क्या श्रेष्ठ बनने की कोशिश आपकी कार्यक्षमता कम कर रही है?

    96
    Image Credits: Small Business

    काम को पूरी तरह से तथा श्रेष्ठता से करना अच्छी आदत है लेकिन इसके कई नकरात्मक प्रभाव भी है। कई बार श्रेष्ठता की यह आदत लोगों में काम टालने व् तनाव लेने की आदत से जोडकर भी देखि जाती है।

    अगर आपको भी लगता है की काम को श्रेष्ठ तरीके से करना आपकी कार्यक्षमता पर प्रभाव डाल रहा है तो इन उपायों के ज़रिये जीवन में संतुलन लेकर आएं-

    समझें की असफलता जीवन में एक ज़रूरी चरण है 

    हारने से ज्यादा बुरा होता है हारने का डर। हमारे देश के सबसे चहेते राष्ट्रपति डॉक्टर कलाम हो ही ले लें; देश में सबसे ऊँचा पद पाने वाले कलाम के जीवन में एक ऐसा समय भी आया था जब वे अपनी असफलता से बुरी तरह परेशान हो चुके थे और जीवन का अंत करना चाहते थे। लेकिन ऐसे समय में उन्होंने फिर हिम्मत जुटाई और पूरी कोशिश से आगे बढ़े। इस तरह न सिर्फ उन्हें सफल जीवन मिला बल्कि इस देश को भी परमाणु शक्ति और कई अनगिनत अविष्कार मिले।

    उन्हें यह सब पाने के लिए परफेक्ट नहीं होना था, बस वह करना था जो उनका दिल चाह रहा था। इस राह में आई हार के डर पर जीत पाना ही उन्हें पहले से कहीं ज्यादा ताकतवर बना गया।

    व्यवहार के साथ प्रयोग करें 

    अगर किसी भी ईमेल को भेजते हुए उसे आप पांच बार पढ़ते हैं तो इस आदत को दो बार तक सीमित कर दें। अपने व्यवहार के साथ ऐसे प्रयोग आपको खुद पर नियन्त्रण और संतुलन देंगे।

    ऐसे ही काम में खतरनाक स्तर की श्रेष्ठता को ढूंढें और इसमें बदलाव करें। जल्द ही आप पाएँगे की कम कोशिश में भी काम किया जा सकता है तथा आपके पास अन्य कार्यों के लिए बहुत सा समय बच गया है।

    जानें की शुरुआत कहा से है 

    श्रेष्ठता की यह आदत कहा से आती? यह जगह है आपके अंदर बसा डर जो चीज़ों को हमेशा सुरक्षित और आसान देखना चाहता है। हो सकता है आपकी आदत के चलते अब आपको डर की आदत हो गयी हो लेकिन यह फिर भी सही नहीं है।

    साथ ही दर सिर्फ एक संकेत है, अपने आप में अनुभव नहीं। यह आपके उपर है की कब आप इसके आधार पर फैसले लेना चाहते हैं और कब नहीं। अगर अपने दर पर आप जीत हासिल कर लेते हैं तो जल्द ही जीवन में एक नया संतुलन पाएंगे।

    दृष्टि साफ़ करें 

    श्रेष्ठ होना ज़रूरी है लेकिन हर काम में नहीं। ऐसी कोशिश हमारे जीवन से महत्वपूर्ण समय चुरा लेती है तथा घबराहट और डर को जन्म देती है। इसलिए तय करें की आपके जीवन में सबसे महत्वपूर्ण क्या है। इस महत्वपूर्ण बिंदु से जुड़े सभी कार्यों को पूरी शिद्दत से पूरा करें तथा बचे हुए समय में तनाव रहित रहें।

    अच्छा भी अच्छा है 

    बेहतरीन कार्य करना अच्छी बात है; लेकिन जीवन में अक्सर कई सीमाओं के बीच काम करने के बाद भी अगर आप अच्छा काम कर पा रहे हैं तो यह अपने आप में एक उपलब्धी है। ऐसी उपलब्धी को पहचानें और अपनी श्रेष्ठता की आदत को समय और उर्जा की सीमाओं में बांधें।