कैसे आर्डर करें रेस्टोरेंट में हेल्थी खाना

377
Fast_Food-at-restaurant
image credits: Dr. Nina Cherie Franklin

महीने में कुछ दिन घर के बाहर खाना परिवार से जुडाव और स्वाद बदलने का अच्छा तरीका है। इस लुत्फ़ हो हम सभी अनुभव करना चाहते हैं लेकिन इसी दौरान बाहर के खाने को सेहत के लिए नुकसानदायक मान चुके होते हैं। पर यही सच हो, ऐसा ज़रूरी नहीं है। (ordering healthy food at restaurants online in hindi)

 

थोड़ी जागरूकता बरतने पर आप रेस्टोरेंट में भी हेल्थी खा सकते हैं। आइये जानते हैं वो नुस्खे जिनसे आप ऐसा कर सकते हैं-

 

बटरड , क्रीमड, चीज़ी, फ्राइड आदि नामों वाली चीज़ों से बचें।

इन सभी में कम पोषण और भरपूर वसा, कोलेस्ट्रोल तथा कैलोरीज होती हैं जो स्वास्थ्य के लिए सही नहीं होती। इनकी जगह स्टीमड, ग्रिलड या रोस्ट या बेक्ड विकल्प चुनें।

साइड मेनू या सलाद के विकल्पों की ओर पहले देखें।

इस तरह आपको अंदाज़ा हो जाएगा की अगर मेनू में कोई अच्छा विकल्प न हो तो आप सेहत के अनुरूप क्या चुन सकते हैं। कई रेस्टोरेंट सलाद के स्वादिष्ट विकल्प उपलब्ध करवाते हैं जिन्हें आप ज़रूर आज़माना चाहेंगे।

स्टार्टर चुनते हुए समझदारी दिखाएँ।

अगर आप स्टार्टर में कुछ तला हुआ आर्डर भी कर रहे हैं तो साथ में एक प्लेट सालद भी आर्डर करें तथा दोनों ही चीज़ों को साथ में खाएँ। सालद के फाइबर की वजह से आप फ्राइड स्नैक्स ज्यादा नहीं खाएँगे लेकिन स्वाद से भी वंचित नहीं रहेंगे।

सलाद या अन्य व्यंजन आर्डर करते हुए ड्रेसिंग के बारे में ज़रूर पूछें।

रेस्टोरेंट में ड्रेसिंग के ज़रिये ही आपको छुपी हुई कैलोरीज और वसा परोसी जाती है जो आपकी मेहनत पर पानी फेर देती है। इनकी जगह सेहतमंद विकल्पों के बारे में पूछें।

खाने की मात्रा पर भी ध्यान दें।

अक्सर रेस्टोरेंट कुछ व्यंजनों की बहुत कम मात्रा परोसते हैं वहीं कुछ की बहुत ज्यादा। ऐसे में आप अक्सर ज्यादा खा लेते हैं लेकिन इसे समझ नहीं पाते। इसलिए शुरुआत कुछ ही व्यंजनों के आर्डर से करें तथा ज़रूरत लगने पर और आर्डर करें।

धीरे-धीरे खाएँ तथा स्वाद का लुत्फ़ लें

इस तरह आप खाने का भी मज़ा ले पाएंगे तथा शरीर भी खाने को पचाने के लिए तैयार हो जाएगा। यकीन मानिए, यह एक सुझाव आपकी कई मुश्किलें आसान कर सकता है तथा संतुष्टि भी दे सकता है।

क्षमता से ज्यादा न खाएँ ।

अगर खाने की मात्रा बहुत ज्यादा हो गयी है तो सब कुछ खत्म करने की कोशिश में न जुट जाएँ। अपनी क्षमता के अनुसार खाएँ तथा बचे खाने को पैक करवाने में झिझकें नहीं। रेस्टोरेंट में परोसे जा रहे अनियमित मात्रा के व्यंजन के चक्कर में न फसें।

अगर आप किसी व्यंजन में बदलाव चाहते हैं तो विनम्रता से वेटर, शेफ या मैनेजर से कहें

ज्यादातर रेस्टोरेंट अपने ग्राहकों की सेहत के प्रति जागरूकता को समझते हैं तथा उनके निवेदनों को ख़ुशी से मानते भी हैं।