वरदान है पुदीना, जानिए औषधीय गुण और घरेलु नुस्खे

4758
pudina-home-cure-tips-benefits
image caption: btpnkedah.moe.edu.my

हर्बस की दुनिया में पुदीना सबसे अधिक प्रचलित और फ़ायदेमंद हर्ब है। (pudina khane ke fayde in hindi) इसमें शरीर के लिए ज़रूरी तत्व पाए जाते हैं। इसके रोज़ाना सेवन से कई बीमारियों से छुटकारा मिलता है। शरीर की क़रीब सभी छोटी-बड़ी बीमारियों में इसका उपयोग कारगर होता है। इसका अर्क, पत्तियां और जड़ें सब का उपयोग औषधि के रूप में होता है।

 

पुदीना शरीर की बाहरी बीमारियों के साथ अंदरूनी बीमारियां भी ठीक करने में मदद करता है। शरीर के महत्वपूर्ण अंग जैसे-लीवर, फेफड़े, गर्भाशय के अलावा दांत और स्किन की बीमारियों में भी इसका सेवन कारगर होता है। किसी भी तरह की पॉयज़निंग होने पर पुदीना लेने की सलाह दी जाती है।

 

तो आइये जानते हैं किस तरह से पुदीने का उपयोग हमारे शरीर की विभिन्न समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है-

 

1. पाचन की समस्याः 1 चम्मच पुदीने के रस और 1 चम्मच नींबू के रस में शहद मिलाकर खाने से पेट के कीड़े दूर होते हैं और पाचन शक्ति बढ़ती है। पुदीने की पत्तियों के साथ कालीमिर्च, सेंधा नमक, हींग, जीरा की चटनी रोज़ाना खाने से पाचनशक्ति बढ़ती है और अपच की समस्या दूर होती है।

 

2. सिरदर्दः पुदीने की पत्तियों को पीसकर माथे पर लगाने से सिरदर्द से छुटकारा मिलता है।

 

3. गैस की समस्याः पुदीना, तुलसी, कालीमिर्च और अदरक का काढ़ा बनाकर पीने से गैस की शिकायत दूर हो जाती है।

 

4. पेटदर्दः 1 ग्राम पुदीने की पत्तियों के चूर्ण को मिश्री में मिलाकर खाने से पेटदर्द से राहत मिलती है।

 

5. सर्दी-खांसीः पुदीने के ताज़े रस और अर्क के सेवन से कफ़ और सर्दी की समस्या दूर होती है।

 

6. बुख़ारः पुदीने और तुलसी की पत्तियों का काढ़ा बनाकर पीने से बुख़ार उतर जाता है।

 

7. दाद-खुजलीः रोज़ाना दो बार पुदीने की पत्तियों को पीसकर लगाने से दाद और खुजली दूर होती है।

 

8. हिचकियाः पुदीने की पत्तियों का रस पीने से हिचकियां बंद हो जाती हैं।

 

9. गले की ख़राशः पुदीने की पत्तियों और नमक को गुनगुने पानी में मिलाकर गरारा करने से गले की ख़राश दूर होती है।

 

10. मुंह की दुर्गंधः मुंह की दुर्गंध और अन्य तकलीफ़ों में पुदीने की पत्तियां चबाकर खाने से राहत मिलती है।

 

11. त्वचा की समस्याः कील-मुंहासों और त्वचा पर खरोंच जैसी समस्याएं होने पर पुदीने की पत्तियों को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाना चाहिए।