क्या दूध और नमक एक साथ नहीं खाना चाहिए?

75
Iamge Credits: The Australian

शारीरिक शक्ति और विभिन्न लाभों के लिए दूध को बहुत लाभदायक माना जाता है। चाहे आपको मजबूत हड्डियाँ चाहिए हों या लम्बे बाल, दूध का सेवन करने का सुझाव हर कोई देता है। पर अगर आयुर्वेद की मानें तो यह बहुगुणी आहार शरीर में कई समस्याएँ भी पैदा कर सकता है, अगर इसे सही से न पिया जाए तो। विरुद्ध आहार कहे जाने वाले इस सिद्धांत से बांझपन, अंधापन, आँतों के रोग आदि समस्याएँ हो सकती हैं।

तो आइये जानते हैं किन आहारों के साथ दूध को कभी नहीं लिया जाना चाहिए-

दूध और फल

स्मूथी और शेक्स आजकल सबकी पसंद भी बन गये हैं और ट्रेंड भी। लेकिन इनके असर को अगर ध्यान से देखें तो आप समझ पाएँगे की इनसे शरीर को कई नुक्सान हो सकते हैं। फल जहाँ खट्टे होते हैं तथा पाचन के दौरान गर्मी पैदा करते हैं वहीं दूध ठंडा होता है तथा मिठास लिए होता है। ऐसे में अगर इन्हें साथ में लिया जाए तो शरीर में असंतुलन पैदा हो जाता है और असर सीधा आँतों पर पड़ता है। इसके बाद आपको सर्दी, कफ और एलर्जी की समस्या हो सकती है।

दूध और मांस

कई कॉन्टिनेंटल व्यंजनों में मांस के साथ दूध का भी स्थान होता है। आयुर्वेद ऐसे मिश्रण को पूरी तरह निषेध बताता है। दरअसल दूध अपने आप में एक पूरा आहार है जिसमें कई तरह के पोषक तत्व रहते हैं। ऐसे में शरीर को इसे पचाने में पूरी तरह समर्पित होकर काम करना पड़ता है। ऐसे में अगर आप मांस भी साथ में लेते हैं तो पाचन तन्त्र पर अत्यधिक दबाव बनता है। साथ ही मांस के मौजूद होने पर तन्त्र वे द्रव्य नहीं छोड़ता जिनकी ज़रूरत दूध को पचाने में पडती है। ऐसे में दूध पेट में खराबी पैदा करने लगता है।

दूध और मछली

भारत में माना जाता था की अगर दूध और मछली साथ खाई जाए तो त्वचा पर सफ़ेद दाग आ जाते हैं। हालाँकि पुराणी सभी मान्यताओं को आज गलत मान लिया जाता है लेकिन इस कहावत में कुछ तथ्य हो सकता है। मची शरीर में गर्मी पैदा करती है वहीं दूध ठंडक देता है। इन दोनों का मिश्रण शरीर में विषेले तत्व पैदा करता है जिससे चरम रोग हो सकते है।

दूध और नमक

इसी तरह दूध और नमक में विरोधी गुण होते हैं। जब आप सब्जी आदि में दूध डालते हैं तो नमक दूध के साथ प्रतिक्रिया करने लगता है और हमारे शरीर को नुक्सान पहुँचता है।