जायफल त्वचा और बालों के साथ-साथ करता है पाचन तंत्र और आंखोें की देखभाल

8954
Jaiphal-health-benefits
image credits: www.pelledolce.com

जायफल घर घर में प्रयोग किया जाने वाला एक प्रकार का मसाला है। (jayfal ke fayde, laabh, benefits) जायफल का स्वाद मीठा होता है, तथा वह अत्यंत ही सुगंधित भी होता है। जायफल का तेल भी बहुत ही उपयोगी माना जाता है। जायफल के तेल का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के सौंदर्य प्रसाधनों तथा आयुर्वेदिक औषधियों के निर्माण में किया जाता है। जायफल की तासीर गरम होती है, अतः सर्दियों के मौसम में जायफल का उपयोग उचित माना जाता है। जायफल में शारीरिक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक पोषकतत्व, खनिजपदार्थ, विटामिन इत्यादि पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। इसलिए जायफल को विभिन्न प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए एक प्रकार से प्राकृतिक तथा घरेलू उपाय के रूप में प्रयोग किया जाता है। जायफल में एंटी इन्फालामेंटरी तत्व होने की विशेषता भी पाई जाती है। जायफल हमारी त्वचा के स्वास्थ्य को बनाये रखने का कुदरत का दिया हुआ एक प्राकृतिक तथा चमत्कारिक वरदान है। जायफल का नियमित सेवन करने से हमारी त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने में काफी सहायता मिलती है। आयुर्वेद में भी जायफल का एक अपना ही महत्व है। गरम मसाले को तैयार करने में जायफल भी एक महत्वपूर्ण मसाला है।

आइये हम देखें कि किस प्रकार जायफल का नियमित उपयोग करने से हमें भिन्न प्रकार के स्वास्थ्य लाभ हो सकते है।

1) जायफल हमारे चेहरे पर पाए जाने वाली झुर्रियों को कम करने में बहुत ही सहायक माना जाता है। चेहरे की झुर्रियाँ मिटाने के लिए यदि जायफल को पीसकर उसका लेप बनाकर नियमित रूप से एक महीने तक इसे लगाने से चेहरे पर होने वाली झुर्रियों की समस्या को दूर किया जा सकता है। जायफल में जीवाणुविरोधी होने के गुण पाए जाते है। जिससे हमारी त्वचा साफ सुथरी रहती है तथा त्वचा संबंधी बीमारियाँ भी दूर होने लगती है।

2) जायफल का इस्तेमाल करने से हमारे बालों के स्वास्थ्य में भी बढावा मिलता है। जायफल पावडर को पानी में मिक्स करके मिश्रण तैयार कीजिए। इसे अपने बालों की त्वचा पर कम से कम 15 मिनट तक लगाकर रखें। थोडी देर बाद शैम्पू से बाल धो लें। इससे आपके बालों को स्वास्थ्य रहने में सहायता प्राप्त होती है। जायफल पावडर को बालों में लगाने से बालों को मजबूती प्रदान होती है। तथा बाल लंबे तथा घने होने लगते हैं।

3) काफी लोगों में कई तरह की पेट संबंधी समस्याएँ जैसे अपचन, एसीडीटी, तथा भूख कम लगना इत्यादि पाई जाती है। यदि भिन्न प्रकार के सलाद अथवा मीठे पदार्थों में थोडा सा जायफल पावडर छिडक दिया तो यह पाचन क्रिया को विनियमित करता है, भूख बढाता है, तथा डायरिया जैसी बीमारी को दूर करता है। जायफल में रेशों की अत्याधिक मात्रा पाई जाती है तथा कुछ ऐसे आवश्यक पोषक तत्वों का भी समावेश होता है जिससे पेटदर्द, एसीडीटी, तथा कब्ज जैसी समस्याएँ दूर होकर राहत मिलने लगती है।

4) जायफल में अत्यंत जीवाणुविरोधी होने के गुण पाए जाते है। जायफल हमारे मसूडों, दाँतों तथा सांस की बदबू की समस्याओं के निवारण का एक प्राकृतिक तथा प्रभावशाली उपाय है। जायफल मसूडों में होने वाली बीमारियाँ तथा दाँतों में होने वाले कीटाणुओं की वृद्धि को रोकने का एक अनोखा ही उपाय है। जायफल के पावडर को दांतों में लगाने से दांतों का दर्द कम होने लगता है तथा राहत मिलने लगती है।

5) जायफल खाने से हमारे मस्तिष्क का स्वास्थ्य भी बना रहता है। यदि जायफल के पावडर को दूध में डालकर पीया जाए तो, हमारे मस्तिष्क को सुचारू रूप से कार्य करने की क्षमता प्राप्त होती है, तथा अल्झाइमर जैसी बीमारी को भी दूर होने में मदद मिलती है। जायफल को नियमित रूप से खाने से मानसिक तनाव, चिंता तथा निराशा भी दूर होने लगती है तथा प्राकृतिक रूप से हमारी याददाश्त भी तेज होने लगती है।

6) भोजन में नियमित रूप से जायफल मिलाकर खाने से उसका स्वाद तो बढता है। जायफल में विभिन्न प्रकार के पोषकतत्व पाए जाने के कारण हमारे शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता भी बढती है, तथा हमारे शरीर को विभिन्न प्रकार की बीमारियों से लडने की शक्ति भी प्रदान होती है।

7) जायफल हमारी आंखों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए अत्यंत ही गुणकारी माना जाता है। जायफल को पानी के साथ पत्थर पर घिसें तथा लेप तैयार करें। इस लेप को नेत्रों की पलकों पर तथा आंखों के चारों तरफ लगाने से आंखों की रोशनी को बढने में सहायता प्राप्त होती है।