काम के साथ मधुमेह को नियंत्रित रखें इन उपायों से

513
Image Credits: dLife

मधुमेह अपने आप में एक ऐसी बिमारी है जिसकी निगरानी और प्रबन्धन में बहुत सटीकता की ज़रूरत होती है। अक्सर इस रोग का पता लगने के बाद हम दिनचर्या में छोटे मोटे बदलाव कर लेते हैं पर समय के साथ यह भी प्रभावी नहीं रह जाते। अगर आप कामकाजी हैं या बेहद व्यस्त रहते हैं तो आपके लिए बदलाव और भी मुश्किल हो सकते हैं।

पर कुछ उपायों को अपनाकर आप यह ज़रूर सुनिश्चित कर सकते हैं की मधुमेह आपके कामकाजी जीवन में समस्या न बने-

सही शुरुआत करें 

दिन की शुरुआत सही करें; भरपूर नींद लें, नाश्ता कभी न छोड़ें तथा बाहर निकलने से पहले एक गिलास पानी पियें। यह आसान से उपाय आपका तनाव कम करेंगे तथा रक्त में शक्कर के स्तर को नियंत्रित रखेंगे।

अपने बॉस को अपनी तरफ करें 

नौकरी पर अक्सर ब्रेक लेना सम्भव नहीं होता है; अक्सर कई मामलों में आपको खाने के लिए भी समय नही दिया जाता। अगर ऐसा आपके साथ है तो अपने बॉस को अपनी समस्या से अवगत करवाएं; आसान तरीका चुनें तथा अपने चिकित्सक से कुछ नोट्स भी लिखवा लें। कानून के अनुसार अपने अधिकार जानना भी आपके बॉस से बात करने में आपकी मदद करेगा।

साथी चुनें 

अपनी समस्या के बारे में सभी को बताना ज़रूरी नहीं, लेकिन आपकी बीमारी को जानने वाला एक दोस्त बहुत मददगार हो सकता है। इस व्यक्ति को बताएं की आपकी दवाएं व् अन्य साधन कहा रखें हैं तथा रक्त में शक्कर कम हो जाने पर क्या लक्षण देखे जा सकते हैं। यह साथी मुश्किल समय में आपकी मदद कर सकता है।

खाने की तलब से लड़ें 

ऑफिस में होने वाली पार्टीज और लंच का बंटवारा अक्सर आपको मीठे और लज़ीज़ आहारों के सामने ला सकता है। ऐसे समय में न कहने की हिम्मत बनाए रखें। साथ ही खाने की तलब के लिए तैयार रहें; हमेशा अपने पास कुछ स्वादिष्ट पर सेहतवर्धक स्नैक्स रखें और इनकी थोड़ी मात्रा ही खाएं।

समझदारी से स्नैक्स लें 

दोपहर में रक्त में शक्कर का स्तर गिरने लगता है; इसके लिए तैयार रहें। अपने टिफ़िन में भरपूर सब्जियां और कार्ब्स रखें, प्रोटीन के स्रोत साथ रखें तथा सूखे मेवों से अच्छी वसा को की पास रखने का प्रयत्न करें। आप कम शक्कर की आइस्ड टी या ग्रीन टी भी ले सकते हैं।

व्यायाम के लिए समय निकालें 

अगर आपका काम एक ही जगह बैठने की शर्त रखता है तो नियम में थोडा व्यायाम भी शामिल करें। हर आधे घंटे में टहलने के लिए उठें। ब्रेक में थोड़ी स्ट्रेचिंग करें या ऑफिस में उपलब्ध जिम का उपयोग करें।

इमरजेंसी की भी सोचें 

हमेशा ऐसे साधन पास रखें को लो सुगर होने पर आपकी मदद करेंगे। इन्हें अपने टेबल में रखें या लाकर व्यवस्था होने पर वहा रखें। लोगों को बताएं की इसे उपयोग कैसे किया जाता है। साधनों के साथ इन्हें उपयोग करने के तरीके बताता हुआ एक नोट रख दिया जाए तो और भी बेहतर होगा।

जानें जांच कब होनी है 

अपने चिकित्सक से पूछें की रोजाना किस समय रक्त की जांच की जानी चाहिए। इस समय के बारे में अपने बॉस को भी बताएं ताकि आपको ज़रूरी वक्त और जगह दी जा सके।

नियम के आदि बनें 

मधुमेह होने पर आपको अक्सर चिकित्सक के पास जाना होगा। इसके लिए आपको अपने समय को प्रबंधित रखने की ज़रूरत होगी। ऐसे दिनों का अपॉइंटमेंट लें जब ऑफिस में कम काम हो या छुट्टियाँ हों। कहीं घुमने जाने से पहले भी एक बार चिकित्सक से जांच करवा लें।