माइग्रेन में सिरदर्द से छुटकारा पाएं इन उपायों से 

160
Image Credits: Science of Migraine

अक्सर माइग्रेन के उपचार के लिए हम दवाओं का उपयोग करते हैं। पर अगर आप माइग्रेन से पूरी तरह उबरना चाहते हैं तो आपको खुद की देखभाल रखनी होगी तथा माइग्रेन के दर्द को समझना होगा। अच्छे स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी जीवनशैली ही आपके माइग्रेन को कम करने में मदद करेगा। इसके बावजूद अगर माइग्रेन का दर्द उठे, तो इन उपायों को ज़रूर अपनाएं-

शांत वातावरण ढूंढें 

  • माइग्रेन शुरू होते ही एक शांत वातावरण को ढूंढें और आराम करें।
  • लाइट बंद कर दें। आवाज़ और रौशनी माइग्रेन बढ़ा सकती है। एक शांत और अँधेरे कमरे में आराम करें और नींद लें।
  • गर्म ठंडी पट्टी करें। अगर आप सह पाएं तो गर्म ठंडी पट्टी करना आपका दर्द कम कर सकता है। पर अगर इससे घबराहट हो तो जबरदस्ती न करें। ठंडे पानी से सर धोना भी आपको यह लाभ दे सकता है।
  • कैफीन लें। थोड़ी मात्रा में चाय या कॉफ़ी लेने से आपको कुछ देर के लिए दर्द से राहत मिल सकती है।

नींद लें 

माइग्रेन होने पर सोना कठिन हो सकता है। अच्छी नींद के लिए यह उपाय करें-

  • नींद का समय तय करें। रोजाना सुबह उठने और रात में सोने का समय तय करें और खुद को इस नियम की आदत डलवाएं। दोपहर में बीस मिनट से ज्यादा न सोएं।
  • दिन का अंत सही से करें। स्नान, संगीत या कोई और गतिविधि आपको अगर रात में रिलैक्स करती है तो इसे ज़रूर करें। रात में सोने से पहले आप क्या खा रहे हैं तथा का पी रहे हैं इसका ध्यान रखें।
  • सोने से कुछ घंटे पहले टीवी, कंप्यूटर, फ़ोन आदि से दुरी बना लें। अपने बेडरूम में ध्यान भटकाने वाली कोई चीज़ न रखें।
  • सोने की कोशिश न करें। सोने की कोशिश आपको और परेशां कर सकती है। अगर सोने में मुश्किल हो तो कुछ देर कोई और गतिविधि को दें।
  • दवाओं पर नजर रखें। अपने चिकित्सक से पूछें की कहीं कोई दवा आपकी नींद में दखल तो नही दे रही है।

व्यायाम करें 

शारीरिक गतिविधियों से आपके शरीर में ऐसे केमिकल का स्त्राव होता है जो आपके दर्द को कम करते हैं। साथ ही इनसे तनाव कम होता है, घबराहट खत्म होती है तथा आपका दिन बेहतर हो जाता है। मोटापा भी अक्सर सिरदर्द की वजह बनता है; नियमित व्यायाम इस सम्भावना से आपको बचाएगा।

तनाव कम करें 

अक्सर माइग्रेन के दर्द के उठने की वजह तनाव होता है। इसलिए तनाव कम करने की कोशिश को प्राथमिकता दें-

  • अपना जीवन सरल करें।एक दिन में बहुत सारी चीज़ें करने की कोशिश न करें। दिन का नियम बनाएं और इसका पालन करें। .
  • अपने समय का सदुपयोग करें। काम को टालना अक्सर तनाव की वजह बनता है।
  • ब्रेक लें। बहुत ज्यादा काम हो जाने पर खुद को थोडा समय दें। टहलने निकलें व् छुट्टी में कही घुमने जाएं।
  • अपना रवैया बदलें। परिस्थितियों में सक्रात्मकता महसूस करें और हमेशा अच्छा सोचने की कोशिश करें।

माइग्रेन की डायरी बनाएं 

एक डायरी में माइग्रेन के दर्द से जुडी जानकारी लिखते जाएं। ऐसा करने पर आपको समझ आएगा की किन चीज़ों से माइग्रेन ज्यादा तेज़ी से उभरता है तथा कौनसे उपाय ज्यादा प्रभावी हैं। इस डायरी की मदद से आप अपनी जीवनशैली और व्यवहार में भी बेहतर तरीके से बदलाव ला पाएँगे।