिया को स्वादिष्ट खाना बहुत पसंद है। वो अक्सर जंक फ़ूड और स्ट्रीट फ़ूड खाती है तथा कोल्ड ड्रिंक्स पीती है। हाल ही में रिया का काफी वजन बढ़ गया है। इतना ही नहीं, भोजन करने के बाद भी वो थका हुआ महसूस करती है तथा अपने कार्य पर ध्यान नहीं लगा पाती। रिया को जांच करवाने पर पता चला की उसे कई ज़रूरी पोषक तत्वों की कमी है।

यह सिर्फ रिया की नहीं, बल्कि कई लोगों की कहानी बन चुकी है। समय की कमी और पैसों की बहुतायत लोगों को ऐसे विकल्प चुनने पर विवश करती है जो उन्हें गलत खाने की लत लगा देता है। उन्हें भरपूर कैलोरी तो मिल जाती है पर पोषण नहीं मिल पाता।

इसी अवस्था को छुपी हुई भूख कहते हैं। WHO ने इसे हिडन हंगर (Hidden Hunger) कहा है। ऐसा होने पर आप ज़रूरत के मुताबिक पोषण नहीं लेते लेकिन कैलोरी भरा भोजन लेने से आपको भूख भी नहीं लगती।

अगर इस अवस्था को यों ही छोड़ दिया जाए तो जल्द ही आपके शरीर में कमजोरी रहने लगेगी, थकन रहेगी, ध्यान में कमी रहेगी, काम में रूचि कम हो जाएगी तथा आगे चलकर कई बीमारियाँ होंगी।

इस समस्या का समाधान एक पूरक आहार है जिसमें हर प्रकार का आहार ज़रूरी मात्र में शामिल हो। ये ज़रूरी आहार प्रकार हैं-

अनाज व् दाल 

ये विटामिन और मिनरल का स्रोत होती है तथा इन्हें हमेशा बिना रिफाइन किये खाना चाहिए।

डेरी

विटामिन बी12, विटामिन A, आयरन, आयोडीन, कैल्शियम और जिंक जैसे तत्वों का स्रोत

फल व् सब्जी 

सभी तरह के विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट का स्रोत

मेवे 

मिनरल्स से भरपूर तथा वसा में घुलने वाले विटामिन्स के स्रोत। इनेहं आप शाम के स्नैक्स के रूप में खा सकते हैं।