गर्मी की 6 आम समस्याओं से कैसे निपटें

1194
summer health problem
image credits: HealthPaper

हम अक्सर सर्दियों को बीमारी फैलने का मौसम मानते हैं और इसी समय बीमारियों से बचने की सबसे ज्यादा कोशिश भी करते हैं। पर गर्मियों में होने वाली समस्याओं और रोगों की भी कमी नहीं है। ये गर्मियों में आपको बहुत असहज कर सकती हैं तथा खुशनुमा मौसम का मज़ा खराब कर सकती हैं। (how to deal with common health problems in summer in india hindi)

 

बेहतर होगा की इनसे बचने की तैयारीयां पहली ही कर ली जाएं। कैसे? आइये जानते हैं-

 

फ़ूड पोइसोनिंग 

हर साल गर्मियों में हजारों लोग ख़राब खाने की वजह से बीमार पड़ते हैं जिनमें से कई लोगों की मृत्यु भी हो जाती है। इसकी वजह कीटाणु हैं जो गर्म मौसम में तेज़ी से बढ़ने लगते हैं और आपके अनुमान के पहले ही खाने को ज़हरीला बना देते हैं। गर्मियों में बाहर घूमना, पिकनिक जाना और मनपसंद व्यंजन खाना हम सभी को पसंद है पर इसी समय आपको सबसे ज्यादा सावधान रहने की ज़रूरत भी है।

पहले से पके खाने को जितना जल्दी हो सके फ्रिज में रखें। कोशिश करें की व्यंजन में डाली जा रही सामग्री ताज़ी हो तथा तुरंत पके व्यंजन ही खाए जाएँ।

फ़ूड पोइसोनिंग के छोटे-मोटे मामलों में आपको कुछ ही देर में आराम मिल जाएगा। पर अगर उल्टियाँ और दस्त न रुके तो जल्द ही चिकित्सक से मिलना बेहतर रहेगा।

 

घमोरियां 

शरीर के जो भाग कपड़ों से ढके रहते हैं उनमें अक्सर पसीने और नमी की वजह से लाल घमोरियां हो जाती हैं। ऐसे में आपकी त्वचा लाल पड़ सकती है तथा कुछ फुंसियाँ भी उभर सकती हैं।

इनसे बचने के लिए गर्मियों में सूती कपड़े पहने तथा पसीने को तुरंत सुखाने का प्रयास करें।

यह समस्या भी कुछ दिन सही देखभाल से ठीक हो सकती है। पर अगर त्वचा के इन हिस्सों में तकलीफ, सुजन और मवाद बनने लगा है तो चिकित्सक से ज़रूर मिलें।

 

पानी से होने वाली समस्याएँ 

गर्मियों में पानी की ज़रूरत बढ़ जाती है- पीने के लिए भी और अन्य चीज़ों के लिए भी। अक्सर घर के बाहर बहुत प्यास लगने पर हम बहुत ठंडा पानी पीते हैं जिससे हमें पानी में मौजूद गंदगी का स्वाद नहीं आता। यह बीमारी का एक बड़ा कारण बन सकता है। इसके अलावा वाटर पार्क, आस-पास की नदियों, स्विमिंग पूल आदि में डूबकी का लुत्फ़ उठाने में भी यही समस्या हो सकती है।

ऐसे पानी से आपको पेट की समस्या, त्वचा, कान और आँखों का संक्रमण सांस लेने में परेशानी, वायरस से होने वाले रोग आदि हो सकते हैं।

कोशिश करें की जिस पानी के सम्पर्क में आप आ रहे हैं उसकी शुद्धता सुनिश्चित हो। पीने का पानी घर से ही लेकर निकलें तथा ठंडे पानी के लालच में न आएं।

 

सिरदर्द 

गर्मियों में मस्ती के दौरान सूरज की गर्मी आपको तेज़ सिरदर्द दे सकती है। अगर आपको अक्सर सिरदर्द होता है तो यह समय आपके और भी मुश्किल हो सकता है। गर्मी में नसों के फूलने के अलावा पानी की कमी और थकान भी सिरदर्द की वजह बनती है।

इस समस्या से बचने के लिए भरपूर पानी पियें, सिर को गर्मी से बचाएं तथा बहुत थकने से बचें। सिरदर्द के निवारण के लिए आप दर्दनिरोधक ले सकते हैं।

 

हीट स्ट्रोक 

यह समस्या बहुत तेज़ गर्मी में ज्यादा समस्या बिताने से होती है। बढ़े तापमान में आपका शरीर ठंडक बनाए रखने की कोशिश करता है। यह कोशिश अगर बहुत लम्बे समय तक खीच जाए तो शरीर में कमजोरी, बेहोशी, अंगों की क्रियाएं बंद होना और अंततः मृत्यु की संभावना बन सकती है। अगर बच्चे गर्म मौसम में कार में बंद हो जाएं तो भी समस्या हो सकती है।

ऐसा होने पर पानी और ठंडी हवा के ज़रिये शरीर को अंदर और बाहर से ठंडा करने की कोशिश करें। इसके बाद उसे तुरंत चिकित्सक के पास लेकर जाए ताकि संभव जटिलताओं का निवारण किया जा सके।

 

सनबर्न 

धुप से रंग थोडा सांवला हो जाए तो कोई समस्या नहीं है। पर अगर आप लम्बे समय तक सीधी धुप में काम करते हैं तो आपको सनबर्न हो सकता है। सूरज की पराबैगनी किरणें आपकी त्वचा को बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है जिससे उबरना आसान नहीं। कुछ मामलों में यह स्किनकैंसर की वजह भी बनती है।

कोशिश करें की सूरज की सीधी धुप में काम न करना पड़े। छाया में काम करें, अच्छे सनस्क्रीन का उपयोग करें, त्वचा को कपड़े की मदद से बचाएं तथा टोपी/छाते का उपयोग करें।