गर्मियों में लू लगने पर घरेलु उपचार, बचाव व सावधानियां

3890
heat-stroke-natural-home-remedies
image credits: www.batsonchirowellness.com

आजकल हर तरफ जानलेवा गर्मी की वजह से लोग परेशान हैं। लू लगने से बचने के घरेलु उपाय – Loo se bachne ke gharelu upaay in hindi

इस गर्मी के मौसम में लोगों को विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामना करना पडता है। गर्मियों के दिनों मे अक्सर लोगों को स्वास्थ्य संबंधी काफी तकलीफों से जूझना पडता हैं। गर्मियों में लू लगना (Heat Stroke) एक बहुत ही गंभीर स्वास्थ्य समस्या हैं।

 

कई बार तो लू लगना खतरनाक भी साबित हो सकता हैं। लू लगने से मृत्यु भी ही सकती है। लू लगने पर इसका दुष्प्रभाव हमारे मस्तिष्क पर पड़ सकता है। हमारे शारीरिक आंतरिक अवयवों के लिए भी लू लगना काफी हानिकारक हो सकता है। लू लगने का मुख्य कारण अधिक समय तक बाहर तेज धूप में रहना तथा शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा में पूर्ति ना होना।

लू लगने पर निम्नलिखित लक्षण पाए जाते हैं।

1) असहनीय सिरदर्द होना।

2) अत्याधिक गर्मी होने पर भी पसीना ना आना।

3) त्वचा का खुष्क, गर्म तथा लाल हो जाना।

4) माँसपेशियों में कमजोरी आना तथा अत्याधिक दर्द होना।

5) जी मिचलाना तथा उल्टी करने का मन होना।

6) हृदय गति में बदलाव आकर उसका तेज अथवा कम हो जाना।

7) बेहोशी महसूस होना।

8) साँस का तेज रूप से चलना।

आइये हम देखें कि लू लगने पर हम किस प्रकार से घरेलू उपायों को अपनाकर इस समस्या को दूर कर सकते हैं।

1) प्याज का रस – यह लू को दूर करने का एक सर्वश्रेष्ठ उपाय हैं। लू लगने पर प्याज का रस अपने कानों के पीछे तथा छाती पर लगाने से आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित होने में काफी सहायता मिलती हैं।

2) इमली का जूस – इमली में विटामिन्स, खनिजपदार्थ, तथा इलेक्ट्रोलाइटस की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। थोडी सी इमली को गरम पानी में भिगोकर थोडी देर बाद उस पानी को छान लें तथा उसमें थोडी सी शक्कर डालकर यह पानी पी लें।

3) आम का पन्ना – लू लगने पर आम पन्ना पीना एक तरह से स्वास्थ्य टॉनिक की तरह कार्य करता है। यह कच्चे आम के शीतलता प्रदान करनेवाले तत्वों से बना होता है। यह आम पन्ना कम से कम दिन में दो तीन बार पीना चाहिए। आम पन्ना में जीरा, सौंफ तथा काला नमक पाए जाने की वजह से यह आपके शरीर को ठंडक, ताजगी, स्फूर्ती तथा इलेक्ट्रोलाइटस प्रदान करता हैं।

4) छाछ तथा नारियल पानी – गर्मी में अत्याधिक पसीना आने के कारण शरीर में आवश्यक विटामिन तथा खनिज पदार्थों की मात्रा कम होने लगती हैं। छाछ पीने से आपके शरीर में यह कमी पूरी होने लगती हैं। लू लगने पर ठंडी ठंडी छाछ पीना बहुत ही फायदेमंद होता हैं। उसी प्रकार यदि नारियल पानी पीया जाए तो प्राकृतिक रूप से आपके शरीर का जलीकरण होता हैं तथा इलेक्ट्रोलाइटस की मात्रा को प्राकृतिक रूप से नियंत्रित होने में सहायता प्राप्त होती है।

5) धनिया या पुदीने का जूस पीएं – ताजे धनिया तथा पुदीने का रस निकालें तथा उसमें थोडी सी शक्कर डालकर यह पानी पीयें। लू लगने पर यह उपाय करने से शरीर के तापमान को कम होने में बहुत मदद मिलती है। धनिया तथा पुदीने का हमारे शरीर पर बहुत ही ठंडा प्रभाव पडने लगता हैं। तथा लू से राहत मिलने लगती हैं।

तो यह हैं कुछ घरेलू उपाय जिन्हें आप बडी आसानी से लू लगने पर इन्हें अपना सकते हैं। लू लगने पर आपकी निम्नलिखित बातों का भी अवश्य ही ध्यान रखना होगा।

1) किसी भी प्रकार की दवाईयाँ न लें। इनका सेवन करना हानिकारक साबित हो सकता हैं।

2) लू लगने पर उस व्यक्ति को तुरंत छाँव में ले जाए तथा यदि संभव हैं, तो उस व्यक्ति को ठंडे पानी से नहलाएं।

3) लू लगने पर शरीर का निर्जलीकरण होने लगता हैं। तथा नमक की मात्रा कम होने लगती हैं। ऐसे समय पर उस व्यक्ति को नमक वाला पानी या सादा पानी या अत्याधिक मात्रा में पेय पदार्थ पीने को दें।

लू लगने से बचने के उपाय –
निम्नलिखित उपायों से आप अपने आप को लू लगने से बचा सकते हैं।

1) अपने शरीर का सही रूप से जलीकरण करें। तथा गर्मी के मौसम में अत्याधिक मात्रा में पानी तथा पेयपदार्थों का सेवन करें।

2) अत्याधिक तेज धूप में बाहर न जाएं। यदि आपको तेज और कडकती धूप में बाहर जाना भी पड रहा है तो सनस्क्रिन लोशन अवश्य लगाएं।

3) कोशिश कर के ठंडे वातावरण में ही बाहर निकलें (जैसे शाम को अथवा रात को)।

4) अपने पहनावे की और खास प्रकार से ध्यान दें। हमेशा ढीले ढाले, हल्के फुल्के तथा अत्याधिक पसीना सोखने वाले कपडे ही पहनें।

5) सुबह 11 बजे से लेकर 3 बजे तक गर्मी के मौसम में धूप अत्याधिक तेज होती हैं। अतः इन समय के बीच कोई भी शारीरिक व्यायाम न करें। यदि आप व्यायाम कर रहे हैं तो, शरीर में पर्याप्त मात्रा में जलीकरण बनाए रखने के लिए व्यायाम करने से पहले तथा बाद में भरपूर मात्रा में पानी पीएं। यदि आप प्राकृतिक रूप से बने पेयपदार्थों (नारियल पानी, फलों का सेवन) का सेवन करेंगे तो आपको लू लगने से अवश्य ही सुरक्षा प्राप्त होगी।

6) कॉफी तथा अल्कोहोल जैसे पेयपदार्थों का सेवन बिल्कुल ना करें। इससे शरीर का निर्जलीकरण बढने लगता है।