घर में करें पंचकर्म क्रिया

878
Image Credits: Kerala

पंचकर्म को आयुर्वेद का गहना कहा जाता है। अगर आप भी इस अद्भुत क्रिया के लाभ की एक झलक देखना चाहते हैं तो घर पर ही इसका एक साधारण रूप आज़माएँ। इसे गर्भावस्था, कमज़ोरी, खून की कमी आदि समस्या में न करें।

शुरआत ऐसे करें 

पहले अपने शरीर के दोष का गुण जानें। ज़्यादातर लोगों में एक दोष मुख्य होता है वहीँ अन्य दोष इतने प्रभावी नहीं रहते। अपना समय आराम करने, हल्का फुल्का पढ़ने व् हल्के योग व् ध्यान में लगाएं।

इसे कम से कम 3 दिन की छुट्टी लेकर करें जब आप किसी भी तरह की व्यस्तता, कामुकता व् लालच से दूर रह सकें। इन दिनों आपके अंदर दबे हुई भावनाएं भी बाहर आ सकती हैं। इन्हें दोबारा न दबाएं, नियमित रूप से ध्यान कर अपने मन को शांत करें।

पहले से तीसरा दिन 

सुबह उठकर 4 चम्मच घी पियें। अगर आपको कोलेस्ट्रॉल या बीपी की शिकायत है तो इसकी जगह खाने से पहले 2 चम्मच अलसी खाएं। वाट दोष वालों को काला नमक और कफ दोष वालों को त्रिकटु घी में मिलाकर लेना चाहिए। रात में आधे से एक चम्मच त्रिफला एक कप में डालें तथा ऊपर से आधा कप उबला पानी डालें। दस मिनट रखने के बाद इसे पियें।

चौथे और पांचवे दिन 

सुबह दोपहर और शाम में सिर्फ खिचड़ी खाएं। अपने दोष के अनुसार इन सामग्रियों को डालकर पांच मिनट उबालकर चाय बनाएं-

वात- अदरक, जीरा और धनिया

पित्त- जीरा, धनिया, सौंफ

कफ- अदरक, दालचीनी, लौंग

सोते समय आधे कटोरी तेल से शरीर की बीस मिनट मालिश करें। वात के लिए तिल, पित्त के लिए सूरजमुखी तथा कफ के लिए मक्के का तेल का श्रेष्ठ है। कुछ देर लेटकर शरीर को सोखने दें। इसके बाद नहा लें; शरीर पर कुछ तेल छोड़ दें। इसके बाद त्रिफला लेकर सोने चले जाएं।

छठवे से आंठवा दिन 

खिचड़ी और चाय, मालिश, स्नान और त्रिफला का नियम चालु रखें। सोते हुए 1 चम्मच दशमूल को 2 कप पानी में 5 मिनट पानी में उबालें। इसे पूरी तरह ठंडा कर बस्ती करें। पानी को 30 मिनट से पूरी रात रोकने का प्रयास करें, फिर ही बाथरूम में जाएं।

नौंवा दिन और आगे 

बधाई हो, आपने पंचकर्म पूरी सफलता के साथ खत्म किया।नौवे दिन अपनी खिचड़ी में उबली सब्ज़ियां मिलाएं। इसके बाद धीरे धीरे रोटी व् अन्य सब्ज़ियां खाना भी शुरू करें।

इस दौरान पंचकर्म क्रिया आपको ज़्यादा चैतन्य, अनुशाषित और सौम्य बनाएगी। जैसे जैसे आपका शरीर और मन साफ़ होगा, आपका योग और जीवन भी बेहतर होता जाएगा। यही आयुर्वेद का मूल मकसद भी है।