वीटग्रास जूस हो या पाउडर, कोलेस्ट्रोल व डायबिटीज़ रखे कंट्रोल में

784
wheatgrass-juice-benefits
image credits: www.peteswheatgrass.com

वीटग्रास दुनियाभर में अच्छी सेहत के लिए एक अहम सामग्री बनकर उभरा है। इसे गेंहू के पौधे की ताज़ी पत्तियों से बनाया जाता है तथा रस, पाउडर या सप्लीमेंट के रूप में बेचा जाता है। कई मानते हैं की यह लीवर को साफ़ करने में उपयोगी है वहीं कुछ इसे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने वाला मानते हैं। पर इनमें से ज्यादातर दावे अब तक वैज्ञानिक दृष्टि से प्रमाणित नहीं हैं।

 

पर इसका मतलब यह नहीं है की वीटग्रास के प्रमाणित लाभ नहीं है। आइये जानते हैं हैं इस औषधि को प्रमाणित चिकित्सा पद्धति में किन लाभों के लिए उपयोग किया जाता है-

 

पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट से भरा 

वीटग्रास कई तरह के विटामिन और मिनरल का भंडार है। यह खासकर विटामिन A, C और E से भरपूर है तथा आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम तथा एमिनो अम्ल का स्रोत है।

अपने 17 एमिनो अम्ल में से 8 को शरीर के लिए बेहद ज़रूरी माना जाता है तथा जिन्हें शरीर खुद नहीं बना सकता। यह एंटीऑक्सीडेंट से भी भरपूर है तथा तनाव कम करने में सहायता करता है। वीटग्रास का उपयोग आपको ह्रदयरोग, कैंसर, आर्थराइटिस और दिमागी रोगों से बचा सकता है तथा शरीर की कोशिकाओं को क्षति से बचाता है।

 

कोलेस्ट्रोल 

कोलेस्ट्रोल शरीर में रक्त के गाढ़ापन का ज़िम्मेदार होता है। यह मोम की तरह तत्व है जिसकी ज़रूरत कई तरह के हॉर्मोन के निर्माण में होता है। पर अगर यह शरीर में बढ़ जाए तो कई तरह के ह्रदयरोग हो सकते हैं।

जानवरों पर हुए कई शोध यह दिखाते हैं की वीटग्रास से रक्त में कोलेस्ट्रोल के स्तर होते हैं। दिलचस्प बात यह है की अटरवेस्टनीन नाम की दवा, जिसे शरीर में कोलेस्ट्रोल के बढ़े हुए स्तर को ठीक करने के लिए दिया जाता है, वीटग्रास की तरह ही प्रभाव डालती है।

वीट-ग्रास के गुण, 1 गिलास जूस रखे तमाम रक्त विकारों को दूर

कैंसर की कोशिकाएं खत्म कर सकता है 

एंटीऑक्सीडेंट के ऊचे स्तरों के कारण कई मामलों में वीटग्रास के उपयोग से कैंसर की कोशिकाओं खत्म होती हैं। हाल के शोधों में मुँह के कैंसर को वीटग्रास के उपयोग से 41 प्रतिशत तक कम करने में सफलता मिली है। इतना ही नहीं, एक अन्य शोध में लयूकेमिया की कोशिकाओं को तीन दिन के उपचार से ही 65 प्रतिशत तक कम किया गया। कई पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में भी वीटग्रास से कैंसर के उपचार का उल्लेख है। इसके कैंसर के उपचार के दुष्प्रभावों को कम करने के भी प्रमाण मिलते हैं लेकिन इंसानों पर इसके इस लाभ पर और भी शोध होना बाकी है।

 

रक्त में शक्कर के स्तर संतुलित करे 

रक्त में शक्कर के स्तर के बढने पर सिरदर्द, प्यास, आलस, बार-बार पेशाब आना आदि समस्याएँ हो सकती हैं। इतना ही नहीं, अगर यह समस्या लम्बे समय तक बने रहे तो आप मधुमेह, त्वचा के संक्रमण, देखने में मुश्किल, नसों को क्षति जैसी बीमारियों के शिकार हो सकते हैं।

एक शोध के अनुसार चूहों को वीटग्रास देने से उनके रक्त में शक्कर के स्तर कम देखे गये। एक अन्य शोध में चूहों को 30 दिन तक वीटग्रास का अर्क देने से दीर्घकाल तक शक्कर के स्तरों में कमी देखी गयी। यह प्रमाणित करता है की वीटग्रास रक्त में शक्कर के सेहतमंद स्तर बनाए रखने में मदद करती है।

वीट जर्म आयल, जानिए इसके 8 फायदों को