इन 7 कदमों से शुरुआत करें एक हेल्दी लाइफस्टाइल की

464
jogging
image credits: SquashSkills

स्वस्थ जीवनशैली हर व्यक्ति की मनोकामना होती है। फिर भी अक्सर हमें जीवन जीने का यह तरीका इतना मुश्किल लगने लगता है की हम इस दिशा में आगे बढ़ ही नहीं पाते। नीचे दिए इन नुस्खों को आज़माने पर आप भी जान सकते हैं की स्वस्थ जीवनशैली कोई मुश्किल डगर नहीं बल्कि बेहद सीधा रास्ता है-

 

  1. खाने में प्रोसेस्ड आहार की मात्रा कम कर दें

मैदे आदि से बने पैकेज्ड खाने की जगह ताज़े आहार को महत्व देने की आदत डालें। ताज़ी सब्ज़ियों और फल को दिन भर भोजन में शामिल करने से आप अनगिनत लाभ पा सकते हैं। यह कदम स्वस्थ जीवनशैली की ओर आपका सबसे महत्वपूर्ण कदम हो सकता है।

सब्ज़ी और फल को आप तरह-तरह के व्यजनों में शामिल कर सकते हैं। इनसे बना सलाद भी आपको इनका लुत्फ़ उठाने में मदद करेगा। पर अगर आप कुछ सरल और असरदार विकल्प ढूंढ रहे हैं तो इनका रस पीना शुरू करें। फलों के रस में कम मात्रा में सब्ज़ी का रस मिलाने से आपके जूस का स्वाद भी नहीं बदलेगा और आपको कई गुना लाभ भी मिल जाएंगे।

 

2. सोडा का सेवन कम कर इसकी जगह चाय आदि पेय को दें

अगर कोकाकोला, स्प्राइट आदि कोल्ड ड्रिंक्स और सोडा पीना आपकी रोज़ाना की आदत में शुमार है तो आपको इसे जल्द ही बदलने की ज़रूरत है। इस पेय से मिलने वाली अत्यधिक शक़्कर और कार्बन डाइऑक्साइड आपको कई तरह की बीमारियाँ दे सकती हैं। इन पेयों की जगह आप चाय, ग्रीन टी, हर्बल टी, काढ़े या डीकैफ कॉफ़ी अपना सकते हैं। ऐसा करने से आप सोडा के हानिकारक प्रभावों से तो बचेंगे ही, साथ में कैफीन की ज़रूरत भी पूरी कर पाएंगे।

 

3. भरपूर पानी पियें

हमारे जीवन का 75 प्रतिशत हिस्सा हम पानी की कमी के साथ गुज़ार देते हैं। इसकी एक बड़ी वजह यह है की लोग समझ नहीं पाते की उन्हें कितना पानी पीना चाहिए। दरअसल आपके शरीर की पानी की ज़रूरत आपके लिंग, आस-पास के वातावरण, मौसम आदि विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है। लेकिन सरलता से समझना चाहें तो आपको रोज़ाना उतने ही लीटर पानी पीना चाहिए जितना आपके वज़न के बारहवें हिस्से का वज़न किलोग्राम में है।

अगर आपको पानी का स्वाद पसंद  नहीं आता है तो आप इसमें नींबू का रस, फलों का रस आदि भी मिला सकते हैं। साथ ही ऐसे आहार को अपने भोजन में शामिल करें जिसमें 70 प्रतिशत से ज़्यादा पानी हो।

 

4. स्वयं के साथ समय बिताएं

बहुत सारे लोग स्वास्थ्य जीवनशैली को सुडौल शरीर से ही जोड़कर देखते हैं। पर आपकी भावनाओं के ऊपर भी ध्यान देना आपके लिए बहुत ज़रूरी है। रोज़ाना दिन का कुछ समय बिना किसी क्रिया के सिर्फ ख़ुद के साथ बिताएं। इस दौरान अपनी ज़रूरतों को समझें, मन में चलने वाले विचारों को जानें तथा किसी तरह की ग्लानि की मौजूदगी को पहचानें। यही समय आपको दिनभर अपने लिए सही फैसले लेने में मदद करेगा तथा सेहत की राह में आगे बढ़ाएगा।

 

5. एक रात पहले ही सुबह के वर्कआउट की सभी तैयारी कर लें

रात को अगले दिन की योजनाएं तैयार कर लें। ज़रूरत लगे तो एक डायरी लें तथा इसमें तिथि के अनुसार रोज़ाना के ज़रूरी कार्य लिखते  चले जाएं। देखें की आपकी वर्कआउट रूटीन में अगले दिन किन चीज़ों की जगह है। इसी के अनुसार योग मैट, वर्कआउट के कपड़े, जूते आदि सभी ज़रूरी सामग्री रात में ही निकाल कर रख लें। इस तरह अगले दिन सुबह आप इन झंझटों के चक्कर में बहाने नहीं बना पाएंगे।

 

6. भरपूर नींद लें

नींद आपके शरीर में भूख नियंत्रित करने के हॉर्मोन, ख़ुशी के हॉर्मोन, मेटाबोलिज्म दुरुस्त रखने के लिए हॉर्मोन आदि स्राव में मदद करती है। इस तरह आप अपने जीवन पर बेहतर नियंत्रण पा लेते हैं तथा शरीर को कई तरह समस्याओं से बचा सकते हैं।

 

7. व्यायाम उस  क्रिया को बनाएं जिसमें आपको आनंद आता हो

आप कितनी ही कोशिश क्यों न कर लें, आप उन ही कोशिशों को लम्बे समय तक बना कर रख सकते हैं जिनमें आपको आनंद आता हो। ये क्रियाएं नृत्य हो सकती हैं, दौड़ हो सकती हैं या फिर योग भी हो सकती हैं। कई बार लोगों को समझ में नहीं आता की उनकी दिलचस्पी किन क्रियाओं में है। ऐसे में आपको कई क्रियाओं को आज़मा कर देखना होता है तथा फिर रूचि के अनुसार चुनाव करना होता है।

आपकी यह कोशिश आपको अपनी फ़िटनेस रूटीन को लम्बे समय तक बनाए रखने में मदद करेगी।

यह भी पढ़ें –

  1. तांबे के बर्तन में पानी पीने के लाभ
  2. आयुर्वेद द्वारा सुझाए पानी पीने के नियम