मोशन सिकनेस (यात्रा के दौरान उल्टी) से ऐसे निपटें

643
motion-sickness
image credits: TripSavvy

कुछ लोग प्लेन, गाड़ी तथा झूलों में बैठने पर बीमार महसूस करते हैं तथा उल्टियाँ भी करने लगते हैं। देखा गया है की कुछ लोगों को 3-D पिक्चर देखते हुए भी ऐसी समस्या होती है। इस समस्या को मोशन सिकनेस कहा जाता है। नाव या जहाज से यात्रा करते हुए ऐसे लक्षण को सी सिकनेस कहा जाता है हालाँकि दोनों एक ही है। (motion sickness home remedies natural – सफर के दौरान उल्टी से कैसे निपटें)

 

 

मोशन सिकनेस के कारण-

शरीर की चाल को दिमाग कई इन्द्रियों के ज़रिये के ज़रिये समझता है। जब शरीर खुद चलता है तो इन सभी इन्द्रियों का समन्वय दिमाग कर लेता है। पर जब शरीर अपनी मर्जी से नहीं हिलता तो दिमाग तक अलग-अलग सन्देश पहुँचते है जिनसे एक विरोधभास जन्म लेता है। माना जाता है की यही विरोधाभास मोशन सिकनेस का कारण होता है।

 

मोशन सिकनेस के लक्षण

इस रोग में आप मुख्यतः इन लक्षणों को महसूस करेंगे-

  • उलटी
  • जी मिचलाना
  • चेहरा पीला पड़ना
  • पसीना आना
  • अत्यधिक लार बनना
  • साँसें उथली होना
  • झपकी लगना
  • असहज लगना
  • तबियत खराब लगना

 

मोशन सिकनेस के ज्यादातर लक्षण गंभीर नहीं होते तथा स्वयं ठीक किए जा सकते हैं। पर रोगी की हालत अगर गंभीर होने लगे तो चिकित्सक की देखभाल की ज़रूरत पड़ती है। सामान्य तौर पर चिकित्सक आपके लक्षण के आधार पर ही उपचार करेंगे और किसी अन्य जांच की ज़रूरत नहीं होगी।

 

मोशन सिकनेस से ऐसे पाएं राहत 

आम तौर पर सफ़र खत्म होते ही मोशन सिकनेस के लक्षण भी खत्म हो जाते हैं लेकिन कई बार ये कुछ दिनों तक बरकरार भी रह सकते हैं। किसी भी मामले में आप इन उपायों को अपनाकर राहत पा सकते हैं-

 

क्षितिज की ओर देखें

आपकी गाडी जिस दिशा में जा रही है उस दिशा में खिड़की के बाहर क्षितिज की ओर देखें। ऐसा करने पर दिमाग को चाल का सही अंदाज़ा लगेगा और आप राहत महसूस करेंगे।

 

आँखें बंद कर सोने की कोशिश करें

अगर रात का समय है या गाडी के किसी हिस्से में रौशनी कम है तो वहां बैठकर आँखें बंद कर लें। हो सके तो सोने की कोशिश करें। इस तरह आँखों के ज़रिये संकेत जाने बंद होंगे और आपका दिमाग विरोधाभास से उबरने की बेहतर कोशिश कर पाएगा।

 

च्युइंग गम

कार में मोशन सिकनेस होने पर च्युइंग गम या ऐसी की किसी चीज़ को चबाने से आपको लक्षणों से आसानी से राहत मिल सकती है। इससे आँखों और संतुलन के संदेशों में सुधार होता है और दिमाग को राहत मिलती है।

 

ताज़ी हवा

ताज़ी ठंडी हवा से आपको लक्षणों से हल्की राहत मिल सकती है। इसकी वजह मूड में सुधार और उलटी की बदबू से निजात मानी जाती है।

 

अदरक

अदरक को मोशन सिकनेस में बेहद असरदार माना जाता है। यह टेबलेट के रूप में भी उपलब्ध है पर आप इसके ताज़े टुकड़े को साथ रख सकते हैं और ज़रूरत लगने पर चबा सकते हैं।

 

अगर इनमें से किसी भी उपाय से आपको आराम नहीं हो रहा है तथा असहजता बढती जा रही है तो चिकित्सक से दवाएं ज़रूर लें।

 

मोशन सिकनेस से बचाव 

उपचार के अलावा कुछ उपाय करके मोशन सिकनेस के लक्षणों को उभरने से रोका जा सकता है-

  • गाडी में उन सीटों पर बैठें जिनपर आपका चेहरा गाडी की चाल की ओर हो।
  • गाडी में सामने की बैठें और दूर के नज़ारों पर नजर टीकाएँ।
  • नाव पर भी दूर क्षितिज की ओर नजर रखें।
  • प्लेन में खिड़की के पास बैठें और खिड़की से बाहर देखें।
  • गाडी में बैठे हुए किताब पढने या फ़ोन की ओर देखने की कोशिश न करें।
  • अगर किसी सह-यात्री को मोशन सिकनेस हो रही है तो उसकी न देखें न ही बात करने की कोशिश करें।
  • सफर पर निकलने से पहले तेज़ गंध वाले/मसालेदार/तेलिय आहार न खाएँ।