प्रत्येक भोजन के साथ अंकुरित गेहूं (Wheat Germ) के तेल का इस्तेमाल कर वजन कम करें

4047
wheat-germ-oil-food-benefits-weight-loss
image caption: homepage-inlifepharmapvtl.netdna-ssl.com

अंकुरित गेहूं फाइबर, विटामिन ई और कैल्सियम का प्राकृतिक और समृद्ध स्रोत है। (wheat germ oil benefits for weight loss) हाल में अंकुरित गेहूं को वजन कम करने का एक लोकप्रिय साधन बताया गया है लेकिन आप इसे अपने भोजन में किस तरह शामिल कर सकते हैं? इसके मृदुल स्वाद और प्रकृति के कारण अंकुरित गेहूं के तेल को प्रत्येक भोजन के सैकड़ों रेसिपी में इस्तेमाल किया जा सकता है। हालाँकि अंकुरित गेहूं के तेल के सेवन से आपका वजन चमत्कारिक रूप से कम नहीं होगा लेकिन यह लंबे समय तक स्वस्थ रहने की दिशा में एक और कदम है।

 

1. नाश्ते में अन्य अंकुरित अनाजों के साथ लिया जा सकता है।

 

2. अपनी पसंदीदा स्मूदी में दो-तीन चम्मच अंकुरित गेहूं का तेल मिलाएं। फाइबर और ताजे फल आपके शरीर को स्फूर्ति प्रदान करेंगे जिसकी दोपहर के भोजन से पहले आवश्यकता होती है।

 

3. इसके इस्तेमाल से दोपहर के भोजन के सलाद में कुरकुरेपन और पोषण की वृद्धि करें। ताजी सब्जियां और स्वास्थ्यकारी ड्रेसिंग इस बेमिसाल घटक के अवशोषण में शरीर की मदद करते हैं।

 

4. मध्य दोपहर के नाश्ते के लिए दही के साथ इसे लें। यह नाश्ता आपको दोपहर की सुस्ती से निपटने के लिए प्रोटीन और फाइबर की खुराक देगा।

 

5. पॉपकॉर्न और बादाम के स्वादिष्ट मिश्रण को स्वास्थ्यवर्द्धक बनाने के लिए उसमें अंकुरित गेहूं का तेल मिलाएं।

 

6. पिज्जा बनाने के लिए आटे में अंकुरित गेहूं का तेल मिलाएं जिससे इसके स्वाद के साथ-साथ पोषण में भी वृद्धि होगी। इस आसान बदलाव से आपका डिनर आश्चर्यजनक रूप से फाइबरयुक्त पौष्टिक भोजन बन जाएगा। भारी-भरकम पिज्जा के स्वादिष्ट विकल्प के रूप में रोस्टेड सब्जियों का इस्तेमाल करें।

wheat germ oil side effects

ध्यान दें – 

ग्लूटेन असहिष्णु या ग्लूटेन से एलर्जी वाले लोगों को अंकुरित गेहूं के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसमें ग्लूटेन होता है। कार्बोहाइड्रेट का कम मात्रा में सेवन करने वाले लोग भी अंकुरित गेहूं के सेवन से बचना चाहेंगे क्योंकि एक कप अंकुरित गेहूं में लगभग 60 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है। अंकुरित गेहूं के तेल में ट्राइग्लिसराइड काफी मात्रा में होता है जो एक तरह का फैट है। हृदय रोग से ग्रस्त या जिन लोगों को हृदय रोग का अधिक खतरा है, उनको इसका सेवन संभलकर करना चाहिए क्योंकि ट्राइग्लिसराइड का स्तर ऊंचा होने से स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव होता है।