आयुर्वेद से पाएं जीवन शक्ति 

163
Image Credits: Vitality junkie


सह नाववतु। सह नौ भुनक्तु।
सह वीर्यं करवावहै।
तेजस्वि नावधीतमस्तु
मा विद्विषावहै।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

आयुर्वेद चेतना पर आधारित विज्ञानं है जिसके अनुसार सकरात्मक तरंगें हमेशा अच्छा स्वास्थ्य ही प्रदान करती हैं। आयुर्वेद हमेशा अध्यात्म की ओर लोगों को बढाता है तथा मानता है की स्वास्थ्य अध्यात्मिक होने का परिणाम है। 

आप स्वयम भी यह महसूस करते होंगे आपके विचार, भावनाएं और इन्द्रियों के अनुभव आपके स्वास्थ्य पर गहरा असर डालते हैं। ऐसे में आइये जानें, कैसे आयुर्वेद के ये सुझाव आपको जीवन शक्ति का वरदान दे सकते हैं-

सकरात्मक भाव रखें 

हम रोजाना के अनुभव नहीं चुन सकते लेकिन इनसे जुडी भावनाओं को ज़रूर चुन सकते हैं। परिस्थिति के सकरात्मक पहलुओं की ओर देखने का अभ्यास रोजाना करें। जल्द ही आप पाएँगे की आप ज्यादा खुश और बेहतर महसूस कर रहे हैं। 

स्वयम को पर्यावरण से जोड़ें 

वर्तमान जीवन में प्रकृति के जीवंत तत्वों से हम दूर हो चुके हैं। लेकिन यह शरीर फिर भी इन्हीं तत्वों से बना है और इनसे प्रभावित होता है। रोजाना का नियम इस तरह तय करें की दिन का कुछ हिस्सा पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु या फिर खुली जगह में बिताया जा सके। आप पहले दिन से ही शरीर में नई उर्जा का संचार महसूस करेंगे तथा सारी थकान और आलस भूल जाएँगे। 

इन्द्रियों पर नियन्त्रण लाएं 

अपनी इन्द्रियों के अनुसार न चलें। जब हम ज़रूरत से ज्यादा इन इन्द्रियों के सुख के लिए कार्य करने लगते हैं तो शरीर में असंतुलन पैदा हो जाता है। इसका पहला लक्षण आपको कमज़ोर मांसपेशियों तथा ख़राब पाचन के रूप में दिखेगा। रोजाना ध्यान का अभ्यास करने से आपको इन इन्द्रियों पर नियन्त्रण पाना आसान हो जाएगा। 

शरीर की सफाई करें 

एक मनुष्य के रूप में हम उर्जा की एक धारा हैं जो प्रकृति और समय के बीच बह रही है। सुखी जीवन के लिए इस उर्जा को साफ़ रखना ज़रूरी है। रोजाना शरीर की बाहरी सफाई के साथ नियम से अंदरूनी सफाई पर भी ध्यान दें। 

शरीर को सक्रीय रखें 

शरीर में बदलाव होना आम बात है। शारीरिक क्रिया शरीर में रक्त प्रवाह सही रखती है तथा उम्र के असर से आपको बचाती है। रोजाना व्यायाम की आदत डालें तथा इसमें सूक्ष्म व्यायाम, कसरत और योग को जगह ज़रूर दें। 

स्वयम को पोषण दें 

शरीर को पोषक आहार दें जो जीवंत उर्जा या प्राण से भरपूर हो। इसके अलावा शतावरी, ब्राह्मी, अश्वगंधा आदि जड़ी बूटियां भी शरीर को बहुत से लाभ देती हैं।