जीवन को जीना है तो अपनी फिलोसफी छोड़िए

488

अक्सर यह देखा जाता है कि हम अपनी अपरखी और धारणाओं पर आधारित फिलोसफी बना लेते हैं और लोगों से यह आशा करते हैं कि हमारी फिलोसफी के साथ सहमत हों और हमारी फिलोसफी हमारे मन में प्रमाणित हो।

लेकिन सोचिए क्या हमें सच मिलेगा, जी नहीं। क्योंकि हम तो लोगों से वो सुनना चाहते हैं जोकि हमारी फिलोसफी के अनुसार हो। यदि हम इस दुनिया में सच जानना चाहते हैं, जीवन को सही मायने में जीना चाहते हैं तो सबसे पहले हमें अपनी फिलोसफी से मुक्ति लेनी होगी। फिलोसफी छोड़िए और चल पड़िए इस दुनिया को नए ढ़ंग से जीनें, सुनिए सदगुरू जग्गी वासुदेव की जुबानी –

सौजन्य – www.youtube.com, sadhguru hindi, isha foundation