बेहतर नींद के लिए अपनाएं ये उपाय 

140
Image Credits: Israel21c

अच्छे स्वास्थ्य के लिए गहरी नींद की आवश्यकता होती है। रोजाना एक ही समय पर सोने जाना और सुबह पूरी नींद लेकर उठना इसी वजह से एक अच्छी आदत मानी जाती है। पर कई रातें ऐसी भी होती हैं जब आपका दिमाग सक्रीय और विचारों से भरा होता है तथा सोने के लिए बिलकुल तैयार नहीं रहता। अगर ऐसा अक्सर होता है तो यह अनिद्रा का कारण भी बन सकता है।

ऐसा होने पर कुछ साधारण उपाय आपको बेहतर नींद दिला सकते हैं-

बिल भरने का काम बाद में करें 

आपका काम, पैसों की आवाजाही, बिल का भुगतान आदि तनावभरी बातें आपके विचारों को तेज़ कर सकती है। रात में इन्हें न संभालें; अगले दिन सुबह उठकर इन्हें निपटाने का संकल्प करें और बिस्तर पर पहुंचें। इस समय डरावनी पिक्चर, एक्शन मूवी और यहाँ तक की न्यूज़ को भी बंद कर दें। ऐसी चीज़ों को देखें जो आपके दिमाग को शांत करे।

टू डू लिस्ट बनाएं 

बहुत सारा काम बाख गया है तो रात में सोना मुश्किल हो सकता है। अगले दिन किये जाने वाले कामों की एक सूचि बनें और इसे बहर टेबल के पास या किचन में फ्रिज पर लगाएं। इस सूचि में सबसे प्राथमिक काम को सबसे उपर की जगह दें। इस तरह सोने से पहले दिए गये पांच मिनट आपकी नींद और अगले दिन, दोनों को ही बेहतर बना सकते है।

योग निद्रा करें 

अपने शरीर में आए तनाव को खत्म करें और आप पाएँगे की तेज़ी से दौड़ते विचार भी कम होने लगे हैं। बिस्तर पर पीठ के बल लेटें और साँसों के साथ शरीर की एक एक मांसपेशी को ढीला छोड़ते जाएं। आप चाहें तो योद निद्रा का पूरा तरीका गाइडेड मैडिटेशन की मदद से सीख सकते हैं। पैर की उँगलियों से शुरुआत करते हुए सर तक धीरे धीरे हर हिस्से पर ध्यान लगाएं और इसे ढीला छोड़ दें। कुछ ही देर में आपका शरीर और मन तनाव रहित महसूस करने लगेगा।

मन शांत करने के लिए साँसों को धीमा करें 

आपकी साँसें शरीर को नियंत्रित करने का अद्भुत औजार है। अपने मन को शांत करने के लिए गहरी साँसें लेना शुरू करें; धीरे धीरे साँसों को और गहरा करते जाएं। इस दौरान धडकन पर भी ध्यान दें; धीरे धीरे यह भी धीमी होती चली जाएगी। कुछ ही देर में आप गहरी नींद ले पाएंगे।

बेडरूम में कोई स्क्रीन न लेकर जाएं 

आपका फोन, लैपटॉप, कंप्यूटर, टीवी सभी आपकी नींद को बाधित कर सकते हैं। इनसे निकलने वाली नीली तरंगें दिमाग को नींद न आने का संकेत देती है जिससे आप सक्रीय बने रहें। ऐसे में आपकी नींद की आदत में बदलाव आ सकता है। सोने के कमरे में किसी भी तरह की स्क्रीन को न लेकर जाएं। सुबह उठने के लिए एक अलार्म घडी का इन्तेजाम करें और फोन को सुबह की नित्य क्रिया खत्म करने के बाद ही देखें।