ठंड के मौसम में प्रोटीन से भरे मिष्ठानों की पाकविधि

3358
protein-packed-sweet-dishes
image credits: Sherise Rae

हम सभी मानते हैं की सभी मिठाइयां कार्बोहाइड्रेट्स, वसा और शक़्कर से भरी होती है और इनका सेहतवर्धक तत्वों का दूर-दूर तक कोई नाता नहीं होता। (Indian winter desserts full of protein) पर फिर भी हमारे बड़ों ने हमेशा शरीर की ताकत बढ़ाने के लिए तथा बदलते मौसम के असर को कम करने के लिए विशेष लड्डुओं की वकालत कि है। ये वो बहुमूल्य नुस्खे थे जिन्होंने पीढ़ियों को निरोगी रहना का तरीका बताया।

 

तो जब आपका मन कहे- “कुछ मीठा हो जाए” तो मैदे से बनी विदेशी मिठाइयों को न कहें और प्रोटीन तथा अन्य तत्वों से भरे लड्डुओं को खाएं। इन्हीं लड्डुओं में से कुछ की रेसिपीज हम आज आपके लिए लाएं हैं –

 

रवा लड्डू (Rava ladoo recipe)-

अन्य तरह के लड्डुओं से वज़न बढ़ने का डर रहता है तो रवे के लड्डू बनाएं। इनमें डाले सूखे मेवे आपको प्रोटीन एवं अन्य तत्व देकर मज़बूत बनाएंगे वहीं रवा इन्हें पचाना आसान बनाएगा।

 

इन्हें बनाना बहुत आसान है। पहले 1 1/2 कप रवा लें तथा कड़ाही में तब तक सेकें जब तक खुशबू न आने लगे। ठंडा होने के लिए रख दें। अब आधा कप नारियल के चूरे को भी इसी तरह भून लें। 3/4 शक़्कर(शुगर-फ्री विकल्प भी अपना सकते हैं) और 3-4 इलायची पीस लें। सभी तैयार सामग्रियों को एक साथ मिला लें। एक कड़ाही में 2 चम्मच घी गर्म करें। इसमें अपनी पसंद के सूखे मेवे काटकर डालें तथा अच्छी तरह फ्राई कर लें। तैयार मिश्रण में मेवे डालें। ज़रूरत लगने पर और घी डालें। मिश्रण के छोटे हिस्से लेकर लड्डू बना लें। कुछ घंटे खुली हवा में रखने के बाद बंद डिब्बों में रख लें। आप चाहें तो घी की जगह दूध भी उपयोग कर सकते हैं पर इन लड्ड़ओं को 1-3 दिनों में ही खा लेना चाहिए।

 

सोंठ और मेथी के लड्डू (Sonth aur methi ke ladoo)-

मेथी दाने, सोंठ, सौंफ और गुड़ से बने ये लड्डू खास उन महिलाओं के लिए बनाए जाते हैं जिन्होंने हाल ही में शिशु को जन्म दिया हो। ये नई माँ के शरीर को ज़रूरी पोषण और ताकत देते हैं। तेज़ ठंड में भी इन लड्डुओं को बनाकर खाया जा सकता है। कुछ लोगो के शरीर में ये गर्मी बढ़ा सकते हैं; ऐसे में रेसिपी से सोंठ हटा दें।

 

एक भारी तले की कडाही में आधा कप घी पिघलाएं। इसमें एक कप गेंहूँ का आटा डालें। कम आंच पर लगातार चलाते हुए आटा तब तक भुनें जब तक ये गुलाबी न हो जाए। इसमें 30 मिनट तक का समय लग सकता है। आंच बंद कर मिश्रण पूरी तरह ठंडा होने दें। दुसरे बर्तन में 1 चम्मच मेथी, 2 चम्मच सौंफ और 1 चम्मच सौंठ भुन लें, फिर इन मसालों को महीन पीस लें। आटे में 3/4 कप गुड़ की शक्कर और अन्य मसाले डाल दें। पुरे मिश्रण को अच्छी तरह गूँथ लें। इससे छोटे-छोटे लड्डू बनाएँ।

 

तिल के लड्डू (Til ke ladoo recipe)-

तिल के लड्डू त्योहारों की मिठाई है जिसकी खुशबू और स्वाद लम्बे समय तक याद रह जाते हैं। माना जाता है की ठंड में रोज़ सुबह खाली पेट इन लड्डुओं को बहुत अच्छी तरह चबाकर खाने से आँखों के सभी रोग दूर हो जाते हैं। ये बहुत पोषक और गर्माहट प्रदान करने वाले भी हैं।

 

