रेकी से पा सकते हैं आप ये सभी लाभ

130
Image Credits: Mindbodygreen

रेकी एक तरह की वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति है जो जापान से उत्सर्जित हुई और अंदरूनी उर्जा को संतुलित करने का काम करती है। माना जाता है की इस क्रिया के दौरान विशेषज्ञ के हाथों से वैश्विक उर्जा रोगी के शरीर में प्रवेश करती है।

ज़ाहिर है, ऐसे दावों के चलते रेकी का विज्ञान विवादों में रहता है क्यूंकि इसके प्रभाव को वैज्ञानिक सिद्धांतों के माध्यम से सिद्ध करना मुश्किल है। फिर भी हाल के सालों में इसकी लोकप्रियता बढ़ी है तथा ज्यादा से ज्यादा लोग इस सेवा का अनुभव ले रहे हैं।

आइये, आज हम इसी विवादस्पद प्रक्रिया को जानें-

रेकी क्या है?

रेकी शब्द का अर्थ होता है वैश्विक जीवन उर्जा। विशेषज्ञों की मानें तो कई बार चोट, दर्द या दुःख के कारण शरीर के विभिन्न हिस्सों में उर्जा रुक जाती है। ऐसे में बीमारी जन्म लेने लगती है। रेकी एक तरह की उर्जा दवा है जो ऐसे स्थानों से रुकावटों को दूर कर उर्जा का प्रवाह सुगम करती है।

रेकी प्रक्रिया में क्या होता है?

इस प्रक्रिया को एक शांत वातावरण में किया जाता है। रोगी टेबल पर लेटता है या एक चिर पर बैठता है। रोगी के चुनाव के अनुसार संगीत चलाया जा सकता है। विशेषज्ञ सिर से लेकर पैर तरह तक विभिन्न हिस्सों पर कुछ मिनटों के लिए हाथ रखता है। ऐसे में उर्जा का प्रवाह शुरू हो जाता है। कई बार विशेषज्ञ रेकी के दौरान शरीर के हिस्सों का तापमान बढ़ता हुआ पाता है; ऐसे में वह उस हिस्से से हाथ हटा लेता है।

ये प्रक्रिया पंद्रह से नब्भे मिनटों तक चल सकती है।

स्वास्थ्य लाभ 

शरीर की उर्जा जिसे जापान में ची और भारत में प्राण कहा जाता है हम सब के अंदर और आस पास बसती है। रेकी का प्रयोग कर शरीर में तनाव को कम किया जाता है जिससे शरीर की प्राकृतिक क्षतिपूर्ति तेज़ हो सकती है तथा आप भावुक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ हो सकते हैं।

कहा जाता है की यह गहरी नींद लाने, मुश्किलों से निकलने, उदासी खत्म करने और पूरी तरह जीवन जीने में मदद करती है।

रेकी का उपयोग किन स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करने में किया जाता है-

  • कैंसर
  • ह्रदय रोग
  • घबराहट
  • अवसाद
  • तीव्र दर्द
  • बांझपन
  • स्नायु तन्त्र की समस्या
  • मानसिक रोग
  • क्रोहन रोग
  • थकान

रेकी लेने के बाद कई रोगी बेहतर महसूस करते हैं तथा बीमारी से उबरने में आसानी पाते हैं।