आयुर्वेद की मदद से पाएं बेहतर मार्क्स

621
brain-power-food
image credits: http://www.howtoimprovebrainpower.com

हर विद्यार्थी चाहता है की वो बेहतर रूप से ज्ञानार्जन कर सके तथा बेहतर नतीजे पा सके। पढ़ाई हर व्यक्ति का आने वाला जीवन निश्चित करती है इसलिए ज़रूरी है कि पूरी निष्ठा से पढ़ाई की जाए। इस मेहनत के साथ ज़रूरत है एक स्वस्थ मस्तिष्क की, जो अर्जित ज्ञान को याद रख पाए तथा समय आने पर उपयोग भी कर पाए। आयुर्वेद के प्राचीनतम और आधुनिक शोधों पर आधारित कुछ उपाय इस दिशा में मदद कर सकते हैं। (how to score good marks in exam in short time, using ayurveda, yoga, natural in hindi)

 

तो आइये, जानते हैं आयुर्वेद द्वारा बताए उन सुझावों को जो आपकी पढ़ाई को और भी प्रभावी बना सकते हैं-

 

योग अपनाएं 

शारीरिक सक्रियता शैक्षिक प्रदर्शन बेहतर करने का सबसे प्रभावी तरीका है। व्यायाम आपके दिमाग की ओर रक्तप्रवाह बढाता है तथा समझ से जुड़े हिस्सों को मजबूती देता है। इसके साथ ही व्यायाम स्मरणशक्ति बेहतर करने में भी मदद करता है।

योग व्यायाम और ध्यान का एक अनोखा संगम है जहाँ शरीर के साथ मन भी संतुलित और शांत होता है। योग अपनाकर आप जल्द ही अपनी पढाई में सकरात्मक बदलाव देख सकते हैं।

 

आहारशैली सुधारें 

स्वास्थ्यवर्धक भोजन खाना उम्र के हर पड़ाव में ज़रूरी होता है पर परीक्षा के दिनों में इसकी महत्ता और भी बढ़ जाती है। फल, सब्जी, अनाज, दूध, मछली आदि से भरपूर आहार यह सुनिश्चित कर सकता है की आपको आपकी ज़रूरत के अनुसार भरपूर पोषण मिले।

शरीर के पुरे पोषण का 20 प्रतिशत दिमाग के लिए ज़रूरी होता है इसलिए पोषण में आई कोई भी कमी सीधे दिमाग पर असर डालती है। कोशिश करें की ताज़े पोषण आहार को भोजन में शामिल किया जाए।

 

कुछ जड़ी-बूटियों का सेवन भी करें 

आयुर्वेद के ग्रन्थों और आधुनिक शोधों के अनुसार ब्राह्मी का सेवन याददाश्त, बुद्धि और सक्रियता बढ़ाता है। यह एक बेहतरीन ब्रेन टॉनिक है जो आपके दिमाग में कुछ ज़रूरी रसायनों के स्तर बढ़ाकर आपका शैक्षिक प्रदर्शन बेहतर कर सकता है। रोज़ ब्राह्मी का शर्बत या टॉनिक लेना अपनी आदत में शामिल करें।

 

भरपूर नींद लें 

परीक्षा की तैयारियों के दौरान लम्बे समय तक एक जगह दिमाग लगाना बहुत थकाने वाला हो सकता है। इस थकान को लोग अक्सर कॉफ़ी या अन्य तरीकों को दूर करते हैं जो की सही तरीका नहीं हैं।

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा किए गये शोधों में देखा गया है की नींद और याददाश्त में गहरा रिश्ता है। जिन विद्यार्थियों की जीवनशैली में भरपूर नींद ज़रूरी हिस्सा होती है उनके नतीजे भी बेहतर होते हैं तथा स्वास्थ्य भी।

नींद दरअसल आपकी शोर्ट-टर्म मेमोरी को लॉन्ग-टर्म मेमोरी बनाने में मदद करती है। इसका अर्थ यह है की दिनभर आपने जो भी पढ़ा उसे लम्बे समय तक याद रखने में नींद आपकी मदद करती है। इस तरह पूरी नींद आपको ज्ञानार्जन में मदद करती है तथा स्वस्थ भी रखती है।

 

इस आसान नुस्खों को अपनाकर तथा संकल्पित मन से पढाई कर आप किसी भी छोटे या बड़े लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। इन्हें अपनाएं और जल्द ही अपनी प्रतिभाओं को बेहतर होता महसूस करें।