4 कप तिल को अच्छी तरह साफ़ कर लें। इन्हें भारी तले के बर्तन में अच्छी तरह सेक कर पीस लें। 500 ग्राम गुड़ लेकर छोटे-छोटे टुकड़े कर लें। एक बर्तन में 1 चम्मच घी गर्म करें। इसमें घी डालकर पिघलाएं। आंच बंद कर पीसी तिल गुड में मिला दें। चाहें तो केसर के कुछ रेशे भी डालकर मिला सकते हैं। तैयार मिश्रण से छोटे-छोटे लड्डू बना लें।

 

रागी दलिया के लड्डू (Ragi ke ladoo ki recipe)-

रागी के आटे, दलिया के आटे, खजूर, शहद और दूध से बने ये लड्डू बहुत पोषक और पचाने में बहुत आसान हैं। इन्हें आप ऊपर से तिल या किसी नारियल से लपेटकर और भी दिलचस्प बना सकते हैं। रागी न मिलने पर सिर्फ दलिया के लड्डू भी बनाए जा सकते हैं।

 

1 कप दलिया को भुन लें। इसे मिक्सर में बारीक़ पीस लें। 20 पके खजूर लें, इनके बीज हटाकर काट लें। 15 खजूरों को पीस कर पेस्ट बना लें। 1/4 कप सफ़ेद तिल तथा 10-15 काजू को भुन कर रख लें। एक बर्तन में 1 चम्मच घी गर्म करें तथा इसमें दलिया का आटा भुन लें। दुसरे बर्तन में 2 चम्मच घी गर्म कर रागी भी भुन लें। दोनों तरह के आटे को धीमी आंच पर मिला लें। अब खजूर का पेस्ट डालें और अच्छी तरह मिलाएं। 1/2 कप शहद भी मिला दें। लड्डू का मिश्रण तैयार है। लड्डू बनाने शुरू करने से पहले तिल, नारियल और पीसी इलायची मिलाकर थोडा सेक लें। कटे खजूर भी मिला दें। अब मिश्रण से छोटे लड्डू बनाकर तिल के मिश्रण में घुमा लें। कुछ देर इन्हें हवा में ठंडे होने के लिए रख दें।

 

गोंद के लड्डू (Gond ke ladoo ki recipe)-

ये एक बहुत ही पारंपरिक मिठाई है जिसे बढती ठंड में खाने से बहुत सारे लाभ मिलते हैं। इसके मेवे आपको ताकत और पोषण देंगे तथा गोंद और गुड शरीर गर्म रखेंगे।

 

1 कप गोंद के छोटे-छोटे टुकड़े कर घी में तल लें। तले टुकड़े ठंडे हो जाए तो बेलन की मदद से कूट कर बारीक कर लें। बचे घी में 1 1/2 कप आटा सेकें। अब अपनी पसंद के सभी सूखे मेवों और इलायची को बारीक पीस लें। सभी तैयार सामग्रियों को मिला लें। एक बर्तन में 2 कप गुड़ और 1 कप पानी की चाशनी बनाएँ। इस चाशनी के कुछ चम्मच मिश्रण में मिलते हुए लड्डू बनाएँ। तैयार लड्डुओं को हवाबंद डिब्बों में रखें।

 

गाजर के लड्डू (Gazar ke ladoo ki recipe)-

ठंड के समय में उपलब्ध गाजर बहुत ही पौष्टिक और फाइबर से भरपूर होते हैं। जहाँ इनके सेवन के लिए गाजर का हलवा सबसे प्रसिद्ध विकल्प है वहीं गाजर के लड्डू नयेपन का एहसास करवाने वाले हैं।

 

कडाही में 100 ग्राम घी पिघला लें। इसमें 2 कप कद्दूकस गाजर डालें तथा अच्छी तरह भुन लें। अब इसमें 3/4 कप आटा डाल दें। मिश्रण को अच्छी तरह सेकें। कुछ मिनट बाद 20 ग्राम खाने वाली गोंद मिलाएं। इसमें 1 कप शक्कर और 1 गिलास दूध डालकर तब तक पकने दें जब तक मिश्रण गाढ़ा न हो जाए। गैस बंद कर इलायची पाउडर व् अपने पसंद के मेवों का पाउडर मिला दें। मिश्रण ठंडा होने दें। इससे छोटे-छोटे लड्डू बना लें।

 

हाल ही में लोग बढती मिलावट के कारण मिठाइयों से दूर भागने लगे हैं। समझदारी इसी में है की त्योहारों के आस-पास खोए की मिठाई से दूर रहें तथा मौसमी सामग्रियों वाले लड्डू को सही मौसम में ही बनाएँ। सभी सामग्रियों का ताज़ा होना भी सुनिश्चित करें।