मुंहासे हों या मधुमेह, या करना हो वजन कम, इन सब से निपटने के लिए इस तरह करें कलौंजी का इस्तेमाल

4146
nigella-seeds-black-onion-seeds-black-cumin-seeds-kalonji-kalongi-kalaunji
image credits: Melbury & Appleton

कलौंजी एक बेजोड़ मसाला है। (how to use kalonji seeds benefits for health benefits) अगर आपने कभी कलौंजी के बीजों का तड़का लगी दाल, सब्ज़ी या कचौड़ी का मसाला खाया हो तो आप भी यह मानते होंगे। इसका स्वाद और खुशबु तो बेमिसाल है ही, फायदे उससे भी अदभुत है। खतरनाक कीटाणुओं से रक्षा से लेकर त्वचा की कोशिकाओं की मरम्मत करने तक, कलौंजी के फायदे अनेक फायदों में से कुछ इस प्रकार है-

 

 

  • मुँहासे कम करता है

त्वचा से जुडी किसी भी समस्या में नींबू और कलौंजी के तेल का मिश्रण फायदेमंद होता है। एक कप नींबू के रस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल अच्छी तरह मिलाएं। इसे दिन में दो बार अपने चेहरे पर लगाएं। कुछ ही समय में आप अपने मुँहासे और झाइयाँ गायब होते पाएंगे।

  • मधुमेह का रोकथाम

कलौंजी का उपयोग आम तौर पर मधुमेह से लड़ने के लिए किया जाता है। अगर आपको मधुमेह की परेशानी है तो रोज़ सुबह एक कप काली चाय बनाएं और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिला कर पियें। जल्द लाभ देखेंगे।

  • अस्थमा में आराम

कलौंजी के कुछ बीजों को शहद डालकर पीस लें। इसे गर्म पानी के साथ पीने से अस्थमा जैसे श्वास-सम्बन्धी रोगों में लाभ होता है। ऐसा करने से स्मरण शक्ति भी बेहतर होती है।

Also Read: सरसों बीज के एक दर्जन शारीरिक लाभ, कुछ आप जानते होंगे, कुछ नहीं

  • सिरदर्द से छुटकारा

आज कल हम सभी सिरदर्द की समस्या से जूझ रहे है। इससे निजात पाने के लिए हममे से कई लोग पेनकिलर का सहारा लेते है जो सेहत को नुकसान पहुँचाती है। एक आसान रास्ता कलौंजी का तेल भी है। बस कुछ बुँदे अपने माथे पर लगाएं और आराम करें। चन्द मिनट में आप दर्द बंद हो जाएगा।

  • वज़न कम करता है

वज़न कम करने की कोशिश में है तो रोज़ गर्म पानी में शहद और नींबू डालकर तो पीते ही होंगे। इसमें एक चुटकी कलौंजी का पाउडर भी मिला दें तो असर दोगुना हो जाएगा। यकीन नही होता तो आज़मा के देखिये।

  • जोड़ों का दर्द कम करे

यह उपचार इतना पुराना है की इसे आप दादी माँ का नुस्खा भी कह सकते है- एक कटोरी में सरसों का तेल लेकर कुछ दाने कलौंजी डालें और गर्म करें। गैस से उतारकर सहने लायक ठंडा कर लें। इस तेल से जोड़ों की मालिश करने से दर्द जल्द खत्म हो जाता है।

Also Read: कई अहम बीमारियों को दूर करने में कारगार सिद्ध होते हैं बाबची के बीज़ 

  • रक्तचाप काबू में रखे

बढ़े रक्तचाप से परेशान लोगो को गुनगुने पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल डालकर पीने की सलाह दी जाती है। ऐसा करना हाइपरटेंशन को कम कर रक्तचाप को नियंत्रित करता है।

  • किडनी की सुरक्षा करे

किडनी में दर्द, स्टोन्स या संक्रमण आज एक आम समस्या है। गर्म पानी में शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल डाल कर पीने से इस समस्या से निजात और सुरक्षा मिलती है।

  • दांत मज़बूत बनाए

मसूड़ों में सूजन या कमज़ोर दांत जी समस्या भी कलौंजी से दूर भागती है। आधा चम्मच दही में थोड़ा कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में दो बार मंजन करें। जल्द आप असर देखने लगेंगे।

Also Read: हृदय, डॉयबिटीज, तेज़ दिमाग हो या त्वचा, इन सबका ख्याल रखता है सूरजमुखी के बीजों का नियमित सेवन

  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाये

कलौंजी के तेल को गर्म पानी और शहद के साथ पीने से आप सेहतमंद बनेंगे। रोज़ाना इसे पीने से आप कई तरह के रोग जैसे सर्दी, खांसी, फ्लू आदि से बचेंगे। अगर आपको ये समस्या पहले से है तो गर्म पानी में कलौंजी का तेल डालकर भाप लेने से तुरंत आराम मिलेगा।

इन दस फायदों को पढ़कर आप यकीनन अपने घर में नियम से कलौंजी रखने का मन बना चुके होंगे। पर सावधानियां बरतनी भी ज़रूरी है, जैसे-

  • किसी भी औषधि की तरह ही कलौंजी को रोज़ाना खाने का नियम बनाने से पहले एक चिकित्सक से सलाह अवश्य लें। उन्हें अपनी सभी एलर्जीस और बीमारियों के बारे में बताएं। नियमित ले रहे दवाओं के बारे में भी बताएं। इसके अनुसार चिकित्सक आपको उपयुक्त सलाह देंगे।
  • पित्त दोष की अधिकता वाले लोग कलौंजी के गर्म प्रभाव को सहन नही कर पाते। ऐसे में मसाले खाने पर उन्हें छाती और पेट में जलन होने लगती है। अपने संविधान को सही से समझकर ही किसी भी मसाले का उपयोग करें। अपने शरीर द्वारा दिए जा रहे संकेतों की ओर भी ध्यान देते रहें।
  • ज़्यादा माहवारी की समस्या और गर्भावस्था में कलौंजी का सेवन न करे।
  • बच्चो और दुग्धपान कराती माँ को कलौंजी का सेवन बहुत ही सिमित मात्रा में किया जाना चाहिए।

इन सावधानियों के साथ आप रोज़ 1-3 ग्राम कलौंजी के बीज के पाउडर का सेवन गर्म पानी और शहद के साथ करें। 

Also Read: अलसी के बीजों का उपयोग कर बनाइए यह 5 स्वादिष्ट व्यंजन