गर्मियों में बाहर निकलते इन आम कीड़ों के काटने पर करें यह उपाय

2022
Insect-Bites-summer
image credits: First Derm

उड़ने, उछलने या रेंगने वाले, चाहे कोई भी तरह के कीड़े हों, इनके काटते ही पल भर में किसी भी मौज-मस्ती पर पानी फिर सकता है।

गर्मियों में सबसे आम कीड़े कौन से हैं और  इनके काटने पर क्या उपचार किया जाना चाहिए, आइये जानें-

 

मच्छर-

मादा मच्छर हमें काटकर हमारे रक्त से प्रोटीन लेती हैं जिसकी ज़रूरत उन्हें प्रजनन के लिए पड़ती है। नर मच्छर क्यूँकि अंडे नहीं देते, इसलिए काटते भी नहीं हैं। मच्छर के काटने पर इनकी लार हमारे रक्त में चली जाती है जिससे खुजली और हल्की सूजन आ जाती है जो एक या दो दिन में ठीक हो जाती है।

भगाइये मच्छरों को इन आसान घरेलु नुस्खों से, पाइये आजादी कैमिकल भरे मच्छरमारों से

मधुमक्खी और ततैये-

मादा मधुमक्खी और ततैये अपनी रक्षा करने के लिए ही काटते हैं। अगर इंसान से इन्हें खतरा महसूस हो तो यह अपनी डंक से रक्त में ज़हर डाल देते हैं जिससे दर्द, सूजन, एलर्जी और कभी-कभी रोग-प्रतिरोधक तंत्र में गंभीर समस्या उत्पन्न हो जाती है। इनके काटने का असर तुरंत होता है और कुछ घंटों में खत्म हो जाता है पर कुछ मामलों में यह 10 दिनों तक भी रह सकता है। कुछ मामलों में इनके काटने से गंभीर एलर्जी हो जाती है जिसे तुरंत चिकित्सक की निगरानी की ज़रूरत पड़ती है। इसके लक्षण में मुख्य हैं- सांस लेने में तकलीफ, गले या जीभ में सूजन, खुजली, त्वचा का पीला पड़ना, चक्कर आना, उल्टी आना, दस्त लगना, बेहोश होना या मृत्यु होना।

जानें डेंगू से बचने के उपाय और घरेलु इलाज

चीटियां-

चीटियों की कुछ ही खास किस्में, खासकर लाल चीटियां ही काट सकती हैं और खतरा होने पर डंक का उपयोग बचाव में करती हैं। इनके काटने से पस या मवाद भरे लाल फफोले पड़ जाते हैं। ज़्यादातर लोगों में यह अवस्था एक हफ्ते में ठीक हो जाती है पर कुछ लोगों में मधुमक्खी के काटने पर होने वाली एलर्जी जैसे लक्षण भी नज़र आते हैं जो गंभीर समस्या की ओर इशारा करते हैं।

नजला हो या बुखार, मलेरिया हो या टायफाइड, अपनाएं यह घरेलु नुस्खें

ऐसे बचें कीड़ों के काटने से-

कीड़ो से बचने के लिए किसी भी खुले अंग को ढकें और खुशबूदार चीज़ों जैसे परफ्यूम, डिओडरंट, खुशबूदार साबुन, शैम्पू आदि के उपयोग से बचें। हल्के रंग के कपड़े पहनें; यह गहरे रंग के मुकाबले कीटों को कम आकर्षित करते हैं। फूलों से लदे पेड़, रुका हुआ पानी और मधुमक्खी के छत्ते से दूर रहें। मीठे खाने की जूठन, शर्बत, कूड़ा और जानवरों की गंदगी को जल्द साफ़ कर दें। बाहर, खासकर घास में, हमेशा जूते ही पहने। आस-पास कोई मधुमक्खी या ततैया उड़ते देखें तो स्थिर हो जाएं या घर के अंदर चले जाएं; इनके काटने पर फैला रसायन और मधुमक्खियों को भी काटने के लिए सतर्क करता है। बाहर निकलने से पहले DEET युक्त कीट विरोधी क्रीम, स्प्रे आदि विकल्पं का प्रयोग करें।

कैसे अपने घर से भगाएं छिपकलियों को

यह भी जानें-

मधुमक्खी के काटने पर तुरंत डंक निकालें; आप इसे महीन कपड़े या साफ़ नाख़ून की मदद से निकालकर घाव को साबुन से धो लें। कीटों के काटने पर बेनाड्रिल जैसे एंटीहिस्टामिन लिए जाते हैं; इन्हे लेने के पहले अपने चिकित्सक से परामर्श लें या पैकेट पर लिखे निर्देशों का अनुसरण करें। लंबे समय से उपयोग की जा रही दवाइयों को भी गर्भवती या बच्चों को देने से पहले चिकित्सक से पूछ लें। कुछ ही दिन में कीड़े के द्वारा काटे  गए हिस्से में अगर सुधार न आये या इसमें सूजन, दर्द आदि बढ़ने लगे तो चिकित्सक से परामर्श ज़रूर लें। इन घावों से डंक तुरंत निकाल लें और इन्हे खुजाने से बचें। साँप, छिपकली या ऐसे किसी कीट जिसे आप पहचान नहीं पा रहे, का घाव होने पर तुरंत चिकित्सक से सलाह लें।

कॉकरोच बनते हैं कई बीमारियों का कारण, करें इनका खात्मा घरेलु उपचारों से