जानिये स्वस्थ व चमकते दांतों के लिए कौन कौन सा आहार है फायदेमंद

1324
white-teeth
image credits: www.yosaki.com

हममें से कई लोग दाँतों के स्वास्थ्य को साफ़-सफाई से जोड़कर देखते हैं। पर स्वस्थ दांतों के लिए स्वस्थ मसूड़े ज़रूरी हैं जिसके लिए उचित आहार आवश्यक है। मीठे पेय तथा व्यंजन जहाँ दाँतों को नुकसान पहुंचाते हैं वहीं कुछ हितकर आहार दाँतों को लम्बे समय तक मजबूत रखते हैं। इसलिए कुछ आहारों को अपनाना आपको खुबसुरत मुस्कान दे सकता है।

 

आइये इन हितकारी आहारों को जानें-

 

पनीर-

अगर आप भी पनीर को पसंद करते हैं तो आपको पनीर खाने की एक और वजह आपके दांत दे रहे हैं। एक शोध के अनुसार पनीर खाने से मुँह का pH बढ़ जाता है जिससे दांत नहीं सड़ते। पनीर चबाने से मुँह में लार बनना भी बढ़ता है जिससे मुँह का स्वास्थ्य बेहतर होता है। इतना ही नहीं, पनीर कैल्शियम और प्रोटीन का स्रोत है जो दाँतों के लिए ज़रूरी है।

 

दही-

पनीर की तरह ही दही भी कैल्शियम और प्रोटीन का स्रोत है इसलिए इसका सेवन दाँतों को मजबूत बनाता है। दही में लाभदायक बैक्टीरिया भी पाए जाते हैं जो मुँह के स्वास्थ्य को बढ़ाते हैं। दही को अपने आहार में जोड़ना आपको बहुत सारे लाभ दे सकता है पर इसमें शक्कर मिलाने की जगह फलों की मिठास का उपयोग करें या सादा ही खाएँ।

 

हरी पत्तेदार सब्जियां-

शरीर के किसी भी अंग को स्वस्थ रखने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां सबसे अहम भूमिका निभाती है। दांतों के लिए भी इनमे मौजूद विटामिन और खनिज बहुत लाभदायक साबित होते हैं। ये कम कैलोरिज़ वाली होती है इसलिए इन्हें बिना चिंता के खाया जा सकता है। कई सब्जियों में भरपूर कैल्शियम भी होता है जो दांतों के निर्माण में ज़रूरी तत्व है। गर्भवती महिलाओं को अक्सर कमजोर दांत और झड़ते बालों से जूझना होता है लेकिन हरी सब्जियां आपको इस परेशानी से भी लाभ दे सकती हैं। तो आज से ही अपने सलाद में हरी पत्तेदार सब्जियों को जगह दें।

 

सेब-

जहाँ डॉक्टर हमें स्वस्थ दांतों के लिए मीठी चीज़ों से दूर रहने की सलाह देते हैं वहीं कुछ अपवाद भी हैं। सेब आदि फल मीठे होने के बावजूद दाँतों को लाभ पहुंचाते हैं। ये पानी और फाइबर से भरपूर होते हैं तथा मुँह से बैक्टीरिया को खत्म कर दाँतों को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। सेब को खाना ब्रश करने की तरह ही दाँतों को साफ़ करता है। इसलिए सेब के कुछ टुकड़े अपने टिफ़िन में रखना तथा इन्हें खाने के बाद खाना अच्छी आदत है।

 

गाजर-

सेब की तरह गाजर भी पानी और फाइबर से भरे होते हैं। थोड़े गाजर खाना आपके मुँह में लार की मात्रा बढ़ाता है जिससे कैविटी होने का खतरा कम होता है। इतना ही नहीं, गाजर विटामिन A के भी स्रोत है। तो छोटे गाजर को यूँही खाएं या अपने सलाद का हिस्सा बनाएँ।

 

अजमोद-

अजमोद भी बाकि फलों की तरह दांतों को साफ़ रखने में मदद करता है। यह दाँतों में फंसे खाने के टुकड़ों को निकालकर मुँह को स्वस्थ बनाए रखता है। इसमें दो महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट विटामिन A तथा C भी होते हैं जो मसूड़ों को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। अजमोद पसंद नहीं तो इसे क्रीम चीज़ की साथ आजमाएँ।

 

बादाम-

कैल्शियम और प्रोटीन से भरपुर होने के साथ ही बादाम कम शर्करा भरे होते हैं। ज़ाहिर है, स्वस्थ दांतों के लिए बादाम ही सर्वश्रेष्ठ आहार है। एक मुट्ठी बादाम आप लंच में ले सकते हैं या छोटे टुकड़े कर सलाद में मिलाकर इसे कुरकुरा अंदाज़ दे सकते हैं।

 

इन आहारों को भोजन में मिलाने के साथ ही आपको दिन भर में लिए जाने वाले अपने भोजन तथा पेयों पर भी ध्यान देना चाहिए। मीठी चीज़ों से दूर रहें, सही टूथपेस्ट चुनकर दांतों को साफ़ रखें तथा हफ्ते में एक बार मसूड़ों की मालिश ज़रूर करें।