शरीर के ऊपरी भाग की स्ट्रैचिंग व कमरदर्द, पीठदर्द से मुक्ति के लिए कीजिए अर्ध उत्तानासन

1254
half-forward-bend-ardha-uttanasana
image credits: Life 'N' Lesson

अर्ध उत्तानासन एक ऐसा आसन है जिसका अभ्यास आपके शरीर और मन को स्वास्थ्य और संतुलन दे सकता है। इस आसन को यह नाम संस्कृत के चार शब्दों से मिला है- अर्ध अर्थात आधा, उत अर्थात गहरा, तान अर्थात खीचना तथा आसन अर्थात मुद्रा। इस तरह यह अपने नाम के अनुसार शरीर के आधे भाग को गहरा खिंचाव देता है।

 

क्या है अर्ध उत्तानासन के अभ्यास की विधि, आइये जानें-

 

  • सीधे खड़े हो जाएं। अब धीरे-धीरे सामने झुकें और अपने पैरों को छूने की कोशिश करें। इस आसन को उत्तानासन कहा जाता है।
  • उत्तानासन में अपनी हथेलियों/उँगलियों से ज़मीन पर हल्का दबाव बनाएं। गहरी सांस लें और अपनी कोहनियों को सीधा करते हुए शरीर के उपरी भाग को जाँघों से दूर ले जाना शुरू करें। इस तरह अपने पिडुभाग और नाभि के बीच जितनी हो सके, दूरी बनाएं।
  • सामने देखें, लेकिन अपनी पीठ या गर्दन पर अनावश्यक दबाव न बनाएँ। इस मुद्रा को कुछ गहरी साँसें लेने तक रोकें। फिर गहरी सांस छोड़ते हुए उत्तानासन में वापस आ जाएँ।
  • अपनी क्षमता के अनुसार इस आसन का अभ्यास करें तथा समय के साथ अवधि बढाएं।

 

अगर आपकी गर्दन में किसी तरह की चोट है तो सिर उठाने की कोशिश न करें। इसके अलावा पीठ और कमर में किसी तरह की तकलीफ होने पर इस आसन का अभ्यास न करें।

अगर आप उत्तानासन में ज़मीन को न छु पाएं तो ब्लॉक्स या पटे (छोटे टेबल) आदि की मदद लेकर इस आसन का अभ्यास करें तथा समय और ज़रूरत के साथ ब्लॉक्स को हटाते रहें।

 

अर्ध उत्तानासन के अभ्यास से आप कई लाभ पा सकते हैं, जिनमें से मुख्य इस प्रकार है-

  • अपने नाम के अनुसार अर्ध उत्तानासन आपके ऊपरी शरीर की स्ट्रेचिंग करता है। इससे इस हिस्से में आए तनाव और जकड़न को हटाया जा सकता है और ऊर्जा का प्रवाह बेहतर किया जा सकता है।
  • यह आसन आपकी पीठ और कमर को मजबूती देता है। नियमित रूप से इस आसन का अभ्यास आपकी पीठ और कमर की तकलीफ गायब कर सकता है और पूरा पोस्चर बेहतर कर सकता है।
  • अर्ध उत्तानासन पेट व् आस-पास के अंगों में रक्त का प्रवाह बेहतर करता है। इस तरह इन अंगों में रक्तप्रवाह बेहतर हो जाता है और कई छोटी-बड़ी बीमारियों से राहत मिलती है।
  • इस आसन का अभ्यास आपके पेट की मांसपेशियों को भी मजबूती देता है। यह पेट की चर्बी गायब कर सुडोल शरीर और बेहतर पाचन की राह आसान बनाता है।
  • अर्ध उत्तानासन का अभ्यास पुरे संकल्प और ध्यान के साथ करने से आपके मन को बेहतर रूप से काम करने की क्षमता मिलती है।